Memory Loss: बढ़ती उम्र के साथ कितनी याददाश्त कम होना सामान्य है? कैसे काम करता है मेमोरी सिस्टम?
trendingNow11492666

Memory Loss: बढ़ती उम्र के साथ कितनी याददाश्त कम होना सामान्य है? कैसे काम करता है मेमोरी सिस्टम?

Memory System:  यह तय करना हमेशा हमारे ऊपर नहीं होता है कि क्या महत्वपूर्ण है और क्या याद रखा जाना चाहिए. हमारा दिमाग हमारे लिए ऐसा करता है. सामान्य तौर पर, हमारा मस्तिष्क सामाजिक जानकारी (ताजा गपशप) को प्राथमिकता देता है.

(प्रतीकात्मक फोटो)

Amnesia: आप पिछले पांच वर्षों से एक ही रास्ते से काम से घर और घर से काम आ जा रहे हैं. लेकिन हाल ही में, एक दिन अचानक आप अपने रास्ते के एक चौराहे पर रुकते हैं, यह याद करने की कोशिश करते हैं कि आपको अपनी मंजिल तक पहुंचने के लिए बाएं मुड़ना है या दाएं.

रोजमर्रा की जिंदगी में कई मौके हमें इस सवाल में डाल सकते हैं कि क्या स्मृति में कमी सामान्य है, या कहीं यह संज्ञानात्मक गिरावट का संकेत और या फिर डिमेंशिया अथवा मनोभ्रंश की शुरुआत तो नहीं.

हमारी पहली सोच यह हो सकती है कि यह हमारे दिमाग में कमी के कारण है. और यह सच है कि हमारे शरीर के बाकी हिस्सों की तरह, हमारे मस्तिष्क की कोशिकाएं भी उम्र बढ़ने के साथ सिकुड़ती जाती हैं. वे अन्य न्यूरॉन्स के साथ कम संबंध बनाए रख पाती हैं और अन्य न्यूरॉन्स को संदेश भेजने के लिए आवश्यक रसायनों को कम स्टोर कर पाती हैं.

लेकिन सभी मेमोरी लैप्स हमारे न्यूरॉन्स में उम्र से संबंधित परिवर्तनों के कारण नहीं होते हैं. कई मामलों में, प्रभावित करने वाले कारक बहुत छोटे होते हैं, जिनमें थका हुआ, चिंतित या विचलित होना शामिल है.

कभी कभार कुछ भूल जाना सामान्य है
हमारी स्मृति प्रणाली इस तरह से निर्मित होती है कि कुछ हद तक भूलना सामान्य है. यह कोई दोष नहीं है, बल्कि एक विशेषता है. यादें बनाए रखना न केवल हमारे चयापचय को प्रभावित करता है, बल्कि बहुत अधिक अनावश्यक जानकारी हमारी कुछ खास यादों को स्मरण करने को धीमा कर सकती है या उसमें बाधा डाल सकती है.

दुर्भाग्य से, यह तय करना हमेशा हमारे ऊपर नहीं होता है कि क्या महत्वपूर्ण है और क्या याद रखा जाना चाहिए. हमारा दिमाग हमारे लिए ऐसा करता है. सामान्य तौर पर, हमारा मस्तिष्क सामाजिक जानकारी (ताजा गपशप) को प्राथमिकता देता है, लेकिन अमूर्त जानकारी (जैसे संख्या) को आसानी से छोड़ देता है.

स्मृति लोप एक समस्या बन जाती है जब यह आपके सामान्य दैनिक जीवन को प्रभावित करने लगती है. यदि आपको दाएं या बाएं मुड़ना याद नहीं है तो यह कोई बड़ी समस्या नहीं है. हालांकि, यह भूल जाना कि आप गाड़ी क्यों चला रहे हैं, आप कहां जा रहे हैं या यहां तक कि ड्राइव कैसे करें, यह सामान्य नहीं है. यह इस बात का संकेत हो सकते हैं कि शायद कुछ सही नहीं है और इसकी आगे जांच की जानी चाहिए.

फिर हल्की संज्ञानात्मक क्षति होती है
उम्र बढ़ने से जुड़ी स्मृति हानि और स्मृति हानि के बीच के फर्क को हल्की संज्ञानात्मक हानि के रूप में आंका गया है. हानि की डिग्री स्थिर रह सकती है, सुधर या खराब हो सकती है.

हालांकि, यह डिमेंशिया जैसे भविष्य के न्यूरोजेनरेटिव रोग के बढ़ते जोखिम (लगभग तीन से पांच गुना) को इंगित करता है. हर साल, हल्के संज्ञानात्मक हानि वाले लगभग 10-15% लोग डिमेंशिया विकसित करते हैं.

हल्की संज्ञानात्मक हानि वाले लोगों के लिए, सामान्य गतिविधियों को करने की क्षमता समय के साथ धीरे-धीरे और अधिक महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित होती है.

(इनपुट - भाषा)

पाठकों की पहली पसंद Zeenews.com/Hindi - अब किसी और की जरूरत नहीं

Trending news