समलैंगिक विवाह को लेकर केंद्र सरकार ने SC में दायर किया हलफनामा, कहा- कोर्ट नई संस्था नहीं बना सकता
Advertisement
trendingNow11655995

समलैंगिक विवाह को लेकर केंद्र सरकार ने SC में दायर किया हलफनामा, कहा- कोर्ट नई संस्था नहीं बना सकता

Same-Sex Marriage: केंद्र सरकार ने नई एप्लीकेशन सुप्रीम कोर्ट में दाखिल कर इस बारे में दायर याचिकाओं की मेंटेनेबिलिटी पर सवाल उठाए है और कहा है कि इस पर कोई फैसला लेना विधायिका का काम है, कोर्ट का नहीं.

समलैंगिक विवाह को लेकर केंद्र सरकार ने SC में दायर किया हलफनामा, कहा- कोर्ट नई संस्था नहीं बना सकता

Same-Sex Marriage: केंद्र सरकार ने समलैंगिक विवाह (Same-Sex Marriage) को लेकर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) से मान्यता देने की मांग को लेकर दायर याचिकाओं को खारिज करने की मांग की है. केंद्र सरकार ने नई एप्लीकेशन सुप्रीम कोर्ट में दाखिल कर इस बारे में दायर याचिकाओं की मेंटेनेबिलिटी पर सवाल उठाए है और कहा है कि इस पर कोई फैसला लेना विधायिका का काम है, कोर्ट का नहीं.

लोकतांत्रिक इच्छा को नकारा नहीं जाना चाहिए: सरकार

केंद्र सरकार (Centre Govt) ने कहा है कि विधायिका की अंततः जवाबदेही नागरिकों के प्रति है. पर्सनल लॉ के मामलों में भी विधायिका जनता की इच्छा के अनुसार कार्य करने के लिए बाध्य है. सामाजिक सहमति विवाह की जिस विशेष परिभाषा का समर्थन करती है, विधायिका विवाह के उसी रूप को स्वीकृति देकर लोगों की इच्छा का पालन करने के अपने कर्तव्य को पूरा कर रही है. किसी अदालती आदेश द्वारा इस स्पष्ट लोकतांत्रिक इच्छा को नकारा नहीं जाना चाहिए.

मौजूदा स्थिति में नहीं किया जा सकता परिवर्तन: केंद्र

केंद्र सरकार (Centre Govt) का कहना है कि यह माना जाता है कि कानून बनाने के मामले में संसद को पता होता है कि लोगों के सर्वोत्तम हित में क्या है और पर्सनल लॉ के मामले में यह बात और ज्यादा लागू होती है. कोई भी नया फैसला कितना भी नेकनीयत से क्यों न लिया गया हो, ऐसा नहीं लगना चाहिए कि वह इस मूल सिद्धांत का उल्लंघन कर रहा है. न्यायिक आदेश से मौजूदा स्थिति में परिवर्तन नहीं किया जा सकता है और किसी भी बदलाव का सबसे उचित तरीका विधायिका द्वारा लिया गया निर्णय होगा.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले ताज़ा ख़बर अभी पढ़ें सिर्फ़ Zee News Hindi पर | आज की ताजा ख़बर, लाइव न्यूज अपडेट, सबसे ज़्यादा पढ़ी जाने वाली सबसे भरोसेमंद हिंदी न्यूज़ वेबसाइट Zee News हिंदी |

Trending news