क्या डायबिटीज से प्रभावित होती है याददाश्त? मैनेज करने के लिए फॉलो करें ये 5 टिप्स
trendingNow11399040

क्या डायबिटीज से प्रभावित होती है याददाश्त? मैनेज करने के लिए फॉलो करें ये 5 टिप्स

Diabetes affect memory: हाल ही एक रिसर्च से पता चला है कि डायबिटीज डिमेंशिया का कारण बन सकता है. इससे यह साबित होता है कि डायबिटीज और याददाश्त कम होने के बीच एक गहरा संबंध है.

प्रतिकात्मक तस्वीर

Diabetes affect memory: दुनिया भर में, टाइप 2 डायबिटीज और संज्ञानात्मक हानि (cognitive impairment) जैसी बीमारियां बहुत आम हैं. हाल के वर्षों में, रिसर्च से पता चला है कि डायबिटीज डिमेंशिया का कारण बन सकता है. हालांकि यह सभी मामला के साथ नहीं होता है. डायबिटीज और याददाश्त के बीच संबंध के बारे में जागरूक होने से सभी को यह समझने में मदद मिल सकती है कि इसका इलाज और रोकथाम कैसे करें.

मधुमेह और संज्ञानात्मक गिरावट के बीच क्या संबंध है?

आपका दिमाग तंत्रिका कोशिकाओं (nerve cells) से बना है, जो शरीर के सारे काम को मैनेज करती है. कुशलता से काम करने के लिए, आपका दिमाग एनर्जी के लिए आपके खून में मौजूद शुगर का उपयोग करता है. एक्सपर्ट के अनुसार, सबसे ज्यादा एनर्जी की मांग करने वाला अंग होने के कारण, यह शरीर में सभी शुगर एनर्जी का आधा हिस्सा ठीक से काम करने के लिए लेता है. और यदि आपका ब्लड शुगर का लेवल सामान्य सीमा से बाहर है, तो यह आपके दिमाग को संतुलन से बाहर कर सकता है. इसलिए जिस तरह से डायबिटीज आपके पैरों, हाथों और आंखों की नसों को प्रभावित कर सकता है, उसी तरह यह आपके दिमाग को भी प्रभावित कर सकता है.

याददाश्त को मैनेज करने के लिए अपनाएं ये 5 टिप्स

1. नियमित स्वास्थ्य जांच करवाएं
बहुत से लोग नहीं जानते कि उन्हें डायबिटीज है या नहीं. डायबिटीज से पीड़ित बहुत से लोग अपने बढ़े हुए ब्लड शुगर के लेवल से भी अनजान होते हैं, जो कि अधिकांश लोगों द्वारा महसूस किए जाने की तुलना में अधिक बार होता है. इसलिए आप अपनी नियमित स्वास्थ्य जांच करवाएं.

2. डाइट में प्रोटीन और फाइबर शामिल करें
प्रोटीन और फाइबर में हाई फूड के साथ कार्बोहाइड्रेट को मिलाकर ब्लड शुगर के लेवल में काफी सुधार किया जा सकता है. इसलिए अगली बार जब आप सादे सफेद पास्ता की प्लेट खाएं तो इसे कुछ सब्जियों और एक कटोरी चिकन डालें. इसके अलावा, मार्केट में मिलने वाले चिप्स के पैकेट के बजाय बादाम के एक बैग लें.

3. ब्लड शुगर के लेवल पर नजर रखें
अपने ब्लड शुगर के लेवल पर नजर रखें और डॉक्टर की उपचार योजना का ध्यानपूर्वक पालन करना सुनिश्चित करें. खराब ब्लड शुगर नियंत्रण बिगड़ती संज्ञानात्मक कार्य से जुड़ा हुआ है. अपने ब्लड शुगर के लेवल को मैनेज करना संज्ञानात्मक गिरावट सहित डायबिटीज की जटिलताओं को रोकने की कुंजी है.

4. ओमेगा -3 फैट और एंटीऑक्सीडेंट में हाई फूड का सेवन करें
दिमाग की सेहत की रक्षा के लिए हेल्दी फूड ओमेगा -3 फैटी एसिड में उच्च होते हैं. वे अल्जाइमर बीमारी को रोकने में भी मदद करते हैं और शरीर में सूजन को कम करके संज्ञानात्मक हानि को धीमा करते हैं. फैटी फिश जैसे सैल्मन, टूना और मैकेरल के साथ-साथ मेवा और बीज जैसे चिया सीड्स, अलसी, अखरोट और अलसी का तेल का सेवन करें. इसके अतिरिक्त, आपकी डाइट में फल, सब्जियां, मसाले और जड़ी-बूटियां एंटीऑक्सिडेंट का एक अच्छा सोर्स हैं.

5. नियमित व्यायाम
नियमित शारीरिक गतिविधि टाइप 2 डायबिटीज की प्रगति को रोकने या देरी करने में मदद करती है. इसके अलावा, यह इंसुलिन सेंसिटिविटी, ब्लड प्रेशर और A1C लेवल को पॉजिटिव रूप से प्रभावित कर सकता है.

Disclaimer: इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है. हालांकि इसकी नैतिक जिम्मेदारी ज़ी न्यूज़ हिन्दी की नहीं है. हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें. हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है.

Trending news