हरियाणा के सुरेंद्र चहल ने ऑस्ट्रेलिया में गाड़े झंडे, लगातार दूसरी बार बने काउंसलर
topStories0hindi1440413

हरियाणा के सुरेंद्र चहल ने ऑस्ट्रेलिया में गाड़े झंडे, लगातार दूसरी बार बने काउंसलर

हरियाणा के एक छोटे से गांव से निकलकर सुरेंद्र चहल दूसरे देश ऑस्ट्रेलिया में जाकर राजनीतिक सफलता हासिल कर रहे हैं. उन्होंने लगातार दूसरी बार काउंसलर का चुनाव जीता है. ऑस्ट्रेलिया में चुनाव जीतने वाले सुरेंद्र पहले भारतीय हैं.

हरियाणा के सुरेंद्र चहल ने ऑस्ट्रेलिया में गाड़े झंडे, लगातार दूसरी बार बने काउंसलर

Chandigarh: हरियाणा के जींद के गांव जजवान के मूल निवासी सुरेंद्र चहल ने साउथ आस्ट्रेलिया में लगातार दूसरी बार लोकल गवर्नमेंट चुनाव में काउंसलर का चुनाव जीता है. सुरेंद्र पहले भारतीय हैं, जिन्होंने ऑस्ट्रेलिया में यह सफलता पाई है. अलग-अलग देशों से आकर आस्ट्रेलिया में बसे 5796 मतदाताओं ने सुरेंद्र चहल के पक्ष में मतदान किया.

ये भी पढ़ें: MCD Election: BJP ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट, पहली बार इस आधार पर बांटे टिकट

हरियाणा के एक छोटे से गांव से निकलकर सुरेंद्र चहल आस्ट्रेलिया में राजनीतिक सफलता हासिल कर देश का नाम रोशन कर रहे हैं. बता दें कि सुरेंद्र चहल ने गांव जाजवान स्थित सरकारी स्कूल से छात्रवृत्ति के साथ स्कूलिंग की. इसके बाद छोटू राम किसान कॉलेज से बीकॉम (B.Com) की शिक्षा ग्रहण की. इसके बाद राजकीय कॉलेज से एमकॉम (M.Com) किया. सुरेंद्र चहल 9 वर्ष तक एसडी स्कूल में कॉमर्स के लेक्चरर रहे. इसके बाद 2004 में सुरेंद्र कुवैत गए और वहां एक साल कार्य करने के बाद लौट आए.

इसके बाद 2007 में सुरेंद्र चहल ऑस्ट्रेलिया चले गए. सुरेंद्र हमेशा से ही सामाजिक कार्यों में आगे रहता हैं. वहीं सुरेंद्र चहल ने जाट महासभा साउथ आस्ट्रेलिया के प्रधान तथा हरियाणवी कुनबा साउथ ऑस्ट्रेलिया के संयोजक पद पर रहते हुए अनेक सामाजिक कार्य किए. उन्होंने हरियाणा से आने लोगों का भी विशेष ख्याल रखा.

बता दें कि चहल भारत की श्री स्वामीनारायण संस्था के साथ भी जुड़े हुए हैं. सुरेंद्र चहल की माता राजपति देवी गृहणी हैं और पिता अजायब सिंह चहल डीसी ऑफिस से सेवानिवृत्त हैं. उनके पिता ने एथलीट प्रतियोगिताओं में राष्ट्रीय स्तर पर 70-75 आयुवर्ग में अनेक पदक जीते हैं. सुरेंद्र चहल पिछले 15 साल से परिवार समेत ऑस्ट्रेलिया के एडिलेड शहर में रह रहे हैं. हरियाणा से आस्ट्रेलिया में पहुंचकर उन्हें पहले वहां की जनता ने 3 साल पहले सिटी ऑफ वेस्ट टोरेंस के प्लंपटन वार्ड से काउंसलर की जिम्मेदारी देकर भरोसा जताया और अब राजनीतिक पार्टी ने उन्हें पद की जिम्मेदारी दी है.

 

Trending news