बस्सी: सांडों की लड़ाई की चपेट में आई महिला ने इलाज के दौरान तोड़ा दम, दूध लेने डेयरी पर जा रही थी वृद्धा
topStories1rajasthan1451065

बस्सी: सांडों की लड़ाई की चपेट में आई महिला ने इलाज के दौरान तोड़ा दम, दूध लेने डेयरी पर जा रही थी वृद्धा

Bassi, Jaipur News: राजधानी जयपुर से 35 किमी दूर बस्सी क्षेत्र में सांडों के हमले की चपेट में आई महिला ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया है. 65 वर्षीय बुजुर्ग महिला गणगौर देवी पांचाल भी डेयरी पर दूध लेने जा रही थी और इसी दौरान दो सांडों ने महिला को टक्कर मार दी जिससे महिला गम्भीर रूप से घायल हो गई थी.

 

बस्सी: सांडों की लड़ाई की चपेट में आई महिला ने इलाज के दौरान तोड़ा दम, दूध लेने डेयरी पर जा रही थी वृद्धा

Bassi, Jaipur News: राजधानी जयपुर में गत दिनों आवारा सांड की टक्कर से व्यापारी की मौत का मामला अभी थमा नहीं था, कि जिले से 35 किमी दूर बस्सी क्षेत्र के एक गांव में सांडों के हमले से एक महिला की मौत हो गई. जानकारी के अनुसार जटवाड़ा पुलिस चौकी क्षेत्र के टहटड़ा गांव में ठाकुरजी महाराज के मंदिर के समीप सड़क पर तीन आवारा सांड लड़ रहे थे. वहीं एक जने के भोज का कार्यक्रम था और इस दौरान वहां भीड़ भी थी. उस दौरान 65 वर्षीय बुजुर्ग महिला गणगौर देवी पांचाल भी डेयरी पर दूध लेने जा रही थी. 

सड़क पर लड़ रहे सांड लड़ते हुए भाग रहे थे और दो सांडों ने महिला को टक्कर मार दी, इससे महिला गम्भीर रूप से घायल हो गई. घटनास्थल पर मौजूद कई लोगों ने सांडों को वहां से भगाया और महिला को घायला अवस्था में वहां से उठाया. गम्भीर रूप से घायल महिला को दौसा के जिला अस्पताल ले जाया गया, जहां पर इलाज के दौरान महिला ने दम तोड़ दिया और पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया.

आए दिन हो रहे हैं हादसे 
जयपुर-आगरा राष्ट्रीय राजमार्ग पर दौसा से जयपुर तक हाइवे पर आवारा गोवंश दिनभर मंड़राता रहता है. कभी सड़क के बगल से एक ओर से दूसरी ओर तो कभी डिवाडर से सड़क किनारे गोवंश का दिनभर आवागमन रहता है. इससे वाहन चालक हादसे का शिकार होते है. इसी प्रकार गांवों में भी यही हाल है. आज तक इन हादसों को रोकने के लिए ना तो स्थानीय ग्राम पंचायतें कोई कदम उठा रही है और ना ही हाइवे निर्माण कम्पनी कदम उठा रही है. इसी प्रकार बस्सी शहर में भी यही हाल है.

किसान भी है परेशान
आवारा गोवंश दिनभर तो सड़कों पर मंडराता रहता है और रात को खेतों में किसानों की फसलों को नुकसान पहुंचाता है. इन दिनों खेतों में रबी की गेहूं, जौ, सरसों और चने की बम्पर पैदावार है, लेकिन किसान आवारा गोवंश द्वारा किए जा रहे नुकसान से पीड़ित है. रात के समय गोवंश से इनकी रखवाली करते वक्त किसानों को इनके हमले का भी खतरा मंड़राता रहता है.

यह भी पढ़ें - राजस्थान में मानसून की अच्छी बारिश के बाद भी भूजल स्तर गिरा, 302 ब्लॉक में से 219 डॉर्कजोन

लोगों का कहना है कि कुछ लोग अपने गोवंश को आवारा छोड़ देते है और बाहर से कोई आवारा पशु नहीं आते है. महिला को सांड़ों ने टक्कर मार दी, इससे उसकी मौत हो गई. आस-पास कोई गोशाला नहीं है, जहां पर उनको भेजा जा सके.

Reporter: Amit Yadav

खबरें और भी हैं...

Joint Pain in Winter: जोड़ों के दर्द से राहत के ये आसान तरीके जान लेंगे, तो नहीं होंगे सर्दियों में परेशान

राज्यमंत्री जाहिदा खान ने फिर पहनी 51 हजार की माला, विरोध कर रही महिलाओं ने कहा कि गंदे पानी में चल कर बताओ

युवक को बेरहमी से पीटा, फिर सिर के बाल काटे और वीडियो सोशल मीडिया पर कर दिया वायरल

Trending news