Uttarakhand: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय BJP में हो सकते हैं शामिल, कांग्रेस ने 6 साल के लिए किया निष्कासित
topStories0hindi1081220

Uttarakhand: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय BJP में हो सकते हैं शामिल, कांग्रेस ने 6 साल के लिए किया निष्कासित

Uttarakhand Assembly Election 2022: पत्र में बताया गया है कि कांग्रेस पार्टी की तरफ से किशोर उपाध्याय (Kishore Upadhyay) को व्यक्तिगत रूप से कई बार चेतावनी दी गई. इसके बावजूद, उनकी पार्टी विरोधी गतिविधियां नहीं रुक रही हैं. ऐसे में किशोर उपाध्याय को पार्टी से निकाला जाना जरूरी हो गया है. 

Uttarakhand: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय BJP में हो सकते हैं शामिल, कांग्रेस ने 6 साल के लिए किया निष्कासित

Uttarakhand Chunav 2022: उत्तराखंड विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस (Uttarakhand Congress) को बड़ा झटका लग सकता है. बताया जा रहा है कि पार्टी के पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय (Kishore Upadhyay) बीजेपी (BJP) में शामिल होने वाले हैं. दरअसल, हाल ही में खबर आई थी कि उत्तराखंड के पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय को 'पार्टी विरोधी गतिविधियों' के आरोप में अगले 6 साल के लिए निष्कासित कर दिया गया. अब खबर आ रही है कि वह बीजेपी का दामन थामने वाले हैं.

Uttarakhand Chunav: कांग्रेस ने जारी की तीसरी लिस्ट, हरीश रावत को नहीं मिली रामनगर सीट, अब यहां से लड़ेंगे चुनाव

निष्कासित करते हुए कांग्रेस ने दिया क्या बयान?
गौरतलब है कि उत्तराखंड कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव ने ही किशोर उपाध्याय से सभी जिम्मेदारियां वापस लेने का आदेश दिया था. इस दौरान उन्होंने कहा था कि उत्तराखंड के लोगों को बदलाव का इंतजार है और इसलिए बीजेपी को हटाना चाहते हैं. देवेंद्र का कहना है कि बीजेपी नेतृत्व से लोग खासा नाराज दिख रहे हैं. ऐसे में उन्होंने पत्र में लिखा कि चुनौतियों का सामना करते हुए देवभूमि और यहां की जनता की सेवा करना हर कांग्रेसी का कर्तव्य है. लेकिन, किशोर उपाध्याय इस लड़ाई को और लोगों के हितों को कमजोर करने में लगे हैं. किशोर उपाध्याय को लेकर देवेंद्र यादव ने कहा कि वह बीजेपी के साथ मिलनसार नजर आ रहे हैं. 

कांग्रेस ने कई बार दी चेतावनी
पत्र में बताया गया है कि कांग्रेस पार्टी की तरफ से किशोर उपाध्याय को व्यक्तिगत रूप से कई बार चेतावनी दी गई. इसके बावजूद, उनकी पार्टी विरोधी गतिविधियां नहीं रुक रही हैं. ऐसे में किशोर उपाध्याय को पार्टी से निकाला जाना जरूरी हो गया है. 

बीजेपी से कांग्रेस आए हरक रावत
जानकारी के लिए बता दें कि कुछ दिन पहले ही बीजेपी सरकार में वन मंत्री रहे हरक सिंह रावत ने भाजपा का दामन छोड़ कांग्रेस का हाथ थाम लिया. 21 जनवरी को हरक रावत ने अपनी बहू अनुकृति के साथ कांग्रेस की सदस्यता ले ली थी. वहीं, अनुकृति गुसाईं रावत को लैंसडाउन से टिकट दे दिया गया है. हालांकि, हरक रावत की सीट कोटद्वार से अभी तक कोई प्रत्याशी नहीं उतारा गया है.

WATCH LIVE TV

Trending news