Bihar Politics: बिहार की 'जनता' का 'महागठबंधन' में कोई विश्वास नहीं: नित्यानंद राय, रैली को बताया फ्लॉप
Advertisement

Bihar Politics: बिहार की 'जनता' का 'महागठबंधन' में कोई विश्वास नहीं: नित्यानंद राय, रैली को बताया फ्लॉप

Bihar Politics: केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने जन विश्वास रैली को लेकर महागठबंधन पर जमकर निशाना साध है. उन्होंने कहा कि जन विश्वास रैली में लोगों का 'विश्वास' कहीं नहीं दिखा.

नित्यानंद राय(फाइल फोटो)

पटना: बिहार में महागठबंधन के द्वारा पटना के गांधी मैदान में आयोजित 'जन विश्वास रैली' पर केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि जन विश्वास रैली में लोगों का 'विश्वास' कहीं नहीं दिखा. जिस तरह के दावे महागठबंधन के नेताओं के द्वारा किए जा रहे थे वह दावे फ्लॉप साबित हुए और बिहार की जनता ने एक बार फिर से साबित कर दिया की महागठबंधन के पार्टी में जनता का कोई विश्वास और भरोसा नहीं है. वास्तव में यह जन विश्वास रैली नहीं बल्कि परिवार बचाओ, भ्रष्टाचार छुपाओ रैली था.

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री ने महागठबंधन की पार्टियों को बिहार के मौजूदा हालात के लिए जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि जिस तरह 15 साल तक बिहार में लालू परिवार ने रूल किया उस दौरान सिर्फ अपराध तंत्र, भ्रष्टाचार और जंगल राज का बोलबाला रहा. जिसके वजह से बिहार दशकों पीछे चला गया. एक बार फिर इस जंगल राज को वापस लाने के लिए सभी परिवारवादी और भ्रष्टाचारी  एक मंच पर इकट्ठा हुए हैं लेकिन बिहार की जनता जानती है, पहचानती है और इनके मंसूबों को कभी कामयाब नहीं होने देगी.

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री ने कहा कि तेजस्वी यादव ने 17 महीने के अपने उपमुख्यमंत्री के काल में सिर्फ अपराध तंत्र और भ्रष्टाचार को ही संरक्षण देने का काम किया. यही वजह है कि नीतीश कुमार ने उनसे किनारा करके बिहार को एक बार फिर से विकास के रास्ते पर लाने के लिए भाजपा के साथ गठबंधन किया. नित्यानंद राय ने कहा कि कि देश के साथ पूरा बिहार देख रहा है कि किस तरह देश के यशस्वी प्रधानमंत्री आदरणीय नरेंद्र मोदी जी विकास की गंगा बहा रहे हैं और कल ही दिनांक 2 मार्च को बिहार में 1लाख 62000 करोड़ के परियोजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन किया है.

नित्यानंद राय ने केंद्र सरकार के नीतियों की सराहना करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री का एकमात्र उद्देश्य और लक्ष्य देश के सर्वांगीण विकास के साथ-साथ गांव, गरीब,किसान, मजदूर,  युवा, महिला की उन्नति और तरक्की है और यही बात महागठबंधन के लोगों को पसंद नहीं आ रही है. इन्हें भ्रष्टाचार करने का मौका नहीं मिल रहा है तो सभी भ्रष्टाचारी और परिवारवादी एक मंच पर इकट्ठा होकर गांधी मैदान से प्रधानमंत्री मोदी को चुनौती देने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन उनकी चुनौतियों को बिहार की जनता अपने लोकतांत्रिक अधिकार बैलेट के जरिए जवाब देगी और सभी 40 के 40 सीटों पर एनडीए के उम्मीदवार को जिताने का काम करेगी.

ये भी पढ़ें- Tejashwi Yadav: तेजस्वी यादव की सीएम नीतीश को खुली चुनौती, गाना गाकर बताया कैसा होगा हाल

Trending news