गुरुग्राम के 3 गांवों के लगभग 500 एकड़ में विकसित होंगे बायोडायवर्सिटी पार्क और झील
topStories0hindi1475157

गुरुग्राम के 3 गांवों के लगभग 500 एकड़ में विकसित होंगे बायोडायवर्सिटी पार्क और झील

परियोजना के लिए गांव दमदमा, खेड़ला, अभयपुर को चुना गया है.सीएम मनोहर लाल 8 दिसंबर को परियोजना की आधारशिला रखेंगे. परियोजना का उद्देश्य दमदमा व आसपास के गांवों में खराब हो चुकी मिट्टी  की गुणवत्ता को पुन: स्थापित करना और वन क्षेत्र में वृद्धि करना है.

 

 

 

 

गुरुग्राम के 3 गांवों के  लगभग 500 एकड़ में विकसित होंगे बायोडायवर्सिटी पार्क और झील

देवेंद्र भारद्वाज/गुरुग्राम : जिले के गांव दमदमा, खेड़ला तथा अभयपुर में बायोडायवर्सिटी पार्क विकसित करने के साथ झील का जीर्णोद्धार किया जाएगा. ई वाई फाउंडेशन के सहयोग से बनने वाली यह परियोजना लगभग 500 एकड़ में विकसित होगी और मुख्यमंत्री मनोहर लाल 8 दिसंबर को इस परियोजना का शिलान्यास करेंगे. यह परियोजना पूरी होने पर गुरुग्रामवासियों को एक सुंदर रमणीक स्थल उपलब्ध होगा और इससे गुरुग्राम के पर्यावरण की स्थिति में भी सुधार होगा. 

परियोजना के शिलान्यास कार्यक्रम को लेकर गुरुग्राम के अतिरिक्त उपायुक्त विश्राम कुमार मीणा ने अपने कार्यालय में संबंधित अधिकारियों की बैठक बुलाई और इस बाबत उन्हें जिम्मेदारियां सौंपीं. बैठक में बताया गया कि ई वाई फाउंडेशन अपने सीएसआर के तहत गुरुजल सोसायटी के साथ मिलकर गांव दमदमा में लगभग 80 एकड़ में बने दमदमा झील का जीर्णोद्धार करेगी.

गुरुग्राम जिले में ग्रीन कवर अर्थात हरियाली के अधीन क्षेत्र में बढोतरी करने के लिए गांव दमदमा तथा आसपास के क्षेत्र में लगभग 420 एकड़ क्षेत्र में बायोडायवर्सिटी पार्क विकसित किया जाएगा और वर्तमान दमदमा झील का जीर्णोद्धार करके इसके स्वरूप को बड़ा करते हुए लगभग 80 एकड़ में झील बनाई जाएगी.

अतिरिक्त उपायुक्त विश्राम कुमार मीणा ने बताया कि इस परियोजना का उद्देश्य दमदमा व आसपास के गांवों में खराब हो चुकी जमीन की गुणवत्ता को पुन: स्थापित करना और वन क्षेत्र में वृद्धि करना है. इसके अलावा झील के जीर्णोद्धार से भूमिगत जल के स्तर में भी सुधार होगा। साथ ही भूजल रिचार्ज करने में मदद मिलेगी. उन्होंने कहा कि इस परियोजना से उस क्षेत्र के फूल व पौधों तथा पेड़ों की संख्या में वृद्धि होगी और प्राकृतिक संसाधनों जैसे मिट्टी व पानी का संरक्षण किया जा सकेगा.

उन्होंने बताया कि पिछले कुछ समय से जिला प्रशासन द्वारा जल संरक्षण के लिए बनाई गई गुरुजल सोसायटी की तकनीकी टीम ने इस पूरे क्षेत्र की मिट्टी से लेकर पेड़ पौधों और फूल-पत्तियों का अध्ययन करके कन्टॅूअर मैपिंग की है. मीणा ने बताया कि 8 दिसंबर को मुख्यमंत्री मनोहर लाल इस परियोजना की आधारशिला रखेंगे और मुख्यमंत्री की उपस्थिति में उस दिन हरियाणा सीएसआर ट्रस्ट तथा ई वाई फाउंडेशन के बीच एमओयू पर हस्ताक्षर किए जाएंगे। ई वाई फाउंडेशन झील के जीर्णोद्धार तथा बायोडायवर्सिटी पार्क विकसित करने की अपनी विस्तृत परियोजना का खाका प्रस्तुत करेगी. 

बैठक में गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण के एडिशनल  सीईओ सुभाष यादव, जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी नरेंद्र सारवान, गुरुजल सोसायटी की प्रोजेक्ट डायरेक्टर सुभि केसरवानी, सिंचाई विभाग के कार्यकारी अभियंता भीम आर्य व एएस सुहाग, ई वाई फाउंडेशन के सहायक निदेशक पुस्कर प्रसाद, हरियाणा राज्य सीएसआर ट्रस्ट से शुभम सिंह सहित कई अधिकारियों ने भाग लिया. 

Trending news