Too much time in Toilet Seat: क्‍या आप टॉयलेट में दे रहे हैं ज्‍यादा टाइम, तो आपको ये बीमारी होने का है चांस
trendingNow11410346

Too much time in Toilet Seat: क्‍या आप टॉयलेट में दे रहे हैं ज्‍यादा टाइम, तो आपको ये बीमारी होने का है चांस

Piles symptoms: अगर आप टॉयलेट में ज्‍यादा समय बिताते हैं तो ये आपके लिए खतरे की घंटी है क्‍योंकि कई एक्‍सपर्ट बता चुके हैं इससे लोगों को कई खतरनाक बीमारियों हो सकती है. आप भी जान लीजिए इन बीमारियों के बारे में.  

Too much time in Toilet Seat: क्‍या आप टॉयलेट में दे रहे हैं ज्‍यादा टाइम, तो आपको ये बीमारी होने का है चांस

Toilet Infection: क्‍या आप भी टॉयलेट में मोबाइल ले जाते हैं तो अलर्ट हो जाइए, आप कई बीमारियों को बुलावा दे रहे हैं. जी हां, विशेषज्ञों के मुताबिक अगर आप टॉयलेट में 10 मिनट से ज्‍यादा का समय दे रहे हैं तो ये आपके लिए कई तरह से खतरनाक हो सकता है. शहरी जीवन आज कल बहुत बदल गया है और अधिकतर लोग बॉयोलोजी के मास्‍टर होते हुए भी ऐसी गलतियां कर रहे हैं. टॉयलेट सीट पर 10 मिनट से ज्यादा समय तक बैठने से मलाशय पर दबाव बढ़ सकता है जिसके कारण नसें फट सकती है और इसकी वजह से पाइल्स या बवासीर भी हो सकता है.

जीवाणु करते हैं बीमार 

टॉयलेट के अंदर और टॉयलेट सीट पर कई जर्म्‍स मौजूद रहते हैं जो सफाई के बावजूद भी नहीं जाते हैं. इन्‍हीं जर्म्‍स की वजह से आपको कई खतरनाक बीमारी भी हो सकती है. जब आप पेपर या मोबाइल लेकर टॉयलेट के अंदर जाते हैं तो उसके साथ आपके मोबाइल पर भी कई ऐसे जीवाणु आ जाते हैं और ये बात तो आप जानते ही हैं कि मोबाइल को तो कोई धोया नहीं जा सकता है. इसी वजह से जाने अनजाने में कई बार जीवााणु आपके संपर्क में आ जाते हैं जो आपके लिए लंबी बीमारी का कारण बन सकते हैं.  

बवासीर होने के है चांसेस 

विशेषज्ञों के मुताबिक, जो लोग टॉयलेट सीट पर ज्यादा समय बैठे रहते हैं उनमें बवासीर का खतरा बहुत हद तक बढ़ जाता है. ऐसा इसलिए होता है क्‍योंकि निचले हिस्से की मांसपेशियों पर बहुत देर तक खिंचाव रहता है जो बवासीर की वजह बनता है. 

हाजमा होता है खराब 

जी हां, अगर आप ज्‍यादा देर तक टॉयलेट सीट पर बैठते हैं तो इससे आपके बाउलिंग मूवमेंट पर असर पड़ता है और इसी वजह से आपको कब्‍ज की समस्‍या हो सकती है. इसी वजह से आपका हाजमा भी खराब हो जाता है.    
आपका पाचन तंत्र भी खराब हो सकता है. 

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. जी न्‍यूज हिंदी इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

ये ख़बर आपने पढ़ी देश की नंबर 1 हिंदी वेबसाइट Zeenews.com/Hindi पर

 

Trending news