trendingPhotos,recommendedPhotos/india/madhya-pradesh-chhattisgarh/madhyapradesh1304016
photoDetails1mpcg

Baba Mahakal : भाद्रपद की पहली सवारी में बाबा ने दिखाए 5 रूप, तस्वीरों में करें महाकाल के साक्षात दर्शन

भाद्रपद ( भादौ ) माह के पहले सोमवार को परंपरा अनुसार बाबा महाकाल नगर भ्रमण पर प्रजा का हाल जानने के लिए निकले. भागवान भोलेनाथ की पांचवी सवारी में भक्तों ने पांच स्वरूपों में दिए बाबा महाकाल के दर्शन किए. यहां एक साथ करिए बाबा महाकाल के पांच स्वरूपों के दर्शन...

 

1/7

पांच स्वरूपों में दिए दर्शन परंपरा अनुसार ठीक शाम 4 बजे बाबा महाकालेश्‍वर पालकी में चंद्रमौलेश्वर, हाथी पर मनमहेश, गरुड़ देव के रथ पर श्री शिव तांडव रूप में, नंदी रथ (बैलगाड़ी) पर श्री उमा महेश जी व ढोल रथ पर होलकर स्टेट के मुखारविंद विराजित होकर भक्तों को दर्शन देने व हाल जानने नगर भ्रमण पर निकले.

2/7

यात्रा में दिखा राष्ट्रभक्ति का रंग नगर भ्रमण के दौरान भगवान का स्वागत करने का अवसर भक्तों को मिला. भादौ की पहली व या कहे सामान्यतः पांचवी सवारी में पांच स्वरूप में बाबा ने दर्शन दिए. सवारी में आजादी के 76वें वर्ष में प्रवेश करने की झलक भी भजन मंडलियों के माध्यम से देखने को मिली हर किसी के हाथ मे राष्ट्रीय ध्वज लहरा रहा था.

3/7

कलेक्टर व एसएसपी ने सबसे पहले उठाई पालकी सवारी के निकलने के पूर्व सभामंडप में पूजन-अर्चन शासकीय पुजारी पं. घनश्‍याम शर्मा द्वारा किया गया. सर्व प्रथम भगवान श्री महाकालेश्‍वर का षोडशोपचार से पूजन-अर्चन किया गया. इसके पश्‍चात भगवान की आरती की गई, पूजन के पश्चात पालकी को जिला कलेक्टर व एसएसपी ने उठा कर आगे बढ़ाया.

4/7

मंदिर के द्वार पर दिया गया गार्ड ऑफ ऑनर मंदिर के मुख्य द्वार पर बाबा महाकाल को पुलिस बल द्वारा गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया. इस दौरान झुमते नाचते गाते और भगवन का स्वागत करने को आतुर राह में खड़े भक्तों की मनमोहक तस्वीरें सामने आईं. जय श्री महाकाल के नारों से अवंतिका नगरी झूम उठी.

5/7

यात्रा पथ में दिखा सांस्कृतिक कला का रंग मंदिर के मुख्य द्वार से क्षिप्रा तट तक सांस्कृतिक कला कहीं जाने वाली भव्य रंगलोगी केवि पंड्या द्वारा बनाई गई. वहीं क्षिप्रा नदी स्तिथ सवारी मार्ग को रेड कारपेट से बिछाया गया और रंगबिरंगे ध्वज लगाए गए. सवारी के आगे-आगे आतिशबाजीयां की गईं. शुरुआत तोप की आवाज और केसरिया ध्वज लहराते हुए की गई. उसके पश्चात पुलिस बैण्ड द्वारा सुंदर सी धुन बजा कर बाबा का स्वागत किया गया.

6/7

नगर भ्रमण कर मंदिर लौटे महाकाल महाकालेश्वर मंदिर से सवारी, महाकाल घाटी, होते हुए क्षिप्रा नदी पहुंची, जहां पूजन के बाद भगवान परंपरा मार्ग पर भ्रमण करते हुए मंदिर लौटे.

7/7

अगली सवारी 22 अगस्त को निकलेगी अब सावन व भादौ माह की आखरी व शाही सवारी 22 अगस्त सोमवार को निकलेगी, जिसमें संख्या में भक्तों के शामिल होने का अनुमान लगाया जा रहा है. आखरी व शाही सवारी 4:00 बजे से रात के 11:00 बजे तक शहर भर में होते हुए मंदिर लौटती है.