Bishan Singh Bedi Death Reason: धारदार स्पिन, कमाल की कप्तानी...चला गया पिच पर बल्लेबाजों को नचाने वाला 'सूरमा'
trendingNow11927800

Bishan Singh Bedi Death Reason: धारदार स्पिन, कमाल की कप्तानी...चला गया पिच पर बल्लेबाजों को नचाने वाला 'सूरमा'

Bishan Singh Bedi News: 25 सितंबर 1946 को अमृतसर में जन्मे बिशन सिंह बेदी ने साल 1966 में इंटरनेशनल क्रिकेट की शुरुआत की थी. उनका क्रिकेट करियर साल 1979 तक चला. स्पिन गेंदबाजी में बेदी को फ्लाइट, स्पिन और बॉलिंग में वेरिेएशन के लिए जाना जाता था. 

Bishan Singh Bedi Death Reason: धारदार स्पिन, कमाल की कप्तानी...चला गया पिच पर बल्लेबाजों को नचाने वाला 'सूरमा'

Bishan Singh Bedi Death: स्पिन के जादूगर और टीम इंडिया के पूर्व कप्तान बिशन सिंह बेदी का सोमवार को अचानक निधन हो गया. 77 साल के बिशन सिंह बेदी लंबे वक्त से बीमार चल रहे थे. उनके अचानक निधन से क्रिकेट जगत स्तब्ध है. दिग्गज उनको श्रद्धांजलि दे रहे हैं. साल 1967 से 1979 तक बिशन सिंह बेदी ने 67 टेस्ट मैच खेले और 266 विकेट चटकाए. इतना ही नहीं उन्होंने 10 वनडे मैचों में 7 विकेट लिए. 

इरापल्ली प्रसन्ना, बीएस चंद्रशेखर, ए वेंकटराघवन और बेदी की चौकड़ी ने भारतीय स्पिन बॉलिंग के इतिहास में नई क्रांति ला दी थी. भारत की पहली वनडे जीत में उनका शानदार योगदान था. साल 1975 के वर्ल्ड कप में उनके 12-8-6-1 वाली मैजिकल बॉलिंग ने ईस्ट अफ्रीका को 120 रनों पर रोक दिया था. भारत ने 123 रन बनाकर यह मैच जीत लिया था.

1967 में शुरु हुआ था करियर

25 सितंबर 1946 को अमृतसर में जन्मे बिशन सिंह बेदी ने साल 1967 में इंटरनेशनल क्रिकेट की शुरुआत की थी. उनका क्रिकेट करियर साल 1979 तक चला. स्पिन गेंदबाजी में बेदी को फ्लाइट, स्पिन और बॉलिंग में वेरिेएशन के लिए जाना जाता था. 

इंग्लैंड के खिलाफ साल 1971 की सीरीज में मिली ऐतिहासिक जीत में उनका नेतृत्व बेजोड़ था. जब इस सीरीज में कप्तान अजीत वाडेकर चोट के कारण टीम से बाहर थे, तब उनको कमान सौंपी गई थी. इस दौरान उन्होंने टीम को एक नई धार दी थी.

फर्स्ट क्लास क्रिकेट में भी मचाया था धमाल

इंटरनेशनल क्रिकेट के साथ-साथ डोमेस्टिक क्रिकेट में भी बेदी का प्रदर्शन बेहद उम्दा रहा. उन्होंने दिल्ली के लिए घरेलू क्रिकेट खेला और फर्स्ट क्लास क्रिकेट में उन्होंने 370 मैचों में 1560 विकेट्स झटके.

साल 1990 में न्यूजीलैंड और इंग्लैंड दौरे के समय वह टीम इंडिया के मैनेजर थे. बेदी टीम इंडिया के नेशनल सिलेक्टर भी रह चुके हैं. मुरली कार्तिक और मनिंदर सिंह जैसे प्रतिभाशाली स्पिनर्स ने उनकी छाया में रहकर स्पिन के गुर सीखे. 

साल 1979 में बेदी ने अगस्त-सितंबर में इंग्लैंड में आखिरी टेस्ट मैच खेला था. उनका पहला वनडे उन्होंने 13 जुलाई 1974 को इंग्लैंड के खिलाफ लॉर्ड्स के ऐतिहासिक मैदान पर खेला था. जबकि 16 जून 1979 को श्रीलंका के खिलाफ उन्होंने अपना आखिरी वनडे मैच खेला था. रिटायरमेंट के बाद वह क्रिकेट से जुड़े मुद्दों पर बेबाक राय रखते थे. बॉलीवुड अभिनेता अंगद बेदी उनके बेटे हैं. वह टाइगर जिंदा है जैसी फिल्मों और अन्य वेबसीरीज में नजर आ चुके हैं. अंगद बेदी की पत्नी बॉलीवुड अभिनेत्री नेहा धूपिया हैं.  

Trending news