बाबरी विध्वंस केस: स्पेशल CBI कोर्ट में LK आडवाणी ने दर्ज कराया अपना बयान, जानिए क्या कहा?
topStories0hindi717099

बाबरी विध्वंस केस: स्पेशल CBI कोर्ट में LK आडवाणी ने दर्ज कराया अपना बयान, जानिए क्या कहा?

लालकृष्ण आडवाणी ने कोर्ट से कहा कि तत्कालीन केंद्र सरकार ने राजनीतिक द्वेष के चलते उनपर कार्रवाई की, वह इस मामले में पूरी तरह निर्दोष हैं. न्यायाधीश एसके यादव की अदालत में 92 वर्षीय आडवाणी के बयान दर्ज कराते समय उनके वकील विमल कुमार श्रीवास्तव, केके मिश्रा और अभिषेक रंजन मौजूद थे. 

बाबरी विध्वंस केस: स्पेशल CBI कोर्ट में LK आडवाणी ने दर्ज कराया अपना बयान, जानिए क्या कहा?

लखनऊ: बाबरी मस्जिद विध्वंस केस में देश के पूर्व उप प्रधानमंत्री एवं गृह मंत्री लालकृष्ण आडवाणी ने शुक्रवार को विशेष सीबीआई अदालत के सामने अपना बयान दर्ज कराया. लालकृष्ण आडवाणी ने दिल्ली स्थित अपने आवास से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कोर्ट के सामने अपना बयान दर्ज कराया. विशेष सीबीआई कोर्ट ने सीआरपीसी की धारा 313 के तहत बयान दर्ज किए. पूर्व गृहमंत्री लालकृष्ण आडवाणी ने विशेष सीबीआई अदालत के सामने दी गई अपनी गवाही में कहा कि यह पूरा मामला राजनीतिक द्वेष का है.

लालकृष्ण आडवाणी ने कोर्ट से कहा कि तत्कालीन केंद्र सरकार ने राजनीतिक द्वेष के चलते उनपर कार्रवाई की, वह इस मामले में पूरी तरह निर्दोष हैं. न्यायाधीश एसके यादव की अदालत में 92 वर्षीय आडवाणी के बयान दर्ज कराते समय उनके वकील विमल कुमार श्रीवास्तव, केके मिश्रा और अभिषेक रंजन मौजूद थे. सीबीआई की ओर से वकील ललित सिंह, पी चक्रवर्ती और आरके यादव मौजूद रहे. आपको बता दें कि अयोध्या में 6 दिसम्बर 1992 को कारसेवकों की भीड़ ने बाबरी मस्जिद को ढहा दिया था.

बाबरी विध्वंस मामले में मुरली मनोहर जोशी का बयान दर्ज, जानें कोर्ट के सामने क्या कहा?

इस मामले में सीबीआई ने 32 लोगों को आरोपी बनाया है. विशेष सीबीआई अदालत केस की रोजाना सुनवाई कर रही है. सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के अनुरूप विशेष सीबीआई कोर्ट को 31 अगस्त तक मामले में सुनवाई पूरी कर लेनी है. भाजपा नेता उमा भारती और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह इस मामले में अपने बयान दर्ज करा चुके हैं. लालकृष्ण आडवाणी के साथ राम मंदिर आंदोलन का नेतृत्व करने वाले भाजपा नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री मुरली मनोहर जोशी भी अपना बयान दर्ज करा चुके हैं.

भाजपा नेता मुरली मनोहर जोशी बीते 23 जुलाई को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए विशेष सीबीआई अदालत के समक्ष अपना बयान दर्ज कराया था. उन्होंने अपने बयान में कहा था कि वह बाबरी मस्जिद ढहाए जाने के मामले में निर्दोष हैं और केन्द्र की तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने राजनीतिक बदले की भावना से उन्हें इस मामले में गलत तरीके से फंसाया है. उन्होंने आरोप लगाया था कि अभियोजन पक्ष की तरफ से इस मामले में पेश किए गए सबूत झूठे और राजनीति से प्रेरित हैं.

WATCH LIVE TV

Trending news