हिमाचल छोड़ MP,CH और राजस्थान सहित हिंदी प्रदेश से कांग्रेस साफ़; क्या होगा INDIA का भविष्य ?
trendingNow,recommendedStories0/zeesalaam/zeesalaam1992616

हिमाचल छोड़ MP,CH और राजस्थान सहित हिंदी प्रदेश से कांग्रेस साफ़; क्या होगा INDIA का भविष्य ?

चार राज्यों के आए विधानसभा नतीजो के मुताबिक छत्तीसगढ़, एमपी और राजस्थान में हार के बाद हिमाचल को छोड़कर हिंदी बेल्ट से कांग्रेस का पूरी तरह से सफाया हो चुका है. हालांकि इसे बाद भी कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने एक्स पर पोस्ट कर कहा है- 'जुड़ेगा भारत, जीतेगा इंडिया!' 
 

हिमाचल छोड़ MP,CH और राजस्थान सहित हिंदी प्रदेश से कांग्रेस साफ़; क्या होगा INDIA का भविष्य ?

इस बार कांग्रेस पार्टी के कई आक्रामक अभियान चलाने के बावजूद भी पार्टी राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में हार गई. जिसके साथ ही 2024 के महत्वपूर्ण लोकसभा चुनावों से हिमाचल प्रदेश के अलावा बाकी सभी राज्यों में खासकर हिंदी बेल्ट में लगभग सफाया हो गया है. इस बड़े झटके ने लोकसभा चुनाव के लिए अधिक सीटों की सौदेबाजी के लिए इंडिया (भारतीय राष्ट्रीय विकासात्मक समावेशी गठबंधन)  कांग्रेस को झटका दिया है. 

जिस पर कांग्रेस पार्टी के एक नेता ने, जो अभी तक तीन राज्यों में हार के सदमे से उबर नहीं पाए हैं, नाम न छापने की शर्त पर कहा कि नतीजे हमारे लिए "बहुत बड़ा झटका" हैं.  मध्य प्रदेश के नतीजों पर पार्टी के नेता ने कहा कि राहुल गांधी ने इस साल की शुरुआत में कहा था कि राज्य की रिपोर्ट के आधार पर हमें राज्य में 150 सीटें मिलेंगी. उन्होंने कहा, "हालांकि, चीजें हमारे मुताबिक नहीं रहीं और हम इस चुनाव में बहुत कम सीटों पर सिमट गए, जो काफी आश्चर्यजनक है" नेता ने कहा कि- "उन्हें तेलंगाना में पार्टी को उचित रिपोर्ट देने और अभियानों के लिए तरीके सुझाने की पूरी आजादी थी और राज्य नेतृत्व उनसे सहमत था और उन्हें आवश्यक सभी मदद दी."

हालांकि, पार्टी नेता ने कहा कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपनी रणनीति टीम डिजाइनबॉक्स्ड द्वारा किए गए सर्वेक्षणों के आधार पर अपने विधायकों के खिलाफ सत्ता विरोधी लहर से इनकार किया है. उन्होंने कहा, "यही वह जगह है जहां अंतर है. कनुगोलू की टीम द्वारा तैयार किया गया सर्वेक्षण एक ईमानदार सर्वेक्षण था जिसने समस्याओं को उजागर किया था, जिसे नजरअंदाज कर दिया गया था." पार्टी नेता ने कहा कि अब हिंदी पट्टी में पूरी तरह से सफाया होने के बाद 2024 के महत्वपूर्ण लोकसभा चुनाव से पहले की राह कांग्रेस के लिए आसान नहीं होगी. 

कांग्रेस को छत्तीसगढ़ और राजस्थान में सत्ता में वापसी की उम्मीद थी और मध्य प्रदेश में भी भाजपा से सत्ता छीनने की उम्मीद थी. उन्होंने कहा- "लेकिन नतीजे उम्मीद से बिल्कुल अलग आए हैं. यह हमारे लिए मुश्किल वक्त है, लेकिन हम 2024 के लोकसभा चुनावों में भाजपा से मुकाबला करने के लिए कुछ तरीके ढूंढेंगे." कांग्रेस पिछले साल पंजाब, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में हार गई थी. बिहार में कांग्रेस राजद और जदयू के महागठबंधन का हिस्सा है और झारखंड में कांग्रेस झामुमो के साथ गठबंधन सरकार का हिस्सा है. 

जयराम ने पोस्ट कर कहा- 'जुड़ेगा भारत, जीतेगा इंडिया!'  
कांग्रेस के महासचिव जयराम रमेश ने मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में पार्टी की हार के बाद कहा है कि- कुछ साल पहले 2003 में भी उनके कांग्रेक को इसी तरह हार का सामना करना पड़ा था, लेकिन 2004 के लोकसभा चुनाव में वह केंद्र में सरकार बनाने में सफल रही थी. उन्होंने कहा कि कांग्रेस विश्वास, धैर्य और दृढ़ संकल्प के साथ आने वाले लोकसभा चुनाव के लिए तैयारी करेगी.  रमेश ने 'एक्स' पर पोस्ट किया- "ठीक 20 साल पहले भी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस को छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और राजस्थान में हुए विधानसभा चुनावों में हार का सामना करना पड़ा था. उस वक्त हमें सिर्फ़ दिल्ली में जीत मिली थी, लेकिन कुछ ही महीनों में ज़ोरदार ढंग से वापसी करते हुए कांग्रेस लोकसभा चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी और केंद्र में सरकार बनाई."  उन्होंने कहा- "उम्मीद, विश्वास, धैर्य और दृढ़ संकल्प के साथ भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस आने वाले लोकसभा चुनावों के लिए तैयारी करेगी. 'जुड़ेगा भारत, जीतेगा इंडिया!"

Trending news