Sikar News: कमल किशोर श्रीनगर में हुए शहीद, ढाई माह के मासूम के सिर से हटा पिता का साया, हर किसी की आंखें नम
Advertisement

Sikar News: कमल किशोर श्रीनगर में हुए शहीद, ढाई माह के मासूम के सिर से हटा पिता का साया, हर किसी की आंखें नम

Sikar News: मातृभूमि की रक्षा करते हुए पटवारी का बास लाडला कमल किशोर बिजारणिया शहीद हो गया. शहीद के पार्थिव शरीर को बाइक रैली के साथ उसके पैतृक गांव लेकर जाया जा रहा है, जहां राजकिय सम्मान के साथ शहीद का अंतिम संस्कार किया जाएगा. 

Sikar News: कमल किशोर श्रीनगर में हुए शहीद, ढाई माह के मासूम के सिर से हटा पिता का साया, हर किसी की आंखें नम

Rajasthan News: सीकर जिले के श्रीमाधोपुर इलाके के पटवारी का बास निवासी जवान मातृभूमि की रक्षा करते हुए गुरुवार रात को शहीद हो गया. जानकारी के अनुसार, जवान कमल किशोर बिजारणिया पुत्र मांगीलाल श्रीनगर में तैनात था. शहीद जवान कमल किशोर अपनी टीम के साथ मिशन पर था, इसी दौरान वह शहीद हो गया. जैसे ही जवान के शहीद होने का समाचार बटालियन के साथियों व गांव में ग्रामीणों को मिली, तो शोक की लहर छा गई. जवान कमल किशोर 2016 में सेना में भर्ती हुआ था और 2017 से आर्मी में 123 टीए ग्रेनेडीर बटालियन इको कंपनी में श्रीनगर तैनात था. 

ढाई माह के मासूम के सिर से हटा पिता का साया 
जानकारी के अनुसार, बुधवार सुबह ही जवान कमल किशोर ने अपनी पत्नी कविता उर्फ मंजू से वीडियो के जरिए बात की थी. इस दौरान जवान ने अपनी पत्नी से एक मार्च को छुट्टी पर घर आने की बात भी कही थी. क्योंकि उसकी बहन के यहां 5 मार्च को कोई कार्यक्रम था जिसमें वह शामिल होने वाला था. जवान कमल किशोर का विवाह कविता उर्फ मंजू से वर्ष 2019 में हुआ था और उसका करीब ढाई माह का एक बेटा नक्षित चौधरी भी है. कमल किशोर छह भाई बहनों में सबसे छोटा था. उसका एक बड़ा भाई गणपत सिंह जो फौज में कार्यरत है. वहीं, चार बहने शादीशुदा हैं. पिता मांगीलाल गांव में ही कृषि का कार्य करते हैं. वहीं, माता का काफी समय पहले निधन हो चुका है. 

कमल किशोर का नाम लगे जयकारे 
जवान कमल किशोर का आज सुबह पार्थिव देह बाई प्लेन जयपुर पहुंचा, जहां से जवान को पार्थिव देह को सेना के ट्रक में सड़क मार्ग से श्रीमाधोपुर लाया गया. श्रीमाधोपुर के बाईपास स्थित हावड़ा मोड़ पर जब जवान का पार्थिव पहुंचा, तो वहां मौजूद लोगों ने जवान कमल किशोर अमर रहे, भारत माता की जय के गगनचुमि नारे लगाए. जहां से सेना के ट्रक को फूलों से सजाया कर और तिरंगे में लिपटे जवान के पार्थिव देह को तिरंगा बाइक रैली के साथ पैतृक गांव पटवारी का बास के लिए रवाना हुआ. इस दौरान हजारों की संख्या में ग्रामीण और स्कूली छात्र-छात्राओं ने हाथों में तिरंगा लहराते हुए जब तक सूरज चांद रहेगा, कमल किशोर का नाम रहेगा और भारत माता के जयकारे के गगनचुंबी नारे लगाए. 

राजकीय सम्मान से किया जाएगा अंतिम संस्कार
बता दें कि जवान कमल किशोर को श्रद्धांजलि देने के लिए खंडेला विधायक सुभाष मील, जिला कलेक्टर सीकर कमर उल जमान चौधरी, ASP गजेन्द्र सिंह जोधा, डिप्टी खण्डेला इंसार अली, थानाधिकारी जाजोद अशोक सिंह सहित बड़ी संख्या में स्थानीय जनप्रतिनिधि भी पहुंचे. बाइक रैली के साथ जवान का पार्थिव देह पैतृक गांव पटवारी का बास के नीम वाली ढाणी पहुंचेगी, जहां जवान के अंतिम दर्शन के बाद हिंदू रीति रिवाज से जवान के पार्थिव देह का राजकीय सम्मान से अंतिम संस्कार किया जाएगा. 

ये भी पढ़ें- लाभार्थी सम्पर्क अभियान कार्यशाला का आयोजन, आमजन को मिले जनकल्याणकारी योजनाओं लाभ

Trending news