Bageshwar Dham के बाबा Dhirendra Shastri को बड़ी राहत, नागपुर पुलिस ने दी क्लीन चिट...
trendingNow,recommendedStories1/india/madhya-pradesh-chhattisgarh/madhyapradesh1543987

Bageshwar Dham के बाबा Dhirendra Shastri को बड़ी राहत, नागपुर पुलिस ने दी क्लीन चिट...

Bageshwar Dham clean chit: बागेश्वर धाम के बाबा धीरेंद्र शास्त्री को नागपुर पुलिस ने क्लीन चिट दे दी है. पुलिस कमिश्नर अमितेश कुमार ने बताया कि उनपर लगे सारे आरोप बेबुनियाद है.

Bageshwar Dham के बाबा Dhirendra Shastri को बड़ी राहत, नागपुर पुलिस ने दी क्लीन चिट...

नई दिल्ली: विवादों के बीच महाराष्ट्र की नागपुर पुलिस (Nagpur police) ने बागेश्वर धाम बाबा को क्लीन चिट (Dhirendra shashtri clean chit)   दे दी है. गौरतलब है कि 5 से 11 जनवरी के बीच नागपुर में राम कथा (Nagpur police) का आयोजन किया था. इस दौरान उनपर अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति के उपाध्यक्ष श्याम मानव ने अंधविश्वास फैलाने की शिकायत दर्ज करवाई थी. लेकिन अब जांच के बाद नागपुर पुलिस ने बाबा को क्लीन चिट दे दी है.

इस पूरे मामले में मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस का कहना है कि बाबा के ऊपर जो आरोप लगाए गए थे, वो निराधार है. हमने जांच में पाया है कि ऐसा कोई काम नहीं किया गया, जिससे अंधविश्वास को बढ़ावा दिया जा रहा हो. पुलिस ने साफ तौर पर कह दिया कि हम पंडित धीरेंद्र शास्त्री पर कोई केस दर्ज नहीं करेंगे.

रायपुर में बोले बागेश्वर धाम के धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री, नागपुर की संस्था से मिली चुनौती स्वीकार

नागपुर पुलिस ने दी सफाई
मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक नागपुर पुलिस कमिश्नर अमितेश कुमार ने बताया कि बागेश्वर धाम के बाबा धीरेंद्र शास्त्री का 5 से 11 जनवरी के बीच जो कार्यक्रम हुआ था, उसकी हमने काफी गहन तरीके से जांच की गई है. अब इस रामकथा में किसी प्रकार का अंधविश्वास को फैलाया या अंधश्रद्धा निर्मूलन कानून 2013 या ड्रग्स ऐंड कॉस्मेटिक्स ऐक्ट के तहत गुनाह होता नहीं नजर आ रहा है. इसलिए हम इस निष्कर्ष पर पहुंचे है.

नागपुर में दी थी चुनौती
दरअसल हाल ही में नागपुर में धीरेंद्र शास्त्री (nagpur dhirendra shastri) की रामकथा के दौरान अंध श्रद्धा मूलन के संस्थापक श्याम मानव (nagpur shyam manav) ने आरोप लगाया कि वो लोगों को मूर्ख बनाने का काम कर रहे हैं. इसके साथ ही उन्होंने चुनौती दी कि अगर वो चमत्कार दिखाते हैं, तो वो उनको 30 लाख रुपये देंगे. समिति ने धीरेंद्र शास्त्री पर अंधविश्वास औऱ जादू-टोने का आरोप  लगाया था.

Trending news