World News: सऊदी अरब के तेल उत्पादन में कटौती के एलान के बाद कच्चे तेल के बढ़े दाम
trendingNow,recommendedStories1/india/rajasthan/rajasthan1725979

World News: सऊदी अरब के तेल उत्पादन में कटौती के एलान के बाद कच्चे तेल के बढ़े दाम

Oil Prices Rise: OPEC की बैठक में सऊदी अरब (Saudi Arab) ने जुलाई से दस लाख बैरल प्रति दिन के हिसाब से कटौती का ऐलान कर दिया है. बता दें कि रूस ने इस बैठक का नेतृत्व किया. इस दौरान पहले की गई कटौतियों को 2024 के अंत तक बढ़ाने की सहमति भी बनी है.

 

सऊदी अरब ने तेल उत्पादन में किया कटौती का एलान.

Oil Prices Rise, World News: वियना (Vienna) में OPEC मुख्यालय में हुई सात देशों की बैठक में सऊदी अरब (Saudi Arab) ने 1 जुलाई से तेल उत्पादन में कटौती की घोषणा की है. इसमें वह दस लाख बैरल प्रति दिन के हिसाब से कटौती करेगा. इस बैठक में पहले की गई कटौतियों को 2024 के अंत तक बढ़ाने की सहमति बनी है.

सोमवार को एशिया के बाज़ार में ब्रेंट क्रूड तेल (brent crude oil) की कीमतें 2.4 प्रतिशत बढ़ोत्तरी के साथ 77 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच गईं. बता दें कि बीते माह ब्रिटेन (Britain) में एक लीटर तेल की कीमत 12 पेंस (pence) यानी लगभग 12 रुपए प्रति लीटर तक गिर गईं थीं. लेकिन रविवार को तेल के गिरते दामों को लेकर Oil उत्पादक देशों के बीच करीब 7 घंटे की बैठक में रूस ने नेतृत्व किया, जिसके बाद यह फैसला लिया गया है.

मंत्री अब्दुलअजीज बिन सलमान ने फैसले को बताया निष्पक्ष

सऊदी के ऊर्जा मंत्री अब्दुलअजीज बिन सलमान (Energy Minister Abdulaziz bin Salman) ने एक पत्रकारों से कहा कि यह हमारे लिए यह एक बड़ा दिन है, क्योंकि समझौता अभूतपूर्व है. उन्होंने नए उत्पादन लक्ष्यों पर कहा कि यह अधिक स्पष्ट और अधिक निष्पक्ष हैं.

अमेरिका और यूरोप में आर्थिक कमजोरी की चिंताएं

अमेरिका और यूरोप में आर्थिक कमजोरी के बारे में चिंताएं हैं, जबकि लोगों की आशा थी कि कोविड-19 प्रतिबंधों से चीन का अस्थायी सुधार अधिक मजबूत होगा. सऊदी अरब OPEC तेल कार्टल में प्रमुख उत्पादक है, जिसने अप्रैल में 1.16 मिलियन बैरल प्रतिदिन की एक चौंकाने वाली कटौती पर सहमति जताई थी. इसके बाद OPEC+ ने अक्टूबर में 2 मिलियन बैरल प्रतिदिन की कटौती की घोषणा की थी. बता दें कि मिडटर्म चुनावों से एक महीना पहले गैसोलीन की कीमतों बढ़ोत्तरी ने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) को परेशान किया था.

इसे समझें बिन सलमान की चुनौती

ताजा रिपोर्ट के अनुसार, इन कटौतियों ने तेल कीमतों में स्थायी बढ़ोतरी नहीं दी. लेकिन बिन सलमान (bin salman) ने अपने इस कदम से कम तेल कीमतों की शर्त पर तेल लेने वालों को स्पष्ट चेतावनी दी है. बता दें कि सऊदी अरब को लगातार उच्च तेल राजस्व की आवश्यकता होती है ताकि वे तेल से दूसरे क्षेत्रों में अर्थव्यवस्था को विस्तारित करने के लिए महत्वपूर्ण विकास परियोजनाओं को पैसे दे सकें.

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (international monetary fund) अनुमान लगाता है कि सौदी अरब को अपनी रचनात्मक खर्च योजनाओं को पूरा करने के लिए 80.90 डॉलर प्रति बैरल की आवश्यकता होती है, जिसमें एक योजनाबद्ध भविष्यवाणीय रेगिस्तानी शहर नियोम शामिल है, जिसकी लागत 500 अरब डॉलर है.

ये भी पढ़े...

ऋतुराज गायकवाड़ की दुल्हनिया उत्कर्षा पवार ने क्यों छुए धोनी के पैर, देखें वीडियो

World Environment Day पर जानें क्यों साल-दर-साल गर्म हो रही है धरती, क्लाइमेट चेंज से कैसे प्रभावित हो रहा है जीवन

Trending news