जिला परिषद और सरपंच के चुनाव मेरे, बादल और मुलायम परिवार के लेवल के नहीं : रंजीत चौटाला
trendingNow,recommendedStories0/india/delhi-ncr-haryana/delhiharyana1409538

जिला परिषद और सरपंच के चुनाव मेरे, बादल और मुलायम परिवार के लेवल के नहीं : रंजीत चौटाला

हरियाणा के जेलमंत्री रंजीत  सिंह चौटाला (Ranjit singh Chautala) ने कहा कि आदमपुर चुनाव में जिस तरह से इनेलो के हालात हैं और जो लोग आज इनेलो को चला रहे हैं, उन्हें देखकर लगता है कि इनेलो 3 से 4 हजार वोट ही हासिल कर पाएगी और उसकी जमानत जब्त होगी.

जिला परिषद और सरपंच के चुनाव मेरे, बादल और मुलायम परिवार के लेवल के नहीं : रंजीत चौटाला

सिरसा: हरियाणा के जेल और ऊर्जा मंत्री रंजीत सिंह चौटाला (Ranjit singh Chautala) ने आज अपने निवास पर पार्टी कार्यकर्ताओं से मुलाकात की और उन्हें दीपावली की शुभकामनाएं दीं. इसके बाद पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि आदमपुर उपचुनाव में बीजेपी अच्छे मार्जन से जीत हासिल करेगी. उन्होंने कहा कि कांग्रेस (Congress) पार्टी दूसरे नंबर पर, आम आदमी पार्टी (Aam Admi Party) तीसरे नंबर पर रहेगी,जबकि इनेलो (INLD) की तो जमानत जब्त हो जाएगी।

कैबिनेट मंत्री रंजीत सिंह ने कहा कि वैसे तो उनका परिवार सरपंच और जिला परिषद का चुनाव नहीं लड़ना चाहता, लेकिन यदि उनके हल्के में आकर उन्हें कोई चैलेंज देगा तो निश्चित तौर पर उनका परिवार चुनाव लड़ेगा. उनका बेटा गगनदीप 27 -28 अक्टूबर को जिला परिषद चुनाव के लिए नामांकन पत्र भरेगा.

ये भी पढ़ें : नौ सिख बंदियों के लिए Tihar Jail के बाहर प्रदर्शन, क्यों दी जेल भरो आंदोलन की चेतावनी?

चौधरी रंजीत सिंह ने कहा कि आदमपुर चुनाव में बीजेपी 20 हजार वोट से जीत हासिल करेगी. वहीं आम आदमी पार्टी 7 - 8 हजार वोट लेकर तीसरे नंबर पर रहेगी. जिस तरह से इनेलो के हालात हैं और जो लोग आज इनेलो को चला रहे हैं, उन्हें देखकर लगता है कि इनेलो 3 से 4 हजार वोट ही हासिल कर पाएगी और उसकी जमानत जब्त होगी.

अभय सिंह चौटाला के बेटे करण चौटाला के रानिया हल्का के वार्ड नंबर 6 से जिला परिषद का चुनाव लड़ने के सवाल पर चौधरी रंजीत सिंह ने कहा कि उनके परिवार (देवी लाल ), बादल और मुलायम सिंह यादव के परिवार के लोगों को जिला परिषद और सरपंच के चुनाव में नहीं उतरना चाहिए, ये उनके लेवल का चुनाव नहीं है.

रंजीत सिंह ने कहा कि उनका परिवार तो आज भी जिला परिषद और सरपंच के चुनाव में उतरने को राजी नहीं है, लेकिन यदि उनके हल्के में आकर कोई उन्हें चुनाव की चुनौती देता है तो निश्चित तौर पर उनके परिवार के लोग इस चुनाव में जरूर उतरेंगे.

Trending news