Ajmer: RLP ने लंपी पर केंद्र और राज्य सरकार के खिलाफ गायों को लेकर निकाला पैदल मार्च
topStoriesrajasthan

Ajmer: RLP ने लंपी पर केंद्र और राज्य सरकार के खिलाफ गायों को लेकर निकाला पैदल मार्च

 राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के पदाधिकारियों ने सोमवार को कलेक्ट्रेट पर लंपी बीमारी से ग्रसित गायों को साथ लेकर केंद्र और राज्य सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया. आरएलपी के जिला अध्यक्ष धर्मेंद्र सिंह रावत के नेतृत्व में कार्यकर्ता ने आजाद पार्क से गायों को लेकर पैदल मार्च निकाला.

Ajmer: RLP ने लंपी पर केंद्र और राज्य सरकार के खिलाफ गायों को लेकर निकाला पैदल मार्च

Ajmer: राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के पदाधिकारियों ने सोमवार को कलेक्ट्रेट पर लंपी बीमारी से ग्रसित गायों को साथ लेकर केंद्र और राज्य सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया. आरएलपी के जिला अध्यक्ष धर्मेंद्र सिंह रावत के नेतृत्व में कार्यकर्ता ने आजाद पार्क से गायों को लेकर पैदल मार्च निकाला.  मार्च निकालते हुए वह कलेक्ट्रेट पहुंचे जहां उन्होंने केंद्र और राज्य सरकार के खिलाफ  गुस्सा जाहर कते हुए नारेबाजी की.

ये भी पढ़ें- Jaipur: गुलाबी नगरी में बिखरे शास्त्रीय संगीत के रंग, याद पिया की आयी तो झूमने लगा मन

 जिला अध्यक्ष रावत ने बताया कि केंद्र सरकार चीतों को भारत में लाने के लिए करोड़ रुपए खर्च कर रही है तो वहीं राज्य सरकार ओलंपिक खेल सहित अन्य व्यवस्थाओं में व्यस्त है. दोनों ही सरकारों को गोवंश से कोई सरोकार नहीं है. प्रदेश में लंबे समय से यह बीमारी गोवंशों में फैल रही है. जिसके कारण हजारों गायों  की मौत हो चुकी है और लाखों  इसकी चपेट में है. इसके बावजूद भी भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस के जनप्रतिनिधि इसे लेकर कोई ठोस कार्रवाई नहीं कर रहे है. 

 ऐसे में पशुपालक और किसान इस समस्या से काफी परेशान हैं. उनके  लाखों रुपए के पशु इस बीमारी से खत्म हो रहे हैं. साथ ही मृत गायों और घायल गायों को आवारा जानवर नोच रहे हैं. इनके निस्तारण को लेकर भी किसी तरह की व्यवस्था नहीं है ना ही  इलाज के लिए. 

ये भी पढ़ें- Amazon Great Indian Festival Sale: अमेजन पर शुरू हो रही धामकेदार सेल, मोबाइल के साथ अन्य चीजें सस्ती नहीं बहुत सस्ती मिलेंगी!

इन उपरोक्त सभी परेशानियों को लेकर सोमवार को विरोध प्रदर्शन करते हुए ज्ञापन सौंपा गया है. उन्होंने कहा कि गाय के नाम पर वोट मांगने वाले आज कहीं नजर नहीं आ रहे और ना ही गायों को लेकर राहत दी जा रही है. 

Trending news