BJP News

alt
बिहार में एक बार फिर से सियासी हलचल तेज हैं. इसी बीच उपेंद्र कुशवाहा ने एक बार फिर से CM नीतीश पर हमला बोला है. उन्होंने कहा है कि CM नीतीश ने उनका इस्तेमाल किया है.  उपेंद्र कुशवाहा ने बोला हमला  मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) पर हमला बोलते हुए उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि उन्होंने संसदीय बोर्ड का अध्यक्ष बना कर मुझे झुनझुना थमा दिया था. हाल में ही एमएलए, एमएलसी और राज्य सभा के एमपी के चुनाव हुए थे. इस दौरान भी उन्हें कोई सुझाव नहीं लिया गया. पार्टी के प्रति अति पिछड़ा समाज का आकर्षण घटा है. पार्टी लगातार इस बात की अनदेखी कर रही है. वो एमएलसी के पद के नाम पर लॉलीपॉप थमा रहे है. कुशवाहा मार्च, 2017 में अपनी राष्ट्रीय लोक समता पार्टी का विलय करने के बाद जद (यू) में लौटे थे. कुशवाहा ने कहा कि संसदीय बोर्ड के प्रमुख के रूप में उनके पास कोई शक्तियां नहीं हैं. उन्होंने कहा कि यह पद एक तरह का ‘झुनझुना’ है. कुशवाहा ने कहा, ‘‘मैं अतीत में राज्यसभा छोड़ चुका हूं और केंद्रीय मंत्रिपरिषद से भी हट गया था...अगर उन्हें लगता है कि ये मेरे लिए बड़े विशेषाधिकार हैं तो पार्टी मेरे सभी पद वापस ले सकती है और विधान परिषद सदस्य का दर्जा भी छीन सकती है.’’ कुशवाहा ने दावा किया कि 2013 के विपरीत जब जद (यू) ने पहली बार भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से नाता तोड़ा था, ‘‘बिखराव का खतरा अब हमारी पार्टी पर मंडरा रहा है.’’ क्या वह उपमुख्यमंत्री और राजद नेता तेजस्वी यादव के उभार से खतरा महसूस करते हैं, इस सवाल के सीधे जवाब से बचते हुए उन्होंने कहा, ‘‘मुझे यह कहना होगा कि मुख्यमंत्री अपने सार्वजनिक बयानों में यह कहते रहे हैं कि उनके सभी कदम, 2017 में भाजपा के साथ फिर से जुड़ना, पिछले साल अलग होना और महागठबंधन में शामिल होना और यहां तक कि चुनावों में उम्मीदवारों का चयन भी दूसरों के इशारे पर किया गया...वहीं समस्या है. वह अपना निर्णय नहीं ले पा रहे.’’  कुशवाहा ने यह भी दावा किया कि अति पिछड़ा वर्ग का जद (यू) से मोहभंग हो रहा है. भोजपुर जिले में सोमवार को अपने काफिले पर हुए हमले का जिक्र करते हुए कुशवाहा ने आरोप लगाया कि स्थानीय प्रशासन ने मामले को दबाने की कोशिश की और उन्होंने इस मामले में पुलिस महानिदेशक या मुख्य सचिव के व्यक्तिगत हस्तक्षेप की मांग की. (इनपुट: भाषा के साथ)
Jan 31,2023, 12:42 PM IST
Read More

Trending news