trendingPhotos1998398
photoDetails1hindi

चीन इतनी स्‍पीड से बना रहा है परमाणु रिएक्‍टर कि ताकता रह गया अमेरिका, भारत भी पीछे

China Nuclear Power Plant: दुनिया के विकसित देशों के पास न्यूक्लियर रिएक्टर हैं. इस सूची में जापान, अमेरिका, फ्रांस, जर्मनी, रूस चीन और भारत आगे हैं. आईएईए की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 10 वर्षों में चीन ने 37 न्यूक्लियर रिएक्टर बनाए हैं और दावा कर रहा है कि अब वो हर साल आठ रिएक्टर बनाएगा. इन सबके बीच यह भी जानना जरूरी है कि किस देश ने सबसे अधिक रिएक्टर लगाए हैं.

रिएक्टर बनाने में चीन आगे

1/7
रिएक्टर बनाने में चीन आगे

अगर न्यूक्लियर रिएक्टर बनाने की बात करें तो चीन ने अमेरिका, जापान, जर्मनी, फ्रांस और भारत को पीछे छोड़ दिया है. IAEA के मुताबिक पिछले 10 साल में चीन ने जहां 37 रिएक्टर बनाए हैं वहीं अमेरिका और भारत ने महज दो रिएक्टर बनाए हैं. चीन में इस समय कुल परमाणु रिएक्टरों की संख्या 55 है.

अब हर साल 8 रिएक्टर बनाएगा चीन

2/7
अब हर साल 8 रिएक्टर बनाएगा चीन

चीन द्वारा पिछले 10 साल में जो 37 रिएक्टर बनाए हैं. उससे साफ है कि चीन करीब करीब 3.7 रिएक्टर हर साल बनाने में कामयाह हुआ. अब चीन ने हर वर्ष 8 रिएक्टर बनाने का फैसला किया है.अब चीन इतना तेजी से रिएक्टर क्यों बना ले रहा है. दरअसल यहां आसानी से लाइसेंस और सस्ता लोन मिल जाता है.

दूसरे देशों के रिएक्टर पर विरोध

3/7
दूसरे देशों के रिएक्टर पर विरोध

वैसे तो चीन तेजी से रिएक्टर बना रहा है. लेकिन बात जब दूसरे देशों की आती है तो वो विरोध पर उतर जाता है, जापान ने जब फुकुशिमा रिएक्टर से पानी को प्रशांत महासागर में छोड़ा था तो चीन ने ही सबसे अधिक विरोध किया था.

अमेरिका के पास कुल 92 रिएक्टर

4/7
अमेरिका के पास कुल 92 रिएक्टर

अमेरिका में अगर न्यूक्लियर रिएक्टर की बात करें तो यहां पर कुल 92 परमाणु संयंत्र हैं. इसके अलावा पिछले 10 वर्षों में 2 रिएक्टर बनाए हैं. आईएईए के मुताबिक परमाणि ऊर्जा की लागत 5836 रुपए प्रति मेगावाट घंटे कम हो गई है. लेकिन अमेरिका में यह लागत 8754 रुपए प्रति मेगावाट घंटे हैं. 

क्यों चीन से आगे नहीं निकल पा रहा अमेरिका

5/7
क्यों चीन से आगे नहीं निकल पा रहा अमेरिका

पश्चिमी देश खासतौर से अमेरिका में रिएक्टर बनाने में देरी क्यों होती है. जबकि उसके पास पैसे की कमी नहीं है. दरअसल पश्चिमी देशों में रिएक्टर बनाने के लिए लाइसेंस आसानी से हासिल नहीं होता है. इसके अलावा निवेश और कानूनी अड़चनों की वजह से भी रिएक्टर बनाने में देरी होती 

भारत के पास 22 रिएक्टर

6/7
भारत के पास 22 रिएक्टर

अगर बात भारत की करें तो यहां कुल 22 परमाणु संयंत्र हैं. पिछले 10 वर्षों में दो नए रिएक्टर स्थापित किए गए हैं. भारत सरकार का कहना है कि आने वाले 25 वर्षों में ऊर्जा के परंपरागत स्रोतों से निर्भरता कम करनी होगी. सरकार न्यूक्लियर रिएक्टर स्थापित करने की दिशा में आगे बढ़ रही है.

भारत में क्यों हो रही है देरी

7/7
भारत में क्यों हो रही है देरी

भारत में न्यूक्लियर रिएक्टर में देरी के पीछे बड़ी वजह फंड का होना है. इसके साथ ही पर्यावरण संबंधी चुनौतियां है. इसके अलावा परमाणु रिएक्टर चलाने के लिए यूरेनियम ईंधन की जरूरत होती है. जैसा कि हम सब जानते हैं कि यूरेनियम के लिए भारत दूसरे देशों पर निर्भर है. 

ट्रेन्डिंग फोटोज़