आज गणेश चतुर्थी पर ये है गणपति बप्‍पा को घर लाने का सही समय, पूजा का शुभ मुहूर्त
trendingNow11878021

आज गणेश चतुर्थी पर ये है गणपति बप्‍पा को घर लाने का सही समय, पूजा का शुभ मुहूर्त

Ganesh Chaturthi 2023 Kab hai: आज 19 सितंबर 2023 को गणेश चतुर्थी पर्व पूरे देश में धूमधाम से मनाया जा रहा है. घर, दफ्तर, कारखाने, व्‍यावसायिक प्रतिष्‍ठान, सार्वजनिक स्‍थलों पर गणपति की मूर्ति स्‍थापना करने का शुभ मुहूर्त जान लें. 

आज गणेश चतुर्थी पर ये है गणपति बप्‍पा को घर लाने का सही समय, पूजा का शुभ मुहूर्त

Ganesh sthapana date 2023: हिंदू धर्म में भगवान गणेश को प्रथमपूज्‍य कहा गया है, यानी कि हर पूजा-पाठ, शुभ काम में पहले गणेश जी की पूजा और उनके आह्वान के साथ ही शुरुआत की जाती है. इसके अलावा गणपति को विघ्नहर्ता भी कहा गया है. गणेश जी सुख-समृद्धि के दाता हैं. गणेश उत्‍सव के 10 दिनों में गणपति अपने भक्‍तों के बीच रहकर उनका कल्‍याण करते हैं. आज 19 सितंबर को गणेश चतुर्थी है और इस दिन गणपति की मूर्ति स्‍थापित की जाती है. लोग ढोल-नगाड़ों के साथ गणपति की मूर्ति लाते हैं और फिर विधि-विधान से मूर्ति स्‍थापना की जाती है. 10 दिन तक गणपति की पूजा-अर्चना करने के बाद अनंद चतुर्दशी को गणपति बप्‍पा को विदाई दी जाती है. इस साल 2 दिन गणेश चतुर्थी पड़ने से लोगों में गणपति स्‍थापना के शुभ मुहूर्त को लेकर असमंजस की स्थिति है. 

गणेश स्‍थापना 2023 शुभ मुहूर्त  

हिंदू पंचांग के अनुसार भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि 18 सितंबर की दोपहर 12 बजकर 39 मिनट से प्रारंभ होगी और 19 सितंबर की दोपहर 01 बजकर 43 मिनट पर समाप्त होगी. उदयातिथि के अनुसार 19 सितंबर को ही गणेश चतुर्थी मनाना शुभ है. इसके अलावा आज 19 सितंबर 2023, मंगलवार को रवि योग भी बन रहा है. वहीं 19 सितंबर को गणेश स्थापना का शुभ मुहूर्त सुबह 11 बजकर 01 मिनट से दोपहर 01 बजकर 28 मिनट तक है. इसके पहले सूर्योदय से लेकर 11 बजे तक गणपति की मूर्ति लाना शुभ रहेगा. चूंकि धर्म-शास्‍त्रों के अनुसार गणेश जी का जन्‍म गणेश चतुर्थी के दिन दोपहर में हुआ था इसलिए गणेश स्‍थापना और गणेश पूजा दोपहर तक कर लें. 

ऐसे करें गणेश स्थापना 

घर की उत्‍तर, पूर्व या उत्‍तर-पूर्व दिशा में गणपति की स्‍थापना करें. इसके अलावा घर के बीचोंबीच यानी कि ब्रह्म स्‍थान में भी गणेश जी की मूर्ति स्‍थापित करना शुभ होता है. मूर्ति स्‍थापना के लिए चौकी पर गंगाजल छिड़क कर शुद्ध कर लें. फिर चौकी पर लाल कपड़ा बिछाकर उस पर अक्षत रखें. इसके बाद पूरे भक्ति भाव और गणपति बप्‍पा मोरया के जयकारे के साथ मूर्ति को चौकी पर स्थापित करें. फिर मूर्ति पर गंगाजल छिड़कें. मूर्ति के दोनों ओर रिद्धि-सिद्धि के रूप में एक-एक सुपारी रखें. भगवान गणेश की मूर्ति के दाईं ओर जल से भरा कलश रखें. फिर अक्षत फूल लेकर गणपति बप्‍पा का ध्‍यान करें. भगवान को दूर्बा अर्पित करें फिर ऊं गं गणपतये नम: मंत्र का जाप करें. आखिर में आरती करें. 

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्‍य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. ZEE NEWS इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

Trending news