ऊना के पोना गन्ने का रस शरीर की कई बीमारियों के लिए है फायदेमंद, जानें क्यों नहीं होती कहीं और इसकी खेती
Advertisement

ऊना के पोना गन्ने का रस शरीर की कई बीमारियों के लिए है फायदेमंद, जानें क्यों नहीं होती कहीं और इसकी खेती

Una News in Hindi: ऊना के पोना गन्ने का रस शरीर की कई बीमारियों के लिए काफी फायदेमंद है. वहीं, सबसे खास बात ये है कि हिमाचल में ऊना के अलावा  इसकी खेती कहीं नहीं होती. 

ऊना के पोना गन्ने का रस शरीर की कई बीमारियों के लिए है फायदेमंद, जानें क्यों नहीं होती कहीं और इसकी खेती

Una News: हिंदुस्तान में गन्ने का रस काफी लोग पीते हैं और गन्ने के रस से गुड़ और शक्कर आदि तैयार कर लोग इसका सेवन करते हैं. किसानों द्वारा गन्ने की खेती भी बड़े स्तर पर की जाती है क्योंकि अच्छी पैदावार होने से किसानों को अच्छे दाम भी मिलते हैं, लेकिन आज हम आपको गन्ने की एक ऐसी किस्म के बारे में रूबरू करवाने जा रहे हैं जो कि सिर्फ जिला ऊना  मुख्यालय पर वार्ड नंबर 9 और 10 बैली मोहल्ला में कुछ ही एरिया में बोया जाता है, जिसको पोना गन्ना के नाम से जाना जाता है. 

इस गने का सेवन सिर्फ रस के लिए किया जाता है क्योंकि इसके रस से ना तो चीनी बनती है और ना ही गुड़ बन पाता है.  यह गन्ना दूसरे गन्ने के मुकाबले देखने में काफी अलग है और इसकी लंबाई करीब 10 फीट होती है. 

हमारी टीम ने इसका जायजा लेने के लिए जिला मुख्यालय के वार्ड नंबर 9 और 10 पहुंची यहां पर एक किसान द्वारा पोना गन्ने की पैदावार की गई थी, उन्होंने मीडिया को अपने खेत में ले जाकर पोना गन्ना की फसल को दिखाया, जिसको देखकर हम लोग भी हैरान रह गए क्योंकि यह पोना गन्ना देखने में दूसरे गन्ने के मुकाबले काफी मोटा और लंबा है. 

इंसान इसको चूसने की कोशिश करता है तो बड़ी आसानी से इसको छिल कर इसका जूस पी सकता है. जबकि दूसरे गन्ने काफी मजबूत होते हैं और उसमें रस भी कम निकलता है और इस पोना गन्ने में रस ज्यादा निकलता है. वहीं, इसके रस का स्वाद भी बहुत अच्छा है. 

किसान ने जानकारी देते हुए बताया की पोना गन्ने की खेती उनके पूर्वज काफी समय से कर रहे हैं.  यह पोना  गन्ना कहां से आया इसकी उनके पास भी कोई सटीक जानकारी नहीं है. यह गन्ना वार्ड 9 और 10 के एरिया में बोया जाता है जबकि इसकी पैदावार को बढ़ाने के लिए ऊना के अलग हिस्सों में इसको बोया गया था, लेकिन वहां पर इसकी फसल कामयाब नहीं हो सकी. 

किसान के मुताबिक यह पोना गन्ना ऊना मुख्यालय पर ही बोया जाता है. किसान ने कहा कि उन्होंने अनेक राज्य का भ्रमण किया, लेकिन कहीं पर भी पोना गन्ने की वैरायटी देखने को नहीं मिली है. गन्ने के जूस का कारोबार करने वाले लोग इसको लेकर जाते हैं और इसका रस निकालकर लोगों को बेचते हैं. 

दूर-दूर से लोग इस गन्ने को लेने के लिए आते हैं.  किसान के मुताबिक इस पोना गन्ने की फसल उगाने से उनकी आमदनी भी अच्छी होती है और लोगों को अच्छा जूस भी पीने को मिलता है. किसान के मुताबिक, पोना गन्ने का रस पीने से शरीर में कई प्रकार के रोगों के लिए फायदेमंद है और इंसान को तंदुरुस्त रखता है. इसलिए लोग ज्यादा पोना गन्ना का रस पीना पसंद करते है. 

रिपोर्ट- राकेश मालही, ऊना

Trending news