अजमेर- केंन्द्र सरकार लक्ष्य योजना की निरीक्षण टीम पहुंची एकेएच, कार्मिकों के साथ की बैठक
trendingNow,recommendedStories1/india/rajasthan/rajasthan1950720

अजमेर- केंन्द्र सरकार लक्ष्य योजना की निरीक्षण टीम पहुंची एकेएच, कार्मिकों के साथ की बैठक

Ajmer latest news: राजस्थान के अजमेर जिले के ब्यावर सरकारी अस्पतालों के गायनिक रूम और लेबर ओटी को विश्वस्तरीय बनाने के मकसद से केन्द्र सरकार द्वारा चलाई जा रही लक्ष्य योजना की एक टीम बुधवार को राजकीय अमृतकौर चिकित्सालय पहुंची.

अजमेर- केंन्द्र सरकार लक्ष्य योजना की निरीक्षण टीम पहुंची एकेएच, कार्मिकों के साथ की बैठक

Ajmer news: राजस्थान के अजमेर जिले के ब्यावर सरकारी अस्पतालों के गायनिक रूम और लेबर ओटी को विश्वस्तरीय बनाने के मकसद से केन्द्र सरकार द्वारा चलाई जा रही लक्ष्य योजना की एक टीम बुधवार को राजकीय अमृतकौर चिकित्सालय पहुंची. टीम में डिस्ट्रिक सिविल हॉस्पीटल पानीपत हरियाणा के पीएमओ डॉ. अमित पोरिया और महाराष्ट्र के बीड़ सिविल हॉस्पीटल के सर्जन डॉ. सुर्वण श्रीराम शामिल है. एकेएच पहुंची टीम की एमसीएच विंग में डा. विधा सक्सैना ने अगुवानी की. इसके बाद दोनों टीम सदस्यों ने गायनिक रूम, शिशु वार्ड तथा लेबर ओटी आदि का निरीक्षण किया.

आवश्यक दिशा-निर्देश 

 निरीक्षण के दौरान गायनिक रूम तथा लेबर ओटी का बारिकी से निरीक्षण करते हुए कुछ खामियां सामने आने पर उपस्थित चिकित्सकों तथा कार्मिकों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए. इसके बाद टीम सदस्यों ने एमसीएच विंग सभागार में चिकित्सा कार्मिकों के साथ बैठक की. बैठक के दौरान एकेएच प्रशासन की और से एमसीएच विंग के गायनिक विभाग में होने वाले प्रसव, मातृ-शिशु मृत्यु दर, शिशु जन्म दर, सुरक्षित प्रसव, शिशुओं के उपचार, रेकार्ड संधारण, प्रसव बाद की स्वास्थ्य सेवाओं सहित अन्य के बारे में जानकारी दी गई. बैठक में सीएमएचओ डा. एसपी मीणा, पीएम्मओ डा. एसएस चौहान, एमसीएच विंग प्रभारी डा. विधा सक्सैना, डा. श्रुति चौधरी, दक्षता मैंटर डा. आयुष, डा. एमके अग्रवाल, डा. आशा देवडा, डा. सुरेन्द्रसिंह बिशु, चिकित्सालय प्रशासक सिद्धांत जोशी, नर्सिग अधीक्षक हनुमान नामा, सुदर्शना, डा. एमएस चांदावत, लेबर रूम से बीना तथा डेजी मारग्रेट आदि शामिल रहे. 

यह भी पढ़े-  देशभर में शेखावाटी की शिक्षा टॉप, सीकर पहले और झुंझुनूं दूसरे स्थान, जयपुर तीसरे नंबर पर
 
लक्ष्य योजना
टीम शीघ्र ही अपनी रिपोर्ट विभाग को सुपुर्द करेगी. मालूम हो कि लक्ष्य योजना के तहत सरकारी अस्पतालों के लेबर रूम और ओटी की जांच के बाद उसे विभिन्न कसौटियों पर परखा जाता है. अगर कोई भी लेकर रूम और ओटी 70 प्रतिशत या उससे अधिक अंक हासिल करती है तो उसे हर साल नकद प्रोत्साहन के साथ ही प्रमाण पत्र और बैज देकर सम्ममानित किया जाता है. जो राशि इनाम के तौर पर मिलती है उसे लेबर रूम और गायनिक ओटी में ही सुविधाओं का विस्तार करने के लिए लगाया जाता है. 

इसी को लेकर ब्यावर के राजकीय अमृतकौर अस्पताल के लेबर रूम और ओटी का भी चयन किया गया है. ज्ञात रहे कि अमृतकौर अस्पताल पहले तीन स्थानीय, जिला और राज्य स्तरीय टीमों के निरीक्षण में खरा उतर चुका है.

Trending news