Bihar News: अमित शाह ने धीरज साहू के यहां कैश बरामदगी के मामले पर जो कहा सुनकर विपक्ष के होश उड़ जाएंगे
trendingNow,recommendedStories0/india/bihar-jharkhand/bihar2004181

Bihar News: अमित शाह ने धीरज साहू के यहां कैश बरामदगी के मामले पर जो कहा सुनकर विपक्ष के होश उड़ जाएंगे

Bihar News:केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में पटना मुख्यमंत्री सचिवालय स्थित संवाद में 26वीं पूर्वी क्षेत्रीय परिषद की बैठक आयोजित की गई. इस कार्यक्रम के समापन के बाद बिहार बीजेपी के नेताओं के साथ केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की बैठक हुई.

फाइल फोटो

पटना: Bihar News:केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में पटना मुख्यमंत्री सचिवालय स्थित संवाद में 26वीं पूर्वी क्षेत्रीय परिषद की बैठक आयोजित की गई. इस कार्यक्रम के समापन के बाद बिहार बीजेपी के नेताओं के साथ केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की बैठक हुई. जिसके बाद केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि बिहार में जातिगत सर्वे का निर्णय तभी किया गया जब भाजपा बिहार सरकार में हिस्सेदार थी. सर्वे होने के बाद जो रिपोर्ट आई और जो कानून आया है उसका भी भाजपा ने समर्थन किया है.लेकिन, सर्वे में कुछ सवाल उठे हैं, मुख्यत: मुसलमानों और जाति विशेष को ज्यादा तवज्जो देकर छोटी और पिछड़ी जाति के साथ अन्याय का सवाल बार-बार उठ रहा है. मेरा आग्रह है कि इन सारे सवालों का तुरंत समाधान करना चाहिए. 

कांग्रेस सांसद धीरज साहू के यहां छापेमारी में 200 करोड़ से ज्यादा कैश बरामद होने पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि मुझे बड़ा आश्चर्य है, आजादी के बाद किसी सांसद के घर से इतनी बड़ी मात्रा में नकदी नहीं बरामद हुई है. करोड़ों रुपये की वसूली हुई है लेकिन पूरा INDI गठबंधन इस भ्रष्टाचार पर चुप है. कांग्रेस का मौन तो समझ में आता है क्योंकि उनकी फितरत ही भ्रष्टाचार की है लेकिन TMC, JDU, RJD, DMK और सपा भी चुप बैठी है. अब मुझे समझ में आया कि PM मोदी के खिलाफ अभियान क्यों चलाया गया कि जांच एजेंसियों का दुरुपयोग किया जा रहा है. ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि उनके मन में डर था कि उनके भ्रष्टाचार के सारे राज खुल जाएंगे. 

अमित शाह दिल्ली हुए रवाना
बिहार बीजेपी के नेताओं के साथ केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की बैठक लगभग 1 घंटे तक चली. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह इसके बाद वहां से पटना एयरपोर्ट पहुंचे. जहां से विशेष विमान से वह दिल्ली के लिए रवाना हुए. एयरोपोर्ट पर केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सम्राट चौधरी, नेता प्रतिपक्ष विजय सिन्हा भी अमित शाह के साथ मौजूद. 

इससे पहले केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में पटना मुख्यमंत्री सचिवालय स्थित संवाद में 26वीं पूर्वी क्षेत्रीय परिषद की बैठक आयोजित की गई. जिसमें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शामिल हुए. बिहार के मुख्यमंत्री ने बैठक की मेजबानी की. लगभग 3 घंटे चली इस बैठक में बिहार, झारखंड, उड़ीसा और पश्चिम बंगाल के मंत्री और बड़े अधिकारी भी शामिल हुए.  मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बाहर से आए प्रतिनिधियों का स्वागत करते हुए कहा कि पूर्वी क्षेत्रीय परिषद की बैठक में वह हमेशा भाग लेते रहे हैं. 28 फरवरी 2020 को उड़ीसा में आयोजित बैठक में भी उन्होंने भाग लिया था. 

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जाति आधारित जनगणना की बातें विस्तार से रखते हुए कहा कि बिहार की कुल आबादी 13 करोड़ 7 लाख 25 हजार 310 है जिसमें 53 लाख 72 हजार 22 लोग बिहार से बाहर रह रहे हैं. कमजोर वर्गों के सामाजिक उत्थान और आरक्षण में भागीदारी बढ़ाने की बात कहते हुए उन्होंने जिक्र किया कि बिहार में आरक्षण की सीमा 50 से बढ़कर 65% कर दी गई है. इसके लिए कानून पारित हो गया है. सामान्य वर्ग के आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के लिए पहले से 10% आरक्षण उपलब्ध है. कुल मिलाकर 75% आरक्षण हो गया. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार से आरक्षण के नए कानून को संविधान की नौवीं अनुसूची में डालने का अनुरोध किया गया है. जिसको लेकर उम्मीद की जा रही है कि केंद्र सरकार शीघ्र ही इसे नवम अनुसूची में शामिल करेगी. 

विशेष राज्य के दर्जा को लेकर भी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मजबूती से बात रखते हुए कहा कि वह 2010 से ही बिहार के लिए विशेष राज्य की दर्ज की मांग कर रहे हैं और यहां पर विकास के मापदंड राष्ट्रीय औसत से काफी नीचे है. लिहाजा बिहार विशेष राज्य के दर्जे की सभी शर्तों को पूरा करता है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अमित शाह से कहा कि वे उम्मीद करते हैं कि बिहार को विशेष राज्य के दर्जा देने के बारे में आप जरूर सोचेंगे.

बैठक में बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव, वित्त मंत्री विजय कुमार चौधरी, जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा, पश्चिम बंगाल की मंत्री चंद्रिमा भट्टाचार्य, उड़ीसा के मंत्री प्रदीप कुमार, उड़ीसा के मंत्री तुषार क्रांति बेहरा, झारखंड के मंत्री रामेश्वर उरांव, झारखंड के मंत्री चंपई सोरेन, केंद्र सरकार के सचिव गण,चारों राज्यों के मुख्य सचिव, बिहार के पुलिस महानिदेशक,पूर्वी क्षेत्रीय परिषद के सचिव और केंद्र सरकार और राज्य सरकारों के वरीय पदाधिकारी शामिल हुए. 
(RAJESH KUMAR, RAJNISH & SHIVAM)

Trending news