जोया अख्तर ने नेपोटिज्म पर दिया जवाब, बोलीं- 'आप कौन होते हैं मुझे बताने वाले...'
trendingNow12003012

जोया अख्तर ने नेपोटिज्म पर दिया जवाब, बोलीं- 'आप कौन होते हैं मुझे बताने वाले...'

Zoya Akhtar on Nepotism: जोया अख्तर ने नेपोटिज्म की बहस पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की. उन्होंने कहा, "आप मुझे यह बताने वाले कौन होते हैं कि मुझे मेरे पैसे का क्या करना है?  यह मेरा पैसा है!" बता दें कि जोया अख्तर की फिल्म 'द आर्चीज' में सुहाना खान, अगस्त्य नंदा और खुशी कपूर के होने के बाद से ही नेपोटिज्म की बहस शुरू हो गई थी.

नेपोटिज्म की बहस पर खुलकर बोलीं जोया अख्तर

Zoya Akhtar on Nepotism: निर्देशक जोया अख्तर ने अपनी हालिया रिलीज फिल्म 'द आर्चीज' के लिए शाहरुख खान की बेटी सुहाना खान, बॉनी कपूर की बेटी खुशी कपूर और अमिताभ बच्चन के नाती अगस्त्य नंदा की कास्टिंग का बचाव किया. जब से इस प्रोजेक्ट का ऐलान किया गया था, तब से ही नेपोटिज्म को लेकर लगातार बहस चल रही थी. नेपोटिज्म के इस बवाल पर अब जोया अख्तर ने भी अपनी चुप्पी तोड़ दी है.

'द जगरनॉट' के साथ एक इंटरव्यू में जब जोया अख्तर से नेपोटिज्म की बहस के बारे में पूछा गया तो डायरेक्टर ने कहा, ''मुझे लगता है कि बहस जिनके पास कुछ है और जिनके पास कुछ नहीं है के बारे में है. यह विशेषाधिकार, पहुंच और सामाजिक पूंजी के बारे में है. मैं इस तथ्य पर क्रोध या हताशा को पूरी तरह से समझती हूं कि आपके पास वह पहुंच नहीं है जो कुछ लोगों को इतनी आसानी से मिल जाती है. यह एक बातचीत होनी चाहिए. हर किसी को समान प्रकार की शिक्षा, नौकरी के अवसर आदि की आवश्यकता है, लेकिन जब आप पलटते हैं और कहते हैं कि सुहाना खान को मेरी फिल्म में नहीं होना चाहिए, तो यह साधारण बात है क्योंकि इससे आपकी जिंदगी में कोई बदलाव नहीं आएगा चाहे वह मेरी फिल्म में हो या नहीं. आपको इस बारे में बात करनी होगी कि आपके जीवन में क्या बदलाव आने वाला है.''

'अपने पिता को अस्वीकार कर दूंगी, क्योंकि मैं एक फिल्ममेकर बनना चाहती हूं?'
जोया ने अपने पिता जावेद अख्तर का उदाहरण भी लिया और कहा, "मेरे पिता कहीं से आए और उन्होंने अपने लिए जीवन बनाया. मैं फिल्मी दुनिया में पैदा हुई और पली-बढ़ी, और मैं जो करना चाहती हूं उसे करने का मुझे पूरा अधिकार है. जैसा कि उनके नेटवर्क का हिस्सा और जो उन्होंने बनाया. मैं उन लोगों को जानती हूं. मैं क्या करने जा रही हूं, अपने पिता को अस्वीकार कर दूंगी, क्योंकि मैं एक फिल्ममेकर बनना चाहती हूं? क्या आप कह रहे हैं कि मैं अपना पेशा नहीं चुन सकती? इसका कोई मतलब नहीं है."

'यह बिल्कुल ऐसा है, जैसे सांप निकल गया और लकीर पीटते रहिए'
जोया अख्तर ने आगे कहा, ''वास्तविक समस्या कुछ और है. और यह बिल्कुल ऐसा है, जैसे सांप निकल गया और लकीर पीटते रहिए... इससे कुछ नहीं होने वाला है. यदि फिल्म इंडस्ट्री में पैदा हुआ हर बच्चा कभी फिल्म में काम नहीं करता है, तो भी यह आपके जीवन को नहीं बदलेगा... नेपोटिज्म तब होता है जब मैं जनता का पैसा या किसी और का पैसा लेती हूं या अपने दोस्तों और परिवार का पक्ष लेती हूं. जब मैं अपना पैसा खुद लगा रही हूं तो नेपोटिज्म नहीं हो सकता!''

 
 
 
 

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by Zoya Akhtar (@zoieakhtar)

'आप कौन होते हैं मुझे बताने वाले कि मुझे मेरे पैसे का क्या करना है?'
जोया अख्तर ने कहा, ''आप कौन होते हैं मुझे बताने वाले कि मुझे मेरे पैसे का क्या करना है? यह मेरा पैसा है! अगर कल मैं अपना पैसा अपनी भतीजी पर खर्च करना चाहूं तो यह मेरी समस्या है! अंत में, यदि किसी निर्देशक या अभिनेता को दूसरी नौकरी मिलती है, तो यह पूरी तरह से दर्शकों पर निर्भर है. वे तय करते हैं कि वे उन्हें देखना चाहते हैं या नहीं.''

बता दें कि जोया अख्तर के निर्देशन में बनी 'द आर्चीज' नेटफ्लिक्स पर 7 दिसंबर को रिलीज हो गई है. फिल्म में सुहाना खान, अगस्त्य नंदा और खुशी कपूर के अलावा वेदांग रैना, मिहिर आहूजा, अदिति डॉट सहगल और युवराज मेंडा भी हैं.

Trending news