Rajasthan: त्योहारी सीजन के बाद लबालब भरी दिखी रोडवेज बसें, बैठने के लिए करनी पड़ी मशक्कत
trendingNow,recommendedStories1/india/rajasthan/rajasthan1962603

Rajasthan: त्योहारी सीजन के बाद लबालब भरी दिखी रोडवेज बसें, बैठने के लिए करनी पड़ी मशक्कत

Rajasthan: त्योहारी सीजन के बाद रोडवेज बसों में एकदम से यात्री भार बढ़ गया है, जिसके चलते बसें भरी नजर आ रही है और लोगों को  सवार होने के लिए मशक्कत करनी पड़ी.

Rajasthan: त्योहारी सीजन के बाद लबालब भरी दिखी रोडवेज बसें, बैठने के लिए करनी पड़ी मशक्कत

Rajasthan: दीपावली, गोवर्धन पूजा तथा भाई दूज के साथ ही दीपोत्सव का पर्व संपन्न हो गया. दीपोत्सव पर्व के संपन्न होने के साथ ही दूर-दराज से अपने परिजनों के साथ त्यौहार मनाने आए प्रवासी अब पुन: अपने गंतव्य की और लौटने लगे है. इसके कारण रोडवेज बसों में एकदम से यात्री भार बढ़ गया है.

गुरुवार को रोडवेज बस स्टैंड पर यात्रियों की रेलमपेल दिखाई दी. हालात यह थे कि ज्यो भी बस किसी भी रूट के स्टैंड पर लगती वह हाथो-हाथ फुल हो रही थी. इस दौरान सुबह से शाम तक यात्रियों का खासा दबाव रहा. बसों में चढ़ने व उतरने के लिए सवारियों को खासी मशक्कत करते देखा गया.

यह भी पढ़ेंः  RAJASTHAN: अशोक गहलोत ने की उदयपुरवाटी को गोद लेने की घोषणा, खेला ये माली कार्ड

त्योहारी सीजन के चलते मंगलवार व बुधवार को प्रत्येक मार्ग की बसों में यात्री भार का खासा दबाव रहा. यात्रियों को बस में सीट मिल जाए, इसके लिए इंतजार करना पड़ा. ब्यावर से चलने वाली अजमेर, जयपुर, भीलवाड़ा, उदयपुर, पाली, जोधपुर सहित अन्य रूट की बसों में यात्री भार का दबाव रहा. बता दें कि ब्यावर आगरा से चलने वाली अधिकांश बसों में प्रत्येक मार्ग की बस में औसतन करीब 60 से 65 सवारियों ने यात्रा की.

रोडवेज की बसों में पचास सवारियों के बैठने की व्यवस्था रहती है. त्योहारी सीजन के चलते हर रूट की बस में साठ से पैंसठ सवारियों ने यात्रा की. हालात यह रहे कि बस में सवार होने के लिए लोगों को खासी मशक्कत करनी पड़ी. इसके चलते कई सवारियों को सीट नहीं मिलने पर अपने गंतव्य तक या फिर सीट मिलने तक खड़े रहकर यात्रा करनी पड़ी. 

यह भी पढ़ेंः  क्या सच में Rajasthan Vidhansabha पर है भूत-प्रेत का साया? 23 साल में 15 विधायकों का निधन, 5 को जेल

Trending news