trendingPhotos,recommendedPhotos/india/bihar-jharkhand/bihar1966661
photoDetails0hindi

Bihar News: छठ पूजा पर खरना का प्रसाद पाने जब संजय मयूख के घर पहुंचे भाजपा के दिग्गज

डॉ. संजय मयूख के घर छठ पूजा के मौके पर खरना का प्रसाद ग्रहण करने प्रदेश भाजपा के तमाम वरिष्ठ नेता और संघ के लोग पहुंचे.

1/7

Bihar News: बिहार विधान परिषद के सदस्य, बीजेपी के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी और राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ. संजय मयूख को कौन नहीं जानता है.  बिहार में लोक आस्था का महापर्व छठ मनाया जा रहा है और आज उसका दूसरा दिन यानी खरना है. ऐसे में संजय मयूख के घर खरना का प्रसाद ग्रहण करने बिहार भाजपा प्रदेश के अध्यक्ष सम्राट चौधरी, आरएसएस के प्रान्त संपर्क प्रमुख राजेश जी, संघ के नागेंद्र जी, केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय और भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता अजय आलोक पहुंचे. 

 

2/7

संजय मयूख के घर पहुंचकर इन सभी सियासी दिग्गजों ने शनिवार को सूर्योपासना के महापर्व ‘छठ’ के द्वितीय अनुष्ठान ‘खरना’ का प्रसाद ग्रहण किया. इस दौरान नेता प्रतिपक्ष विजय सिन्हा भी इसमें शामिल हुए. 

 

3/7

वैसे संजय मयूख के बारे में बता दें कि छठ पर्व पर उनकी चर्चा का केंद्र पिछली बार सियासी वजहें बनी थीं. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह सहित भाजपा के कई वरिष्ठ नेताओं के बेहद करीबी संजय मयूख के घर पिछली बार जब छठ के मौके पर नीतीश कुमार खरना का प्रसाद ग्रहण करने पहुंचे थे तो बिहार की राजनीति में जमकर सियासी हंगामा हुआ था. 

4/7

तब अटकलें लगाई जा रही थी कि संजय मयूख के घर नीतीश कुमार का पहुंचना कहीं फिर से नीतीश कुमार के पलटी मारने का संकेत तो नहीं है. हालांकि संजय मयूख के बारे में सभी जानते हैं कि उनका केवल भाजपा ही नहीं अच्छे स्वभाव की वजह से विपक्षी दलों के नेताओं से भी संबंध मधुर रहा है.  

 

5/7

डॉ. संजय मयूख अभी बिहार विधान परिषद के सदस्य हैं. वह दूसरी बार बिहार विधान परिषद के सदस्य पार्टी की तरफ से बनाए गए हैं. वह मूल रूप से वैशाली के रहने वाले हैं. 

 

6/7

1990 में डॉ. संजय मयूख ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण की. फिर पार्टी ने उन्हें 1995 में बिहार प्रदेश बीजेपी का प्रदेश उपाध्यक्ष बना दिया. फिर वह प्रदेश मीडिया प्रभारी बनाए गए. 

 

7/7

2013 में जब भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह थे तो उन्होंने डॉ. संजय मयूख को राष्ट्रीय सह मीडिया प्रभारी की जिम्मेदारी सौंपी. इसके बाद तो उनकी पहचान राष्ट्रीय बन गई.