Delhi House Tax: दिल्ली के ग्रामीण इलाके हुए हाउस टैक्स से फ्री, लोगों ने किया धन्यवाद
trendingNow,recommendedStories0/india/delhi-ncr-haryana/delhiharyana1994578

Delhi House Tax: दिल्ली के ग्रामीण इलाके हुए हाउस टैक्स से फ्री, लोगों ने किया धन्यवाद

Delhi House Tax: पालम 360 खाप ने बड़ा आंदोलन चलाकर दिल्ली देहात की मांग रखी और कहा गांव मे हाउस टैक्स फ्री करें. सुरेन्द्र सोलंकी ने कहा कि आंदोलन से सरकार झुकी है. ग्रामीणों की आवाज को सुना और दिशानिर्देश जारी किए. अब दिल्ली के गांव को हॉउस टैक्स नहीं देना होगा.

Delhi House Tax: दिल्ली के ग्रामीण इलाके हुए हाउस टैक्स से फ्री, लोगों ने किया धन्यवाद

Delhi News: राजधानी दिल्ली मे गांव आज भी मौजूद है. दिल्ली सरकार और दिल्ली नगर निगम ने गांव की जनता के लिए एक बड़ा तौफा दिया है. दिल्ली के ग्रामीण इलाकों में रहने वालों के लिए अच्छी खबर है. अब उन्हें हाउस टैक्स देने की जरूरत नहीं पड़ेगी.  मेयर शैली ओबरॉय ने इसकी घोषणा करते हुए कहा कि ग्रामीण इलाकों के रेजिडेंशल इलाकों में चाहे वह लाल डोरा हो या एक्सटेंडेट लाल डोरा. इन जगहों में स्थित मकान मालिकों से हाउस टैक्स नहीं वसूला जाएगा, लेकिन जो नोटिफाइड कमर्शल सड़कें होंगी वहां दुकानदारों को पहले की तरह ही टैक्स देना होगा.

पालम 360 खाप ने चलाया बड़ा आंदोलन
पालम 360 खाप ने बड़ा आंदोलन चलाकर दिल्ली देहात की मांग रखी और कहा गांव मे हाउस टैक्स फ्री करें. सुरेन्द्र सोलंकी ने कहा कि आंदोलन से सरकार झुकी है. ग्रामीणों की आवाज को सुना और दिशानिर्देश जारी किए. अब दिल्ली के गांव को हॉउस टैक्स नहीं देना होगा. 360 खाप पालम मेयर और दिल्ली मुख्यमंत्री का धन्यवाद करती है. दिल्ली देहात के गांव में खुशी की लहर है क्योंकि उनकी मांगों को पूरा किया जा रहा है और साथ ही वह हाउस टैक्स से फ्री हो गए हैं. दिल्ली में आंदोलन के दौरान 11 मांग रखी थी. कुछ मांग मान ली गई है. कुछ अभी बाकि हैं.

ये भी पढ़ें: ACB की गिरफ्तार में खाद्य एवं आपूर्ति विभाग का इंस्पेक्टर, किया 2.5 करोड़ का घोटाला

ग्रामीण इलाकों का हाउस टैक्स माफ!
ग्रामीण लोगों का कहना कि ग्रामीण इलाकों के रिहायशी एरिया में हाउस टैक्स माफ करने से पहले खाप प्रधान को साथ एमसीडी टैक्स ब्रांच अधिकारियों के साथ इस मुद्दे पर चर्चा की गई थी. इसके बाद यह फैसला लिया गया कि ग्रामीण इलाकों में हाउस टैक्स माफ किया जाएगा. सुरेन्द्र सोलंकी प्रधान ने कहा कि एमसीडी के सभी नोटिफाइड कमर्शल इलाको में पहले की तरह ही नोटिफाइड कमर्शल सड़कें होगी, वहां दुकानदारों को टैक्स देना होगा इस एरिया के लिए टैक्स कलेक्शन में कोई बदलाव नहीं किया गया है.

INPUT- Sharad Bhardwaj

Trending news