UAE की जेलों से 900 कैदियों की होगी रिहाई; एक मुस्लिम व्यवसायी ने 2.5 करोड़ रुपये दिया दान
Advertisement

UAE की जेलों से 900 कैदियों की होगी रिहाई; एक मुस्लिम व्यवसायी ने 2.5 करोड़ रुपये दिया दान

UAE News: उनका लक्ष्य 2024 में 3,000 से ज्यादा कैदियों की रिहाई की करना है. मर्चेंट की मदद को शासकों ने मान्यता दी है, साथ ही उनकी उदारता ने उन्हें संयुक्त अरब अमीरात के सीनियर सरकारी अधिकारियों ने भी तारीफ की है.

UAE की जेलों से 900 कैदियों की होगी रिहाई; एक मुस्लिम व्यवसायी ने 2.5 करोड़ रुपये दिया दान

UAE News: संयुक्त अरब अमीरात मौजूद एक भारतीय व्यवसायी ने खाड़ी देश की जेलों से 900 कैदियों की रिहाई सुनिश्चित करने के लिए 1 मिलियन दिरहम (लगभग 2.5 करोड़ रुपये) का दान दिया है. 66 साल फ़िरोज़ मर्चेंट, जो प्योर गोल्ड ज्वैलर्स के मालिक हैं, उन्होंने संयुक्त अरब अमीरात के अधिकारियों को पैसा दान किया, जो पाक महीने के मानवता के संदेश का एक सबूत है.

बयान जारी कर दी जानकारी
उनके कार्यालय से एक बयान में कहा गया, "दुबई मौजूद प्रमुख भारतीय व्यवसायी और प्योर गोल्ड के व्यापारी फिरोज मर्चेंट ने अरब देश की जेलों से 900 कैदियों की रिहाई सुनिश्चित करने के लिए करीब 2.25 करोड़ रुपये (एईडी 1 मिलियन) का दान दिया है." साल 2008 में स्थापित द फॉरगॉटन सोसाइटी पहल के तत्वावधान में मर्चेंट ने 2024 की शुरुआत से संयुक्त अरब अमीरात में 900 कैदियों की रिहाई में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, जिसमें अजमान के 495 कैदी, फुजैराह के 170 कैदी, दुबई के 121 कैदी और 69 कैदी शामिल हैं. उम्म अल क्वैन के कैदी और रास अल खैमा के 28 कैदी.

इतने कैदियों की हो चुकी है रिहाई
संयुक्त अरब अमीरात की केंद्रीय जेलों के पुलिस महानिदेशकों के साथ मिलकर मर्चेंट पिछले कुछ सालों में मुख्तलिफ संप्रदायों, राष्ट्रीयताओं और धर्मों के 20,000 से ज्यादा कैदियों की रिहाई कराने में सफल हो चुके हैं. वह उनका कर्ज चुकाता है और उनके गृह देश वापस जाने के लिए उनके हवाई टिकटों के लिए धन दान करते हैं. मर्चेंट का कहना है कि उन्होंने इस मिशन को इस बात को ध्यान में रखते हुए शुरू किया है कि संयुक्त अरब अमीरात उन्हें अपने परिवारों के साथ फिर से जुड़ने का दूसरा मौका देने के लिए सहिष्णुता को प्राथमिकता देता है.

फ़िरोज़ मर्चेंट ने क्या कहा?
उनका लक्ष्य 2024 में 3,000 से ज्यादा कैदियों की रिहाई की करना है. मर्चेंट की मदद को शासकों ने मान्यता दी है, साथ ही उनकी उदारता ने उन्हें संयुक्त अरब अमीरात के सीनियर सरकारी अधिकारियों ने भी तारीफ की है. मर्चेंट ने कहा, "मैं सरकारी अधिकारियों के साथ जुड़ने के लिए बहुत भाग्यशाली हूं. फॉरगॉटन सोसाइटी पहल इस आधार पर आधारित है कि मानवता सीमाओं से परे है. हम उन्हें अपने देश और समाज में अपने परिवार के साथ मेल-मिलाप करने की संभावना प्रदान करने के लिए मिलकर काम करते हैं." 

Trending news