बागेश्वर धाम पहुंचे मनोज तिवारी, उनके भजनों पर झूम उठे वहां बैठे श्रद्धालु
trendingNow,recommendedStories0/india/bihar-jharkhand/bihar1574153

बागेश्वर धाम पहुंचे मनोज तिवारी, उनके भजनों पर झूम उठे वहां बैठे श्रद्धालु

इन दिनों बागेश्वरधाम सरकार का दरबार लगाने वाले धीरेंद्र कृष्णा शास्त्री खासी चर्चा में हैं. उनको लेकर एक तरफ विवाद जारी है तो वहीं दूसरी तरफ उनके दरबार में बड़े-बड़े राजनेताओं का पहुंचना जारी है.

(फाइल फोटो)

पटना : इन दिनों बागेश्वरधाम सरकार का दरबार लगाने वाले धीरेंद्र कृष्णा शास्त्री खासी चर्चा में हैं. उनको लेकर एक तरफ विवाद जारी है तो वहीं दूसरी तरफ उनके दरबार में बड़े-बड़े राजनेताओं का पहुंचना जारी है. बता दें कि हाल के दिनों में एक तस्वीर वायरल हो रही है जिसमें मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम कमलनाथ बाबा बागेश्वर धाम सरकार के दरबार में हाजरी लगाते नजर आ रहे हैं. वही इससे पहले भाजपा नेता और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और वर्तमान में डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस भी बाबा के दरबार में हाजरी लगाने आए थे. 

बाबा बागेश्वरधाम पीठ के पीठाधीश्वर धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री की बढ़ती लोकप्रियता के बीच मध्य प्रदेश के गढा गांव स्थित बागेश्वर धाम के दिव्य दरबार में भाजपा नेता और सांसद मनोज तिवारी पहुंचे थे. मनोज तिवारी इसके पहले भी धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के कथा मंच पर पहुच चुके हैं. मनोज तिवारी के वहां पहुंचने पर उन्होंने मंच से भजन गाया और इसपर वहां बैठे भक्त झूम उठे. बागेश्वर धाम में इन दिन 'धार्मिक महाकुंभ' लगा है. वहीं मनोज तिवारी शिरकत करने पहुंचे थे. 

मनोज तिवारी की मानें तो उन्होंने बागेश्वर धाम सरकार से भारत के संस्कृति के प्रसार के लिए मन्नत मांगी. उन्होंने यहां पहुंचकर धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के हिंदू राष्ट्र वाले विचार का समर्थन किया औक कहा कि वह सत्य सनातन धर्म को यूं हीं बढ़ाते रहें और उनका विचार उत्तम है. यहां 13 फरवरी से 18 फरवरी तक धार्मिक महाकुंभ का आयोजन किया गया है. जहां देशभर से कथावाचक और सनातन को मानने वाले बाबाओं के आने का क्रम जारी है. यहां 18 फरवरी को समापन के दिन 121 बेटियों का ब्याह भी कराया जाना है. इसी क्रम में यहां राजनीतिक पार्टियों के नेता भी पहुंच रहे हैं.   

इससे पहले 13 फरवरी के कमलनाथ छतरपुर पहुंचे थे और धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री से मिले थे. जबकि भाजपा नेत्री उमा भारती उन्हें अपने बेटे के समान बता चुकी हैं. इसके साथ ही दतिया में एमपी के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने एक कार्यक्रम करवाया था जिसमें धीरेंद्र कृष्ण शामिल हुए थे. नागपुर में अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति के लोगों के द्वारा बाबा पर चमत्कार के जरिए लोगों को धोखा देने और मूर्ख बनाने का आरोप लगाया गया था जिसके बाद से ही वह चर्चा में रहे हैं. जबकि इसके बाद कई मंचों से शास्त्री कह चुके हैं कि वह कोई चमत्कार नहीं करते बल्कि उनके गुरु और हनुमान जी की कृपा से उन्हें प्रेरणा मिलती है. वह हिंदू राष्ट्र की बात लगातार दोहराकर भी चर्चा में हैं.  

ये भी पढ़ें- प्रेग्नेंट हो गई आम्रपाली दुबे! इस वजह से मोनालिसा के पति विक्रांत से हैं वह नाराज

Trending news