Sankashti Chaturthi 2022: अखुरथ संकष्टी का दिन है बेहद खास, इन उपायों को करने से बल, बुद्धि और विद्या में होगी बढ़ोतरी
topStories1hindi1477059

Sankashti Chaturthi 2022: अखुरथ संकष्टी का दिन है बेहद खास, इन उपायों को करने से बल, बुद्धि और विद्या में होगी बढ़ोतरी

Akhurath Sankashti Chaturthii 2022: हिंदू धर्म में चतुर्थी तिथि भगवान गणेश को समर्पित है. इस दिन भगवान गणेश की पूजा-आराधना और व्रतत आदि रखा जाता है. इससे प्रसन्न होकर भगवान भक्तों के सभी कष्ट और संकट दूर कर देते हैं. 

 

Sankashti Chaturthi 2022: अखुरथ संकष्टी का दिन है बेहद खास, इन उपायों को करने से बल, बुद्धि और विद्या में होगी बढ़ोतरी

Paush Month Sankashti Chaturthi 2022: पौष माह की शुरुआत 9 दिसंबर, शुक्रवार के दिन से हो रही है. इस माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि संकष्टी चतुर्थी मनाई जाती है. पौष माह में आने वाली चतुर्थी तिथि को अखुरथ संकष्टी चतुर्थी के नाम से जाना जाता है. इस दिन भगवान गणेश और चंद्रमा की पूजा का विधान है. इस दिन गणेश जी की पूजा की जाती है और व्रत रखा जाता है. इस दिन व्रत रखने वाले भक्त चंद्रमा को अर्घ्य देकर ही व्रत का पारण करते हैं. बता दें कि इस बार अखुरथ संकष्टी चतुर्थी व्रत 11 नंवबर 2022 रविवार के दिन मानई जाएगी. 

हिंदू पंचांग के अनुसार इस दिन तीन शुभ योग बन रहे हैं. इस दिन भगवान गणेश की पूजा करने से भक्तों के सभी संकट दूर हो जाते हैं. साथ ही, गणपति की कृपा से उन्हें जीवन में सुख-शांति मिलती है. इस दिन किए गए उपायों से व्यक्ति को बल, बुद्धि और विद्या की प्राप्ति होती है. आइए जानते हैं अखुरथ संकष्टी चतुर्थी का शुभ मुहूर्त और उपायों के बारे में. 

अखुरथ संकष्टी चतुर्थी का शुभ मुहूर्त 2022

हिंदू पंचांग के अनुसार इस बार 11 दिसंबर 2022, रविवार के दिन अखुरथ संकष्टी चतुर्थी 
का व्रत रखा जाएगा. इस दिन शाम 4 बजकर 14 मिनट से लेकर अगले दिन 12 दिसंबर 2022 शाम 06 बजकर 48 मिनट तक है. इस दिन चंद्रमा को अर्घ्य देकर व्रत का पारण किया जाता है. ऐसे में 11 दिसंबर के दिन ही संकष्टी चतुर्थी का व्रत रखा जाएगा. 

अखुरथ संकष्टी चतुर्थी के दिन करें ये उपाय 

- संकष्टी चतुर्थी के दिन 21 गुड़ के लड्डू और 21 दूर्वा गणेश जी को अर्पित करने से व्यक्ति को बिजनेस में लाभ होगा और सफलता मिलेगी. 

- अगर आपके घर में पैसे की बरकत नहीं हो रही है, तो संकष्टी चतुर्थी के दिन भगवान गणेश को गुड़ और घी अर्पित करने से लाभ होगा. ऐसा करने से व्यर्थ के होने वाले खर्चों पर ब्रेक लग जाएगा. 

- संकष्टी चतुर्थी के दिन गणपति की पूजा का विधान है. ऐसे में इस दिन गं गणपतये नमः का 11 बार जाप करने से लाभ होगा. इस मंत्र का जाप करने से व्यक्ति को करियर में सफलता मिलती है. 

- ज्योतिष शास्त्र के अनुसार संकष्टी चतुर्थी के दिन पान के पत्ते पर स्वास्तिक बनाकर भगवान गणेश की पूजा में रख दें. ऐसा करने से व्यक्ति को बीमारियों से छुटकारा मिल जाएगा. 

- अखुरथ संकष्टी चतुर्थी के दिन ऊँ गं गणपतये नमः का कम से कम 108 बार जाप करने से जीवन में सुख-शांति का वास होता है. 

अपनी फ्री कुंडली पाने के लिए यहां क्लिक करें
 

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. ZEE NEWS इसकी पुष्टि नहीं करता है.) 
  

Trending news