Adipurush: भगवान राम को क्‍यों कहा गया है 'आदिपुरुष', किसने दिया था यह नाम?
trendingNow11690192

Adipurush: भगवान राम को क्‍यों कहा गया है 'आदिपुरुष', किसने दिया था यह नाम?

Adipurush Jai Shri Ram: आदिपुरुष ट्रेलर ने सोशल मीडिया पर इस समय धूम मचाई हुई है. भगवान श्रीराम पर बनी इस फिल्‍म का नाम जिज्ञासा पैदा कर रहा है कि आखिर प्रभु राम को आदिपुरुष क्‍यों कहा गया है? 

Adipurush: भगवान राम को क्‍यों कहा गया है 'आदिपुरुष', किसने दिया था यह नाम?

Adipurush Ram: सुपरस्‍टार प्रभास और कृति सेनन की फिल्‍म आदिपुरुष इस समय जबरदस्‍त सुर्खियां बटोर रही है. आदिपुरुष फिल्‍म का हाल ही में ट्रेलर आया है और ट्रेंड में हैं. भगवान राम और माता सीता के जीवन पर आधारित इस फिल्‍म का प्रभास के फैन बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं. साथ ही लोगों के मन में यह जानने की दिलचस्‍पी भी है कि भगवान राम को आदिपुरुष क्‍यों कहा गया है. आइए जानते हैं कि आदिपुरुष कौन हैं और किसने यह नाम दिया था. 

कहां से आया आदिपुरुष नाम 

जब सृष्टि में भगवान विष्‍णु का प्राकट्य हुआ था तब सृष्टि में उन्हें चारों ओर जल ही जल नजर आ रहा था. उन्हें अपने बारे में भी कुछ नहीं पता था. तब  आकाशवाणी हुई कि आदिपुरुष को जानने के लिए तपस्या करो. इसके बाद भगवान विष्णु जल में बैठकर ही तप करने लगे. नीर यानी जल पर निवास करने के कारण भगवान विष्णु नारायण कहलाए. साथ ही तपस्‍या के दौरान ही उनकी नाभि से एक दिव्य कमल प्रकट हुआ और फिर उस कमल पर ब्रह्माजी का प्राकट्य हुआ. ब्रह्माजी ने भगवान विष्णु को प्रणाम करके बताया कि वे आदिपुरुष हैं क्योंकि उनसे पहले किसी और पुरुष का प्राकट्य नहीं हुआ था. ऐसे में सृष्टि में प्रथम पुरुष के रूप में भगवान विष्णु का आगमन हुआ था. इसलिए भगवान विष्णु को ही आदिपुरुष कहा गया है. आदिपुरुष आदि और अंत से रहित होते हैं. 

प्रभु राम को क्‍यों कहा गया आदिपुरुष? 

भगवान राम भगवान विष्‍णु के 10वें अवतार हैं. भगवान राम से पहले भगवान विष्‍णु के जो भी अवतार हुए उसमें उन्होंने सृष्टि को स्थापित और व्यवस्थित करने का काम किया था. लेकिन भगवान विष्णु ने राम अवतार में मनुष्यों के लिए आदर्श व्यवस्था और मानवीय मूल्यों की आधारशिला रखी थी. साथ ही इंसान को मर्यादा का पाठ पढ़ाया इसलिए भगवान राम को भी वर्तमान समाज में आदिपुरुष की संज्ञा दी जाती है. भगवान राम को वह आरंभिक पुरुष माना जाता है, जिन्होंने सभ्य समाज किसे कहा जाता है इसकी व्याख्या की.

पुरुषों की तरह महिला नागा साधु भी रहती हैं निर्वस्‍त्र? केवल इस समय आती हैं दुनिया के सामने 

ये है नाखून काटने का सबसे शुभ दिन, अचानक मिलता है खूब सारा पैसा

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. ZEE NEWS इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

Trending news