MP News: हार के बाद कांग्रेस में भी जारी है हलचल, दिग्गज नेता बोले-दिल्ली से तय होगी मेरी जिम्मेदारी
trendingNow,recommendedStories1/india/madhya-pradesh-chhattisgarh/madhyapradesh2001291

MP News: हार के बाद कांग्रेस में भी जारी है हलचल, दिग्गज नेता बोले-दिल्ली से तय होगी मेरी जिम्मेदारी

MP Assembly Elections: मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की करारी हार के बाद पार्टी में बड़ी उलटफेर के संकेत मिलने लगे हैं. इस बीच दिग्गज नेता ने बड़ा बयान दिया है. 

अरुण यादव का बड़ा बयान

MP Chunav News: कांग्रेस की करारी हार के बाद मध्य प्रदेश में पार्टी में बड़े स्तर पर बदलाव की खबरें चल रही हैं. बताया जा रहा है कि जल्द ही पार्टी में बड़ा फेरबदल होगा. इस बीच पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष ने बड़ा बयान दिया है. यादव का कहना है कि वह पार्टी के सामान्य कार्यकर्ता हैं और उनकी जिम्मेदारी क्या होगी यह दिल्ली से तय की जाएगी. बता दें कि अरुण यादव एक बार फिर से एक्टिव नजर आ रहे हैं. 

दिल्ली से तय होगी जिम्मेदारी 

अरुण यादव सीहोर जिले के आष्टा पहुंचे जहां उन्होंने कई मुद्दों पर अपनी राय रखी. पार्टी की करारी हार पर अरुण यादव ने कहा 'कांग्रेस हार के कारण जानने में जुटी है. वहीं खुद के प्रदेश अध्यक्ष की दौड़ में शामिल होने पर अरुण यादव ने कहा कि मैं छोटा सा कार्यकर्त्ता हूं, दिल्ली तय करेंगी किसको क्या जिम्मेदारी मिलेगी. उन्होंने आष्टा सीट पर भी मिली हार का कारण जानने के लिए पार्टी प्रत्याशी के साथ-साथ आष्टा के कार्यकर्ताओं से भी मुलाकात की है.

कार्यकर्ताओं ने खूब मेहनत की है

वहीं अरुण यादव ने कहा कि हमारे कार्यकर्ताओं ने खूब मेहनत की इस चुनाव में, सभी बहुत सिद्दत से चुनाव में जुटे थे और कार्यकर्ताओं ने भी पूरा दम लगाया था. नतीजे हमारे पक्ष में नहीं आये यह गंभीर विषय है, इसको लेकर कार्यकर्ताओं से बात कर रहे है.'

ये भी पढे़ंः MP के नए CM को लेकर प्रह्लाद पटेल ने बढ़ाया सस्पेंस, उनके बयान से हलचल हुई तेज

वहीं ईवीएम मशीन पर खड़े हो रहें सवालों पर भी अरुण यादव ने कहा की साथियों ने और कार्यकर्ताओं ने भी कहा है हम इसके तथ्यों और गहराई में जाने का प्रयास कर रहे है, वहीं प्रदेश अध्यक्ष की दौड़ में जीतू पटवारी, उमंग सिंगार और अपने नाम की चर्चाओं पर अरुण यादव ने कहा सबकी जिम्मेदारी पार्टी तय करती है. 

अरुण यादव पीसीसी चीफ की रेस में शामिल 

बता दें कि कांग्रेस की करारी हार के बाद वर्तमान प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ पार्टी प्रदेश अध्यक्ष का पद छोड़ सकते हैं, ऐसे में अरुण यादव इस रेस में प्रबल दावेदार माने जा रहे हैं, वह पहले भी यह जिम्मेदारी संभाल चुके हैं. जबकि अरुण यादव के जिले में कांग्रेस का प्रदर्शन भी ठीक-ठाक ही रहा है. उनके प्रभाव वाले निमाड़ अंचल में कांग्रेस ने अच्छा प्रदर्शन किया है. उनके भाई सचिन यादव भी अपनी सीट बचाने में सफल रहे हैं. 

ये भी पढ़ेंः CG में पर्यवेक्षकों की नियुक्ति के बाद रमन सिंह का बड़ा बयान, कब खत्म होगा सस्पेंस ?

Trending news