बस्सी: 7 महात्मा गांधी इंग्लिश स्कूलों में खुलेंगी बाल वाटिका, इन बच्चों का होगा दाखिला
topStories1rajasthan1468298

बस्सी: 7 महात्मा गांधी इंग्लिश स्कूलों में खुलेंगी बाल वाटिका, इन बच्चों का होगा दाखिला

Bassi, Jaipur News: सरकार महात्मा गांधी स्कूलों में पहली बार बाल वाटिका का कांसेप्ट लेकर आई है. इन कक्षाओं में प्रवेश के लिए प्रवेश कार्यक्रम जारी करने के साथ ही छह जनवरी 2023 से कक्षाएं शुरू करने के निर्देश दिए है. 

बस्सी: 7 महात्मा गांधी इंग्लिश स्कूलों में खुलेंगी बाल वाटिका, इन बच्चों का होगा दाखिला

Bassi, Jaipur News: सरकार महात्मा गांधी स्कूलों में पहली बार बाल वाटिका का कांसेप्ट लेकर आई है. इसके पीछे एक ही मकसद है कि एक भी बच्चा पढ़ाई से नहीं छूटे. सरकार की ओर से महात्मा गांधी स्कूलों में प्री-प्राइमरी क्लासेज शुरू की जा रही है. इन कक्षाओं में प्रवेश के लिए प्रवेश कार्यक्रम जारी करने के साथ ही छह जनवरी 2023 से कक्षाएं शुरू करने के निर्देश दिए है. हालांकि शिक्षा सत्र का अधिकांश हिस्सा बीत चुका है और स्कूल्स में फिलहाल प्रवेश का समय नहीं है.

निजी स्कूलों की तर्ज पर अंग्रेजी शिक्षण से नौनिहालों को प्री प्राइमरी स्तर पर ही जोड़ने की सोच के साथ सरकार पहली बार महात्मा गांधी इंग्लिश मीडियम स्कूलों में बाल वाटिका खोलने जा रही है. इसके लिए बस्सी विधानसभा क्षेत्र के 7 स्कूलों का चयन किया गया है, जहां 3 से 6 साल के बच्चे पढ़ सकेंगे. उक्त महात्मा गांधी इंग्लिश मीडियम स्कूलों में खुलने वाली बाल वाटिकाओं में 25-25 विद्यार्थियों को प्रवेश दिया जाएगा. बाल वाटिका में अध्ययनरत छात्र-छात्रा की उम्र 6 साल होने पर उसे फर्स्ट क्लास में एडमिशन मिलेगा.

सरकार महात्मा गांधी स्कूलों में पहली बार बाल वाटिका का कांसेप्ट लेकर आई है. इसके पीछे एक ही मकसद है कि एक भी बच्चा पढ़ाई से नहीं छूटे. सरकार की ओर से महात्मा गांधी स्कूलों में प्री- प्राइमरी क्लासेज शुरू की जा रही है. इन कक्षाओं में प्रवेश के लिए प्रवेश कार्यक्रम जारी करने के साथ ही छह जनवरी 2023 से कक्षाएं शुरू करने के निर्देश दिए है. हालांकि शिक्षा सत्र का अधिकांश हिस्सा बीत चुका है और स्कूल्स में फिलहाल प्रवेश का समय नहीं है.

विभागीय अधिकारियों की ओर से उम्मीद जताई जा रही है कि बीच सत्र में भी बड़ी संख्या में सरकारी महात्मा गांधी स्कूल में प्री प्राइमरी के प्रवेश होंगे. तूंगा सीबीईओ देवी शंकर शर्मा ने बताया कि विभाग की ओर से जारी प्रवेश कार्यक्रम के अनुसार 1 दिसंबर से प्रवेश प्रक्रिया के लिए विज्ञप्ति जारी कर दी गई है. इसके साथ ही 2 से 15 दिसंबर तक आवेदन लिए जाएंगे. प्रवेश के लिए मिले आवेदनों की लिस्ट 16 दिसंबर को स्कूल में नोटिस बोर्ड पर प्रकाशित की जाएगी. 

इसके साथ ही उन्होंने बताया कि प्रत्येक क्लास में 25 स्टूडेंट्स को प्रवेश दिया जाएगा. इससे अधिक आवेदन होने पर 21 दिसंबर को लॉटरी निकाली जाएगी. 22 दिसंबर को लॉटरी से चयनित विद्यार्थियों की सूची नोटिस बोर्ड पर प्रकाशित होगी. इसके साथ ही प्रवेश की कागजी कार्रवाई 23 दिसंबर से शुरू हो जाएगी और कक्षाएं 6 जनवरी से शुरू होगी. सीबीईओ शर्मा ने बताया कि तूंगा ब्लॉक के तीन स्कूलों में बाल वाटिका शुरू की जाएगी.

आरएससीईआरटी द्वारा पाठ्यक्रम तैयार
बाल वाटिका कक्षाओं के लिए पाठ्य चर्चा और पाठ्यपुस्त के राजस्थान राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद उदयपुर द्वारा तैयार की गई है. पाठ्य पुस्तकें राजस्थान राज्य पाठ्यपुस्तक मंडल जयपुर के द्वारा उपलब्ध कराई जाएगी. बाल वाटिका कक्षाओं में बच्चों का आंकलन सतत् और व्यापक मूल्यांकन पद्धति और पाठ्यचर्या में नियोजित अनुभव पर आधारित होगी. 

आकलन में बच्चों के विकास का प्रेक्षण करना और उनके स्वास्थ्य और पोषण की स्थिति, दिन प्रतिदिन के अनुभव, कला कार्य और अन्य उत्पादों में उनकी भागीदारी और उनका व्यवहार शामिल होगा. कस्बे स्थित महात्मा गांधी राजकीय अंग्रेजी विद्यालय की प्रधानाचार्य कविता मेघानी, राकेश पंचोली ने बताया कि 2 दिसंबर से बाल वाटिका में प्रवेश के लिए आवेदन लेना शुरू किया जाएगा.

इन स्कूलों में शुरू होगी बाल वाटिका
तूंगा ब्लॉक के तूंगा, सांभरिया और पाटन में बस्सी ब्लॉक के कानोता, रेलवे कॉलोनी बस्सी, बांसखोह, ढाणी किशना पटेल के महात्मा गांधी अंग्रेजी माध्यम विद्यालयों में बाल वाटिका शुरू होगी. बाल वाटिका प्री प्राइमरी कक्षाएं सिर्फ चार घंटे संचालित होंगी. इसके लिए सर्दी में 1 अक्टूबर से 31 मार्च तक सुबह 10 बजे से 2 बजे तक स्कूल का संचालन होगा. 

यह भी पढ़ें - राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा को लेकर CM गहलोत पहुंचे कोटा, कांग्रेस पदाधिकारियों की ली बैठक

वहीं 1 अप्रैल से 30 सितंबर तक सुबह 8 बजे से 12 बजे तक स्कूल चलेंगे. सप्ताह में पांच दिन क्लासेज चलेंगी और शनिवार और रविवार अवकाश रहेगा. शनिवार के दिन शिक्षकों द्वारा कक्षाओं का कार्यक्रम मूल्यांकन करने, अगले सप्ताह के कार्यक्रम की योजना बनाने, शिक्षक अभियान सामग्री तैयार करने, अभिभावकों से सम्पर्क करने, पोर्टफोलियो और रिकॉर्ड संधारण का कार्य किया जाएगा.

Reporter: Amit Yadav

खबरें और भी हैं...

बुधादित्य योग बुध और सूर्य की युति से 5 राशियों का दिसंबर में होगा भाग्योदय

Garuda Puran : हिंदू धर्म में क्यों मारते हैं मुर्दे के सिर पर डंडा, एक गलती और ....

Heart failure and sex: बेकाबू सेक्स ले सकता है जान, अमेरिकी रिसर्च में चौंकाने वाला खुलासा

Trending news