8 साल पहले शादी, 2 बच्चे होने के बाद बीवी ने लगाया मुसलमान बनाने का इल्जाम; पति गिरफ्तार
trendingNow,recommendedStories0/zeesalaam/zeesalaam1974520

8 साल पहले शादी, 2 बच्चे होने के बाद बीवी ने लगाया मुसलमान बनाने का इल्जाम; पति गिरफ्तार

Ghaziabad Conversion: यूपी में धर्म परिवर्तन को लेकर योगी सरकार बेहद सख्त है. इस बीच गाजियाबाद में एक बीवी ने अपने शौहर पर धर्म परिवर्तन का इल्जाम लगाया है. आरोपी शौहर को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. 

8 साल पहले शादी, 2 बच्चे होने के बाद बीवी ने लगाया मुसलमान बनाने का इल्जाम; पति गिरफ्तार

Ghaziabad Conversion: उत्तर प्रदेश में धर्मांतरण से जुड़े मामले लगातार सामने आ रहे हैं. ताजा मामला गाजियाबाद के थाना शालीमार गार्डन इलाके का है, जहां पर एक बीवी ने अपने शौहर पर धर्मांतरण का इल्जाम लगाया है.  बीवी का इल्जाम है कि शौहर मौलवी को बुला कर धर्म परिवर्तन करने पर जोर देता था. पीड़िता इससे तंग होकर आकर पुलिस को इसकी शिकायत की. पुलिस ने बताया कि महिला की शिकायत पर मुल्जिम शौहर नावेद को गिरफ्तार कर लिया गया है. 

8 साल पहले दोनों की हुई थी शादी

जानकारी के मुताबिक, हिंदू ओरत से नावेद हिंदू नाम लेकर मिला और करीब 8 साल पहले दोनों ने शादी कर ली. इसके बाद सबकुछ सही चल रहा था, लेकिन कुछ दिनों बाद दोनों में अन-बन शुरू हो गई. बताया जा रहा है कि नावेद ने इससे पहले भी हिंदू महिला से शादी की थी और उसे तलाक देकर इस पीड़िता से विवाह की. 

नावेद के भाई ने भी है हिंदू महिला से शादी

इसके अलावा नावेद के भाई ने भी एक हिंदू औरत से शादी की हुई है. डीसीपी शुभम पटेल ने बताया कि पुलिस ने मुल्जिम नावेद को गिरफ्तार किया है और धर्मांतरण से जुड़े दूसरे बिंदुओं पर भी पुलिस जांच कर रही है. इससे पहले भी यूपी में धर्म परिवर्तन के कई मामले सामने आए हैं. 

धर्म परिवर्तन को लेकर योगी सरकार सख्त

धर्मांतरण को लेकर योगी सरकार बहुत ही सख्त है. यूपी सरकार ने लव-जिहाद और धर्मांतरण पर लगाम लगाने के लिए 27 नवंबर 2020 को एक एक अध्यादेश लाया था. इस अध्यादेश को विधि विरुद्ध संवपरिवर्तन प्रतिषेध अध्यादेश 2020 के नाम से जाना जाता है. ये अध्यादेश पूरे प्रदेश में लागू है. 

यूपी सरकार ने दावा किया था कि उत्तर प्रदेश में 27 नवंबर 2020 से 30 अप्रैल 2023 तक धर्मांतरण से जुड़े मामले दर्ज किए गए हैं. इसमें 855 लोगों की गिरफ्तारी हुई थी. इनमें 184 मामलों में पीड़िताओं ने कोर्ट के समक्ष जबर्दस्ती धर्म परिवर्तन की बात कबूल की थी. वहीं नबालिगों के धर्मांतरण के 66 मामले दर्ज किए गए थे.

Zee Salaam Live TV

Trending news