महेश्‍वर: जहां बार‍िश में पर्यटकों की रहती है भीड़, बाढ़ की वजह से घाटों को क‍िया बंद
trendingNow,recommendedStories1/india/madhya-pradesh-chhattisgarh/madhyapradesh1272960

महेश्‍वर: जहां बार‍िश में पर्यटकों की रहती है भीड़, बाढ़ की वजह से घाटों को क‍िया बंद

ओंकारेश्वर बांध के 18 गेट खोले जाने से नर्मदा नदी में जलस्तर बढ़ा तो इसका असर महेश्‍वर के घाटों पर भी पड़ा जहां बड़ी संख्‍या में पर्यटक बार‍िश के द‍िनों में आते हैं. प्रशासन ने एह‍त‍ियातन अह‍िल्‍या घाट के क‍िले एवं घाटों को पर्यटकों के ल‍िए बंद कर द‍िया है.   

महेश्‍वर के घाट.

राकेश जायसवाल/खरगौन: मध्‍य प्रदेश में हो रही मूसलाधार बार‍िश की वजह से नद‍ियों में बाढ़ का आलम है. बार‍िश में पर्यटकों के ल‍िए स्‍वर्ग महेश्‍वर में भी हालात ब‍िगड़ने की आशंका नजर आ रही है. इसी को देखते हुए नर्मदा नदी में नाव संचालन, श्रद्धालुओं, पर्यटक  नगरवासियों का घाटों पर प्रतिबंध रहेगा. 

आमजनों को अलर्ट क‍िया जा रहा जारी  

इस संबंध में इंदिरा सागर पॉवर स्टेशन के प्रभारी बाढ नियंत्रण प्रकोष्ठ अधिकारी ने इसकी सूचना खंडवा, देवास, खरगोन, बड़वानी, धार एवं हरदा के जिला कलेक्टर्स को दी है ताकि वे नर्मदा नदी के निचले क्षेत्र में जलस्तर के बढ़ोत्तरी जानकारी आमजनों को देकर अलर्ट कर सकें. 

पर्यटकों को घाटों पर जाने से क‍िया मना 

उसी के चलते खरगोन कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम ने महेश्वर किला गेट बंद के साथ नर्मदा नदी में स्नान, घाट क्षेत्र में पर्यटक और नागरिकों से नहीं जाने की अपील की है. नाव के संचालन पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है.  

जन सुरक्षा की दृष्‍ट‍ि से ल‍िया गया न‍िर्णय 

महेश्वर पर्यटन नगरी है जहां पर्यटक भी बारिश के काल में बड़ी संख्या में पहुंचते हैं. जन सुरक्षा की दृष्टि से यह निर्णय लिया गया है. जन सुरक्षा की दृष्टि से यह निर्णय लिए गए है लगातार मुनादी कर निचली बस्ती को भी अलर्ट किया जा रहा है. 

ओंकारेश्वर बांध के 18 गेट खोले जाने से जलस्तर बढ़ा

बता दें क‍ि ओंकारेश्वर बांध के 18 गेट खोले जाने से जलस्तर बढ़ गया है. खरगोन जिले के महेश्वर और बड़वाह में दो मीटर जलस्तर बढ़ गया है. जलस्तर बड़ने से महेश्वर के नर्मदा तट के सभी घाट जलमग्न हो गए हैं.  

राज्य के कई शहरों में बीते 2-3 दिनों से लगातार बारिश हो रही है. प्रदेश में आज बाढ़ का अलर्ट जारी किया गया है. तवा, नर्मदा, क्षिप्रा, बेतवा और पार्वती नदियां उफान पर हैं और इनके किनारे बाढ़ का खतरा है. शिवपुरी के मोहिनी सागर और मड़ीखेड़ा बांध के गेट खोलने से सिंध नदी में जलस्तर बढ़ गया है. खंडवा में इंदिरा सागर बांध के 12 गेट खोलने पड़े हैं. वहीं शिवपुरी में बेतवा नदी उफान पर है.   

इंदौर, भोपाल में भारी बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त, डैम हुए लबालब, इन जिलों में अलर्ट जारी!

 

 

 

Trending news