Piles के कारण उठना-बैठना हुआ मुश्किल? आज ही खाएं इस न्यूट्रिएंट से भरपूर डाइट
trendingNow11819302

Piles के कारण उठना-बैठना हुआ मुश्किल? आज ही खाएं इस न्यूट्रिएंट से भरपूर डाइट

Haemorrhoids: बवासीर के दौरान होने वाला दर्ज काफी असहनीय माना जाता है, इसके लिए कहीं न कहीं हमारी ही कुछ बुरी आदतें जिम्मेदार होती हैं, आइए जानते हैं कि तकलीफ को दूर करने के लिए क्या करना चाहिए. 

Piles के कारण उठना-बैठना हुआ मुश्किल? आज ही खाएं इस न्यूट्रिएंट से भरपूर डाइट

Piles Problem Solution: पाइल्स एक कॉमन प्रॉब्लम है जिसे 'हेमरॉइड्स' (Haemorrhoids) या आम भाषा में 'बवासीर' कहा जाता है.  ये निचले मलाशय के आसपास बढ़ी हुई रक्त वाहिकाकों के कारण होती हैं और गांठ की वजह बन जाती हैं. जिससे तेज दर्द होता है. ज्यादातर मामलों में, ये खुद ब खुद ठीक हो जाता है, लेकिन अगर आपको एनस के आसपास खुजली, पेशाब और मलत्याग के साथ खून आना और असहनीय दर्द सहित इसके गंभीर लक्षण दिखाई देते हैं, तो तुरंत इलाज की जरूरत पड़ सकती है. सर्दी के मौसम में बवासीर के मरीजों को काफी परेशानी होती होती है.

पाइल्स से कैसे पाएं राहत?

विंटर सीजन में जब टेम्प्रेचर गिरता है, तो ब्लड वेसेल्स सिकुड़ जाते हैं और ब्लड फ्लो में रुकावट पैदा हो जाती है. इसके गंभीर लक्षणों को रोकने के लिए बवासीर के रोगियों को अपना खास ख्याल रखना चाहिए. हम आपको कुछ सुझाव दे रहे हैं जिसकी मदद से इस तकलीफ से राहत पाई जा सकती है.

1. फाइबर रिच डाइट लें

फाइबर न सिर्फ डाइजेस्टिव हेल्थ के लिए जरूरी है, बल्कि यह मल त्याग को नियंत्रित करके बवासीर में भी मदद करता है. ये इसलिए आवश्यक है क्योंकि पाइल्स में मल त्याग के दौरान ब्लीडिंग हो सकती है. स्मूद बोवेल मूवमेंट के जरिए दर्द, बेचैनी और रक्तस्राव कम होता है.  इसके लिए आपको अपनी डेली डाइट में फाइबर को शामिल करना होगा. रेशेदार भोजन, साबुत अनाज, फलियां, फल और सब्जियां लें. इसके अलावा खूब पानी पिएं.

2. मसालेदार फूड से करें तौबा
अगर आप पाइल्स के मरीज हैं तो मसालेदार भोजन आपका सबसे बड़ा दुश्मन है, ये न सिर्फ डाइजेशन को खराब करता है बल्कि मल त्याग के रास्ते में परेशानी पैदा करता है. खासकर लाल मिर्च पाउडर से जितना हो सके दूरी बना लें, क्योंकि हमारी आंतों में चिपकर जलन बढ़ता है. आप अपनी डाइट में स्पाइसी और डीप फ्राइड फूड जितना कम शामिल करेंगे बवासीर की परेशानी उतनी ही कम हो जाएगी.

3. जरूरत महसूस होने पर तुरंत टॉयलेट जाएं
कई बार जब हम किसी काम में बिजी होते हैं, या सफर कर रहे होते हैं तो अक्सर यूरिन पास करने या मल त्याग में देरी करने लगते है, ये एक बहुत ही बुरी आदत है. नेचर्स कॉल को रोकने से कई तरह की परेशानियां पेश आ सकती है, खासकर जिन लोगों को पाइल्स है उनके रेक्टल मसल्स ढीले हो जाते हैं जो तकलीफ बढ़ा सकते हैं.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी घरेलू नुस्खों और सामान्य जानकारियों पर आधारित है. इसे अपनाने से पहले चिकित्सीय सलाह जरूर लें. ZEE NEWS इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

Trending news