एबीवीपी का 68वां राष्ट्रीय अधिवेशन, मानगढ़ धाम की अधिवेशन में नजर आएगी झलक
topStories1rajasthan1452981

एबीवीपी का 68वां राष्ट्रीय अधिवेशन, मानगढ़ धाम की अधिवेशन में नजर आएगी झलक

18 साल बाद राजस्थान को एबीवीपी के राष्ट्रीय अधिवेशन की मेजबानी मिली है और राजस्थान द्वारा इस अधिवेशन में किसी प्रकार की कोई कमी ना रहे इसको लेकर प्रयास किए जा रहे हैं. 

एबीवीपी का 68वां राष्ट्रीय अधिवेशन, मानगढ़ धाम की अधिवेशन में नजर आएगी झलक

Jaipur: 25 नवम्बर से 28 नवम्बर तक गुलाबी नगर जयपुर में आयोजित होने जा रहे अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय अधिवेशन की तैयारियों को अब अंतिम रूप दिया जा रहा है. जयपुर के सीतापुरा स्थित जेईसीआरसी परिसर में आयोजित होने जा रहे इस अधिवेशन में अब देश के सभी प्रांतों के पदाधिकारियों और एबीवीपी कार्यकर्ताओं के पहुंचने का सिलसिला शुरू हो चुका है. 25 नवम्बर को योगगुरु बाबा रामदेव द्वारा राष्ट्रीय अधिवेशन का उद्घाटन किया जाएगा. इसके साथ ही 26 नवम्बर को शोभायात्रा और 27 नवम्बर को पुरस्कार वितरण समारोह का भी आयोजन होगा. राष्ट्रीय अधिवेशन में जहां लघु भारत दर्शन के लिए प्रदर्शनी आकर्षण का केन्द्र होगी तो वहीं मानगढ़ धाम में शहीद हुए आदिवासी हीरोज की याद में लगाई जाने वाली प्रदर्शन भी इस बार आकर्षण का केन्द्र रहेगी.

18 साल बाद राजस्थान को एबीवीपी के राष्ट्रीय अधिवेशन की मेजबानी मिली है और राजस्थान द्वारा इस अधिवेशन में किसी प्रकार की कोई कमी ना रहे इसको लेकर प्रयास किए जा रहे हैं. पिछले करीब एक महीने से अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता तैयारियों में जुटे हुए हैं.

कार्यक्रम स्थल पर जब प्रवेश किया जाएगा तो सबसे पहले आगंतुकों को जयपुर के आराध्य गोविंद देवजी महाराज के दर्शन होंगे. मुख्य गेट पर गोविंद देव मंदिर का स्वरूप तैयार किया जा रहा है तो वहीं कार्यक्रम के मुख्य पांडाल और परिसर को महाराणा प्रताप नगर नाम दिया गया है. इसके साथ ही जो मुख्य पांडाल है उसके गेट पर हवामहल की विशाल कला कृति बनाई गई है और इस गेट के सामने ही मिट्टी से चित्तौड़गढ़ दुर्ग बनाया गया है जहां पर रानी पद्मावति की विशाल प्रतिमा लगाई जाएगी. साथ ही ठीक सामने महाराणा प्रताप की 700 किलो वजनी प्रतिमा भी लगाई जाएगी. गोविंद गुरु प्रदर्शनी कक्ष भी आकर्षण का केन्द्र रहेगा.

एबीवीपी प्रांत संगठन मंत्री अर्जुन तिवाड़ी ने बताया, "18 साल बाद राष्ट्रीय अधिवेशन की मेजबानी है और इसको सफल बनाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी जा रही है. सभी तैयारियां लगभग पूरी कर ली गई हैं. 25 नवम्बर को कार्यक्रम का उद्घाटन होगा तो वहीं 24 नवम्बर को आजादी में योगदान देने वाले वीरों और अनसंग हीरोज के जीवन की प्रदर्शनी भी लगाई जा रही है."

खबरें और भी हैं...

मोरबी पुल हादसे को लेकर CM गहलोत का बयान- गुजरात की जनता एक बार कांग्रेस को मौका दे, अंतर पता चलेगा

Aaj Ka Rashifal: कन्या राशि के सिंगल लोगों को मिल जाएगा लवमेट, कुंभ को मिलेगा जीवनसाथी का प्यार

शाहाबाद: चलते ट्रैक्टर के 2 टुकड़े, 1 हिस्सा रेंलिग के पार, दूसरा सड़क पर बिखर गया

Trending news