Bihar Politics: पटना में पूर्वी क्षेत्रीय परिषद की बैठक, अमित शाह के सामने नीतीश ने उठाया विशेष राज्य के दर्जे का मुद्दा
trendingNow,recommendedStories0/india/bihar-jharkhand/bihar2004011

Bihar Politics: पटना में पूर्वी क्षेत्रीय परिषद की बैठक, अमित शाह के सामने नीतीश ने उठाया विशेष राज्य के दर्जे का मुद्दा

Bihar Politics: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में पटना में पूर्वी क्षेत्रीय परिषद (ईजेडसी) की 26 वीं बैठक चली. बैठक में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और अन्य सदस्य राज्यों के प्रतिनिधि शामिल थे.  पूर्वी क्षेत्रीय परिषद में बिहार, पश्चिम बंगाल, ओडिशा और झारखंड शामिल है.

फाइल फोटो

पटना: Bihar Politics: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में पटना में पूर्वी क्षेत्रीय परिषद (ईजेडसी) की 26 वीं बैठक चली. बैठक में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और अन्य सदस्य राज्यों के प्रतिनिधि शामिल थे.  पूर्वी क्षेत्रीय परिषद में बिहार, पश्चिम बंगाल, ओडिशा और झारखंड शामिल है. बिहार में मुख्यमंत्री की पार्टी जनता दल यूनाइटेड (जदयू) द्वारा अगस्त 2022 में भाजपा से नाता तोड़कर महागठबंधन की सरकार बना लिए जाने के बाद ऐसा पहली बार हुआ है कि नीतीश और शाह ने एक साथ मंच पर थे. बैठक शुरू होते ही नीतीश कुमार ने शाह को गुलदस्ता, शॉल और स्मृति चिन्ह भेंट किया. गृह मंत्री दोपहर करीब पौने दो बजे पटना एयरपोर्ट पहुंचे और वहां से वह सीधे बैठक स्थल (मुख्यमंत्री सचिवालय) गये. ईसीजेड बैठक के बाद शाम करीब साढ़े सात बजे दिल्ली लौटने से पहले शाह प्रदेश भाजपा नेताओं के साथ भी बैठक करेंगे. 

पटना में पूर्वी क्षेत्रीय परिषद की बैठक में नीतीश कुमार, अमित शाह असहज दिखे
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने डेढ़ साल बाद यहां 26वीं पूर्वी क्षेत्रीय परिषद की बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की, लेकिन उनकी बॉडी लैंग्वेज के अनुसार दोनों सहज नहीं दिखे. विशेष रूप से, नीतीश कुमार, अमित शाह का स्वागत केवल सहजता से करते दिखे, उन्हें फूलों का गुलदस्ता, शॉल और स्मृति चिन्ह भेंट करते समय उनकी निगाहें काफी हद तक झुकी रहीं. 

ये भी पढ़ें- इस दिशा में मुंह करके महिलाओं को नहीं लगाना चाहिए सिंदूर, वरना हो जाएगा अनर्थ!

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पश्चिम बंगाल, ओडिशा और झारखंड के प्रतिनिधियों का भी स्वागत किया. बैठक दोपहर 2 बजे शुरू हुई और 5 बजे खत्म हुई.  अमित शाह बैठक में हिस्सा लेने के लिए पटना पहुंचे थे. इसमें नेताओं ने सुरक्षा और मुख्य मुद्दों पर चर्चा की गई. इससे पहले, नीतीश कुमार ने अमित शाह या पीएम नरेंद्र मोदी का सामना करने से बचने के लिए नीति आयोग की कई बैठकों और अन्य सरकारी बैठकों में हिस्सा नहीं लिया था. हालांकि, बिहार द्वारा क्षेत्रीय परिषद की बैठक की मेजबानी करने के कारण, नीतीश कुमार के पास अमित शाह का सामना करने के अलावा कोई विकल्प नहीं था. 

हालांकि पूर्वी क्षेत्रीय परिषद की बैठक में सीएम नीतीश कुमार ने अमित शाह के सामने विशेष राज्य के दर्जे का मुद्दा उठाया. सीएम नीतीश कुमार ने बिहार के आरक्षण के दायरे बढ़ाने के बाद उसे नौवीं अनुसूची में शामिल करने की मांग की. जल संसाधन मंत्री संजय झा ने अमित शाह से नेपाल में हाईं डैम बनाने की मांग की. बैठक में यह भी तय हो गया कि अगली बैठक रांची में आयोजित की जाएगी. 

ममता पटना में पूर्वी परिषद की बैठक में नहीं आईं
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी रविवार को पटना में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में 26वीं पूर्वी क्षेत्रीय परिषद की बैठक में शामिल नहीं हुईं.
इसके बजाय, पश्चिम बंगाल का प्रतिनिधित्व वित्त विभाग की प्रभारी राज्य मंत्री चंद्रिमा भट्टाचार्य ने की. इससे पहले शनिवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने घोषणा की थी कि उन्होंने विभिन्न केंद्रीय योजनाओं के तहत पश्चिम बंगाल सरकार के बकाया राशि पर चर्चा के लिए 18 दिसंबर से 20 दिसंबर के बीच नई दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने के लिए समय मांगा है. 
(इनपुट- भाषा और आईएएनएस)

Trending news