Barmer news:जिला मुख्यालय पर धूमधाम से मनाया गया विजयदशमी का त्यौहार,रावण दहन व आतिशबाजी समारोह का आयोजन
trendingNow,recommendedStories1/india/rajasthan/rajasthan1929393

Barmer news:जिला मुख्यालय पर धूमधाम से मनाया गया विजयदशमी का त्यौहार,रावण दहन व आतिशबाजी समारोह का आयोजन

Barmer  news : बाड़मेर शहर के आदर्श स्टेडियम में रावण दहन कार्यक्रम व आतिशबाजी समारोह का आयोजन किया गया. जिसमें बाड़मेर नगर परिषद की ओर से बनाये गये 65 फुट का अहंकारी रावण 45 फुट कुंभकरण व 40 फुट मेघदूत को भगवान श्री राम की जोड़ी ने तीर से वध कर उनका दहन किया.

Barmer news:जिला मुख्यालय पर धूमधाम से मनाया गया विजयदशमी का त्यौहार,रावण दहन व आतिशबाजी समारोह का आयोजन

बाड़मेर : बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक विजयदशमी का त्योहार सरहदी बाड़मेर जिले में बड़े ही उत्साह और उमंग के साथ मनाया गया जहां पर बाड़मेर शहर के आदर्श स्टेडियम में रावण दहन कार्यक्रम व आतिशबाजी समारोह का आयोजन किया गया. जिसमें बाड़मेर नगर परिषद की ओर से बनाये गये 65 फुट का अहंकारी रावण 45 फुट कुंभकरण व 40 फुट मेघदूत को भगवान श्री राम की जोड़ी ने तीर से वध कर उनका दहन किया.

वानर सेना भी मौजूद 
 इससे पहले भगवान श्री राम की सवारी व वानर सेना हाई स्कूल मैदान से रवाना होकर बाड़मेर शहर के मुख्य मार्ग से होते हुए आदर्श स्टेडियम पहुंची जहां पर जिला कलेक्टर अरुण पुरोहित व अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक एसपी सिंह ने माल्यार्पण कर तिलक किया और आरती उतारी. इस दौरान हजारों की संख्या में खचाखच भरा स्टेडियम भगवान जय श्री राम के नारों से गूंज उठा.

इसे भी पढ़े : वर्षो की परंपरा को निभाते हुए इस बार भी हुआ रावण दहन, कुंभकर्ण एवं मेघनाद का भी पुतला जलाया

 वही नगर परिषद की ओर से करीब 7 लख रुपए की लागत से 36 प्रकार की अलग अलग रंग बिरंगी आतिशबाजी की गई आतिशबाजी से पूरा आसमान रंग बिरंगा हो गया. स्टेडियम में बैठे लोगों ने आतिशबाजी का जमकर लुफ्त उठाया. वहीं आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर जिला निर्वाचन अधिकारी अरुण पुरोहित ने रावण दहन को देखने आई हजारों की संख्या जनता जनता को मतदान करने की शपथ दिलाई. वहीं प्रशासन ने स्वीप कार्यक्रम के तहत मतदान के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए अलग-अलग प्रकार की रंगोली बनाई गई.

अस्त्र  और शस्त्र की पूजा 
 विजयदशमी का पर्व हर क्षत्रिय के लिए सबसे बड़ा पर्व होता था. यही वह दिन होता था जब 365 दिन उनका साथ निभाने वाले रक्षा और सुरक्षा के आधार अस्त्र और शस्त्र की पूजा की जाती थी.आज भी वह परंपरा निभाई जाती है.आज भी लोग अपने धर में मौजूद अस्त्र- शस्त्र की पूजा करते हैं.

इसे भी पढ़े : इस महीने के आखिरी दिन राहु का दिखेगा असर, इन 4 राशियों का बढ़ेगा बैंक बैलेंस 

 

Trending news