Explainer: हार्दिक पांड्या का फैसला कुछ भी हो, 'ट्रेड' में उनकी चांदी ही चांदी है! ये हैं नियम
trendingNow11979283

Explainer: हार्दिक पांड्या का फैसला कुछ भी हो, 'ट्रेड' में उनकी चांदी ही चांदी है! ये हैं नियम

Hardik Pandya Trade: हार्दिक पांड्या चोट के कारण मैदान से दूर हैं, फिर भी चर्चा में बने हुए हैं. इसका कारण है आईपीएल. ऐसे दावे हैं कि हार्दिक अगले सीजन से पहले गुजरात टाइटंस को छोड़ सकते हैं. वह ट्रेड के जरिए मुंबई इंडियंस में वापसी कर सकते हैं. फैसला कुछ भी हो, उनकी तो चांदी ही चांदी है.

Explainer: हार्दिक पांड्या का फैसला कुछ भी हो, 'ट्रेड' में उनकी चांदी ही चांदी है! ये हैं नियम

Hardik Pandya Trade, IPL 2024 : धाकड़ ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या (Hardik Pandya) फिलहाल चोट के कारण मैदान से दूर हैं, लेकिन चर्चा में बरकरार हैं. इसका कारण है आईपीएल. ऐसे दावे हैं कि हार्दिक आईपीएल के अगले सीजन (IPL-2024) से पहले गुजरात टाइटंस (Gujarat Titans) को छोड़ सकते हैं. वह ट्रेड के जरिए अपनी पुरानी टीम मुंबई इंडियंस (Mumbai Indians) में वापसी कर सकते हैं. फैसला कुछ भी हो, उनकी तो चांदी ही चांदी है.

मुंबई में वापसी की अटकलें

भारत के टी20 कप्तान हार्दिक पांड्या (Hardik Pandya) के बारे में तमाम दावे किए जा रहे हैं कि वह आईपीएल-2024 में गुजरात टाइटंस (Gujarat Titans) के बजाय मुंबई इंडियंस (Mumbai Indians) की जर्सी में नजर आएंगे. आईपीएल ऑक्शन से पहले ही ‘ट्रेडिंग’ में वह गुजरात टाइटंस को छोड़ सकते हैं. हार्दिक अभी तक गुजरात की कप्तानी संभाल रहे हैं. ऐसे में अगर वह मुंबई टीम में जाते हैं तो रोहित शर्मा के नेतृत्व में खेलेंगे या कोई बदलाव होगा, ये देखने वाली बात है. आईपीएल की ‘ट्रेडिंग विंडो’ आज यानी 26 नवंबर को बंद होनी है.

बहुत महंगे पड़ेंगे हार्दिक!

अगर हार्दिक ने फैसला कर ही लिया है तो मुंबई इंडियंस टीम को काफी बड़ी रकम खर्च करनी होगी. मुंबई टीम में रोहित शर्मा (16 करोड़ रुपये) के बने रहने की उम्मीद है, ऐसे में उसे हार्दिक को लेने के लिए पेसर जोफ्रा आर्चर (8 करोड़) और कैमरून ग्रीन (17.5 करोड़) या ईशान किशन (15.25 करोड़) को रिलीज करने के लिए मजबूर होना पड़ सकता है. पांड्या बेहतरीन ऑलराउंडर हैं, इसलिए ग्रीन का मुंबई टीम में रहना मुश्किल दिख रहा है. मुंबई मैनेजमेंट के लिए आर्चर और युवा डेवाल्ड ब्रेविस (3 करोड़) को रिलीज करने की संभावना कम है.

क्या हैं नियम?

आईपीएल को दुनिया की सबसे अमीर क्रिकेट लीग ऐसे ही नहीं कहा जाता है. इस लीग में खिलाड़ी एक झटके में करोड़पति बन जाते हैं. अगर हार्दिक गुजरात को छोड़कर मुंबई में जाते हैं तो करोड़ों की बातचीत होगी. 'ट्रेडिंग फीस' को लेकर मोलभाव हो सकता है, जहां खरीदने वाली फ्रेंचाइजी प्लेयर बेचने वाली फ्रेंचाइजी को ज्यादा राशि का भुगतान कर सकती है. ऐसे में खिलाड़ी को बातचीत में बढ़ाये जाने की राशि का 50 प्रतिशत से ज्यादा का भुगतान नहीं किया जाता है. समझिए कि हार्दिक पांड्या को खरीदने के लिए मुंबई इंडियंस 25 करोड़ रुपये गुजरात को देती है, तो हार्दिक की फीस (15 करोड़) में 10 करोड़ रुपये बढ़े, तब इस पैसे का 50 प्रतिशत (5 करोड़) ही इस ऑलराउंडर को दिया जा सकता है. 

कभी नहीं बताई जाती रकम

खिलाड़ियों की इन 'एक्सचेंज वैल्यूएशन' को कभी सार्वजनिक नहीं किया जाता, और शायद ही कभी आधिकारिक बनाया जाए. यहां तक कि बीसीसीआई को भी केवल ट्रेडिंग नियमों के कारण इसकी जानकारी मिलती है. ऐसे दावे किए जाते हैं कि भारत के कई बड़े खिलाड़ियों जैसे विराट, रोहित की कीमत 15 करोड़ से अधिक है और वे कभी भी ऑक्शन-टेबल पर नहीं पहुंच पाते क्योंकि खिलाड़ी और फ्रेंचाइजी के बीच कीमत पर बातचीत होती है जिसे कभी सार्वजनिक नहीं किया जाता है.

ऐसे भी कर लेती हैं कंपनियां

साल 2012 में क्रिस गेल को रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने रीटेन किया था. गेल का बल्ला तब गरज रहा था. ऐसे में तत्कालीन फ्रेंचाइजी मालिकों ने इस बिग-हिटर को प्रतिस्पर्धा से दूर रखने के लिए कथित तौर पर उनके आईपीएल वेतन की तुलना में बहुत ज्यादा रकम देकर अपनी 'शराब कंपनी' के लिए ब्रांड एंबेसडर के रूप में साइन किया था. अन्य उदाहरणों में, ऐसे खिलाड़ी भी हैं जो नीलामी से मिलने वाली फीस से कम पर किसी फ्रेंचाइजी से जुड़े रहे हैं. स्पिनर सुनील नारायण को 2022 मेगा नीलामी से पहले कोलकाता नाइट राइडर्स द्वारा 6 करोड़ के रूप में बरकरार रखा गया था. 

कमाल हैं हार्दिक

अकेले दम पर मैच का रुख पलटने का माद्दा रखने वाले हार्दिक पांड्या आईपीएल में 7 सीजन तक मुंबई इंडियंस का हिस्सा रहे हैं. उन्हें 2022 के सीजन से पहले ‘रिलीज’ कर दिया गया था जिसके बाद उन्होंने गुजरात टाइटंस टीम की कप्तानी संभाली. हार्दिक ने कप्तानी भी शानदार की और गुजरात टीम को उसके डेब्यू सीजन में ही चैंपियन बनाकर दिखा दिया. हार्दिक ने आईपीएल की इस नई टीम को लगातार दो बार लीग के फाइनल में भी पहुंचाया. पिछले सीजन में भले ही ट्रॉफी नहीं मिली, लेकिन हार्दिक ने नेतृत्व क्षमता का बेहतरीन परिचय दिया.

Trending news