Udaipur Chunav Result Winner List: उदयपुर सीट से बीजेपी के ताराचन्द जैन जीते, देखें पूरा अपडेट
trendingNow,recommendedStories1/india/rajasthan/rajasthan1989500

Udaipur Chunav Result Winner List: उदयपुर सीट से बीजेपी के ताराचन्द जैन जीते, देखें पूरा अपडेट

Udaipur Vidhan Sabha Chunav Result 2023: उदयपुर विधानसभा सीट में कांग्रेस को हार का मुंह देखना पड़ा है. जानकारी के अनुसार, यहां से बीजेपी के ताराचन्द जैन जीत चुके हैं.

Udaipur Chunav Result Winner List: उदयपुर सीट से बीजेपी के ताराचन्द जैन जीते, देखें पूरा अपडेट

Udaipur Vidhan Sabha Chunav Result 2023: उदयपुर विधानसभा सीट मेवाड़ क्षेत्र की सबसे हॉट सीट में से एक है. यहां साल 2018 में बीजेपी के गुलाबचंद कटारिया ने जीत दर्ज की थी, 2023 के विधानसभा चुनाव में यहां मुख्य मुकाबला कांग्रेस के गौरव वल्लभ बनाम भाजपा के ताराचंद जैन के बीच था. लेकिन कड़ा टक्कर के बाद, उदयपुर सीट से बीजेपी के ताराचन्द जैन जीत चुके हैं. बदा दें, कि 2023 में इस सीट पर 66.67  प्रतिशत मतदान हुआ, जो कि साल 2018 में हुए विधानसभा चुनाव से 0.35 फीसदी बढ़ा है, पिछले चुनाव में यहां 66.32 प्रतिशत मतदान हुआ था.

जीत के बाद भाजपा के ताराचन्द जैन बोले- शहर की ट्राफिक व्यवस्था को बेहतर बनाने के साथ साथ  आयड़ नदी का विकास उनकी प्राथमिकता रहेगी. साथ ही कांग्रेस प्रत्याशी गौरव वल्लभ पर  निशाना साधते हुए कहा कि- गौरव वल्लभ टीवी के बड़े चेहरे थे, लेकिन जनता ने बाहरी को पसंद नहीं किया. 

विधानसभा चुनाव 2018 

2018 में यहां से गुलाबचंद कटारिया विजयी हुए थे. उदयपुर से विधायक रहते हुए वे 2 बार प्रदेश के गृह मंत्री और 2 बार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष भी रहे. साल 2018 में कटारिया ने कांग्रेस की डॉ. गिरिजा व्यास को 9200 वोटों से मात देकर जीत दर्ज की थी. 

जातीय समीकरण

उदयपुर सीट पर 2018 में वोटर्स की कुल संख्या 2,41,588 है. यहां करीब 40-45 हजार जैन मतदाता हैं. करीब 40 से 45 हजार ब्राह्मण और करीब 25 हजार मुस्लिम वोटर्स है. अब तक यहां ब्राह्मण-जैन प्रत्याशी का एकाधिकार रहा है. अब तक यहां 8 बार ब्राह्मण विधायक रहे हैं. 6 बार जैन और एक बार ओबीसी प्रत्याशी को विधायक बनने का मौका मिला है. 2003 में बीजेपी के दिग्गज नेता गुलाबचंद कटारिया उदयपुर से चुनाव लड़कर जीते. वहां यहां से लगातार 4 बार चुनाव जीत चुके हैं. 2003 के बाद 2008, 2013 और 2018 में भी कटारिया यहां से विजयी हुए थे.

Trending news