Delhi MCD election 2022: संत नगर और मुकुंदपुर में एमसीडी के कामों से बेदह परेशान लोग
topStories0hindi1460683

Delhi MCD election 2022: संत नगर और मुकुंदपुर में एमसीडी के कामों से बेदह परेशान लोग

Delhi MCD Election 2022 News: 4 दिसबंर को MCD चुनाव हैं, जिसके पहले आज ZEE MEDIA की टीम ने संत नगर (Sant Nagar) और मुकुंदपुर (Mukundpur) वार्ड पर पहुंचकर वहां के लोगों की समस्याएं सुनी.

Delhi MCD election 2022: संत नगर और मुकुंदपुर में एमसीडी के कामों से बेदह परेशान लोग

नई दिल्ली: MCD चुनाव को लेकर दिल्ली में राजनीति तेज हो गई हैं, सभी पार्टियां अपनी पार्टी को अच्छा दिखाने और विपक्ष को नीचा दिखाने में जुट गई हैं. इसके साथ ही BJP, AAP और कांग्रेस द्वारा लगातार MCD चुनाव में जीत का दावा भी किया जा रहा है. ZEE MEDIA की टीम 'चुनावी चौराहा' के तहत लगातार सभी वार्डों में पहुंचकर वहां की समस्याओं को सामने ला रही है. 

आज ZEE MEDIA की टीम संत नगर (Sant Nagar) के वार्ड 9  और मुकुंदपुर (Mukund Pur) वार्ड 8 पर पहुंची और यहां के लोगों की समस्याओं के बारे में चर्चा की. इसके साथ ही हमारी टीम ने ये भी जाना की आगामी नगर निगम चुनाव में इन वार्ड के लोगों के लिए कौन से वो मुद्दे होंगे जिनके आधार पर वो अपने वोट देंगे.

ये भी पढ़ें: Narela और Holambi Kalan में गंदगी के साथ कई परेशानियों से त्रस्त लोग

 

Sant Nagar Ward No. 9
संत नगर में लोगों से बात करने पर पता चला कि गंदगी यहां सबसे बड़ी समस्या बनी हुई है. जहां लोगों ने कहा कि नालियां ओवरफ्लो होती रहती हैं, लेकिन कोई साफ करने नहीं आता है. सालों से सड़क खराब है पर पार्षद के सर पर जूं तक नहीं रेंगती. इतना ही नहीं लोगों ने कहा कि यहां कोई स्वास्थ संबंधी सुविधा नहीं है. गदंगी की वजह से मच्छरों की दिक्कत है, लेकिन मच्छर मारने वाली दवाई का छिड़काव नहीं किया जाता है. यहां पार्षद से लोग बहुत परेशान दिखें, उन्होंने कहा कि पार्षद ने जीतने के बाद कभी शक्ल तक नहीं दिखाई. चुनाव के समय दिखावा करने के लिए नालियां का मलबा अब बाहर निकाला गया है तो उसे साफ करने आए है, लेकिन 5 साल में कोई नहीं आया. 

Mukundpur Ward No. 8
चुनावी चौराहा संत नगर के साथ दिल्ली के मुकुंदपुर भी पहुंचा, जहां लोगों से बातचीत करने पर पता चला कि पार्षद द्वारा बिल्कुल संपर्क और संवाद नहीं किया जाता है.साथ ही कूड़ा-कचरा और भरी नालियां यहां मुख्य समस्याएं हैं. लोगों ने बताया कि एमसीडी कर्मचारी साफतौर पर रिश्वतखोरी करते है. मच्छरों का बहुत आतंक है, बीमारियां फैल रही है, लेकिन दवाई का छिड़काव नहीं किया जाता है. किसी तरह की कोई सुनवाई नहीं होती.

 

Trending news