Dholpur Election Result: वसुंधरा राजे के गृह जिले में भाजपा का खाता तक नही खुला, साली से फिर हारे जीजा
trendingNow,recommendedStories1/india/rajasthan/rajasthan1994489

Dholpur Election Result: वसुंधरा राजे के गृह जिले में भाजपा का खाता तक नही खुला, साली से फिर हारे जीजा

पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के गृह जिले में भाजपा चारों खाने चित हो गई है. धौलपुर, राजाखेड़ा एवं बसेड़ी में कांग्रेस को शानदार जीत मिली है.

Dholpur Election Result: वसुंधरा राजे के गृह जिले में भाजपा का खाता तक नही खुला, साली से फिर हारे जीजा

Dholpur Election Result: पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के गृह जिले में भाजपा चारों खाने चित हो गई है. धौलपुर, राजाखेड़ा एवं बसेड़ी में कांग्रेस को शानदार जीत मिली है. बाड़ी विधानसभा क्षेत्र में विगत तीन चुनाव से दबदबा बनाए गिर्राज सिंह मलिंगा को जसवंत सिंह गुर्जर बीएसपी के सामने करारी हार का मुंह देखना पड़ा है. जिले की राजनीति का गणित राजनीतिक जानकारों के अनुमान के मुताबिक विपरीत दिशा में गया है. हालांकि वसुंधरा विरोधियों को भाजपा ने टिकट दिया था. इसे लेकर सियासी पंडित भाजपा की हार का जिम्मेदार भितरघात को भी मान रहे है.

विधानसभा चुनाव के परिणामों ने जिले की राजनीति को पूरी तरह से बदल दिया है. शह और मात का खेल विधानसभा चुनाव में पूरी तरह से देखने को मिला है. बात करें भाजपा की तो पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के चहेतों को टिकट नहीं देना बीजेपी को जिले की चारों विधानसभा सीट पर करारी हार की बजह मानी जा रही है. जिले के चारों विधानसभा क्षेत्र में भाजपा प्रत्याशी खुद तक सिमट कर रह गए. लिहाजा सीधा सियासी फायदा कांग्रेस को मिला है.

राजाखेड़ा विधानसभा क्षेत्र में वसुंधरा समर्थक टिकट की दावेदारी कर रहे थे. पूर्व जिला प्रमुख डॉक्टर धर्मपाल सिंह जादौन, नागेंद्र सिंह चौहान एवं बचाराम बघेल वसुंधरा राजे गुट के नेता माने जाते हैं. तीनों नेता टिकट की दावेदारी कर रहे थे. डॉक्टर धर्मपाल सिंह जादौन ने भाजपा से बगावत कर बहुजन समाज पार्टी से टिकट लेकर नामांकन भी दाखिल किया था. लेकिन आला कमान के दवाब की बजह से एन वक्त पर नामांकन वापस ले लिया. उधर आला कमान ने बीजेपी से नीरजा अशोक शर्मा को प्रत्याशी घोषित कर दिया. राजनीतिक जानकारों की माने तो नीरजा अशोक शर्मा चुनावी मैदान में अकेली खड़ी रह गई. जिसका सियासी फायदा कांग्रेस प्रत्याशी एवं विधायक रोहित बोहरा को मिला है.

जीजा साली की टक्कर में साली भारी

धौलपुर विधानसभा क्षेत्र की जीजा साली की सबसे चर्चित सीट रही थी. विगत 2018 के चुनाव की तरह इस बार भी साली शोभारानी कुशवाहा कांग्रेस ने जीजा डॉक्टर शिवचरण कुशवाहा भाजपा को कड़ी टक्कर देकर तीसरे नंबर पर धकेल दिया. धौलपुर सीट पर शोभारानी कुशवाहा कांग्रेस एवं रितेश शर्मा बीएसपी के मध्य मुकाबला रहा है. जीजा डॉक्टर शिवचरण कुशवाहा तीसरे नंबर पर रहे हैं. धौलपुर सीट पर हुई भाजपा की हार की बजह राजनीतिक जानकार भाजपा की अंदरूनी बगावत को देख रहे हैं.

सीधे मुकाबले में मलिंगा हारे

बाड़ी विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस को गिर्राज सिंह मलिंगा का टिकट काटना इतना भारी पड़ा कि कांग्रेस की जमानत जब्त हो गई. गिर्राज सिंह मलिंगा भाजपा एवं जसवंत सिंह गुर्जर के मध्य सीधा मुकाबला देखा गया. कांग्रेस प्रत्याशी प्रशांत सिंह परमार जमानत बचाने में भी नाकाम साबित रहे हैं. बाड़ी सीट पर गिर्राज सिंह मलिंगा भाजपा एवं जसवंत सिंह गुर्जर बीएसपी के मध्य मुकाबला रहा है. जसवंत सिंह गुर्जर ने पुरानी तीन हार का बदला लेते हुए गिर्राज सिंह मलिंगा को हराया आरक्षित सीट बसेड़ी कांग्रेस के लिए सबसे चुनौती पूर्ण एवं गफलत भरी देखी जा रही थी. सचिन पायलट गुट के खिलाड़ी लाल बेरवा ने टिकट कटने के बाद बागी होकर निर्दलीय चुनाव लड़ा था. लेकिन खिलाड़ी लाल बेरवा कांग्रेस के पारंपरिक वोट को काटने में नाकाम साबित रहे है. संजय कुमार जाटव ने जीत दर्ज कर सबको चौकाया है.

Trending news