Rajasthan Election:भाजपा प्रत्याशी रामस्वरूप लांबा के नामांकन दाखिले में उमड़ा जनसैलाब, चुनाव आयोग के निर्देशानुसार ली शपथ
trendingNow,recommendedStories1/india/rajasthan/rajasthan1945198

Rajasthan Election:भाजपा प्रत्याशी रामस्वरूप लांबा के नामांकन दाखिले में उमड़ा जनसैलाब, चुनाव आयोग के निर्देशानुसार ली शपथ

Rajasthan Election news: राजस्थान के अजमेर जिले के नसीराबाद विधानसभा से चुनाव में भाजपा निवर्तमान रामस्वरूप लांबा को उम्मीदवार घोषित किया गया. भाजपा प्रत्याशी रामस्वरूप ने देराठूं चौराया के निकट स्थित फार्म हाउस से वाहनों का रैला और जनसैलाब रवाना होकर शहीद स्मारक चौराहा पहुंचा. 

Rajasthan Election:भाजपा प्रत्याशी रामस्वरूप लांबा के नामांकन दाखिले में उमड़ा जनसैलाब, चुनाव आयोग के निर्देशानुसार ली शपथ

Rajasthan Election: राजस्थान के अजमेर जिले के नसीराबाद विधानसभा से चुनाव में भाजपा निवर्तमान रामस्वरूप लांबा को उम्मीदवार घोषित किया. लाम्बा ने शनिवार को जनसैलाब के साथ रैली के रूप में रिटर्निंग अधिकारी अंशुल आमेरिया के समक्ष नामांकन पेश किया. भाजपा प्रत्याशी रामस्वरूप ने देराठूं चौराया के निकट स्थित फार्म हाउस से वाहनों का रैला और जनसैलाब रवाना होकर शहीद स्मारक चौराहा पहुंचा. शहीद स्मारक पर शहीदों को पुष्पांजलि अर्पित करके फ्रामजी, चौक हनुमान, पांचबत्ती चौराहा, स्टेशन रोड होते हुए उपखंड कार्यालय पहुंचे. जहां पर रामस्वरूप लांबा में ईआरओ अंशुल आमेरिया एवं एईआरो श्रीमती अपूर्वा परवाल के समक्ष नामांकन पेश किया और चुनाव आयोग के निर्देशानुसार शपथ ली. 

वहीं रास्ते में जगह-जगह माल्यार्पण करके स्वागत करते हुए शुभकामनाएं दी गई. भाजपा प्रत्याशी रामस्वरूप लाम्बा के नामांकन दाखिल करने के बाद मौजूद क्षेत्रवासियों को कहा कि उनके पिता स्वर्गीय प्रो. सांवरलाल जाट ने क्षेत्र के विकास में कोई कसर नहीं छोड़ी थी और सभी क्षेत्रवासियों को एक परिवार के रूप में साथ लेकर चलते थे. लेकिन अचानक उनके चले जाने के बाद शेष कार्यों को पूरा करने में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी. उन्होंने कहा कि कांग्रेस राज्य में भ्रष्टाचार चरम पर रहा. पेपर लीक होने से बेरोजगारों को हताशा भुगतनी पड़ी. महिलाओं पर अत्याचार होने के बावजूद उनकी पीड़ा सुनने वाला कोई नहीं रहा. कांग्रेस राज्य में कानून व्यवस्था बिल्कुल चौपट हो गई और आमजन कांग्रेस राज में स्वयं को ठगा सा महसूस करने लगा.

 उन्होंने आत्मविश्वास के साथ कहा कि क्षेत्र के विकास कार्यों में कोई कमी नहीं रहेगी और प्रत्येक व्यक्ति के कार्यों को सजकता से पूरा करने का प्रयास किया जाएगा. नामांकन दाखिल के वक्त रैली में सम्मिलित होने के लिए हर कोई भाजपाई एवं ग्रामीण उत्सुक नजर आए. नामांकन रैली में शामिल होने के कारण क्षेत्र से आने वाले लोगों की देराठूं चौराहे के निकट लगभग 5 किलोमीटर लंबी वाहनों की कतार लग गई. लोगों के सैलाब को देखते हुए पुलिस ने मांगलियावास से नसीराबाद की तरफ आने वाले मार्ग को डायवर्ट किया.

यह भी पढ़े- प्रदेश में सर्दी की दस्तक लेकिन हवा में घुला जहर, इस नवंबर से मिल सकती है राहत

ऐतिहासिक माकूल व्यवस्था रही
विधानसभा चुनाव में कानून एवं शांति व्यवस्था कायम रखने के उद्देश्य से इस बार विशेष व्यवस्थाएं देखी गई. उपखंड अधिकारी अंशुल आमेरिया और पुलिस उपाधीक्षक विजय सांखला के नेतृत्व में अधीनस्थ अधिकारियों एवं कार्मिकों ने शहर के चप्पे चप्पे पर पैनी नजरें रखी. उपखंड कार्यालय परिसर को बैरिकेट्स के द्वारा सुरक्षित रखा गया. भीड़ को भी रिटर्निंग ऑफिस से डेढ़ सौ मीटर से भी अधिक दूरी पर रोक दिया गया और जगह-जगह बेरिकेटिंग लगाने के कारण व्यवस्थाएं काफी माकूल देखी गई.

40 फॉर्म गए 4 फॉर्म आए
विधानसभा नसीराबाद चुनाव के दंगल में उतरने के लिए 40 व्यक्तियों ने नामांकन फार्म लिए. लेकिन फार्म लेने के बाद चुनावी दंगल के मैदान के लिए फिलहाल चार ही नामांकन दाखिल हुए है.

Trending news