विधानसभा में रीट धांधली पर फिर बना गतिरोध, गुलाबचंद कटारिया ने खडें किए कई सवाल
topStories1rajasthan1098067

विधानसभा में रीट धांधली पर फिर बना गतिरोध, गुलाबचंद कटारिया ने खडें किए कई सवाल

विधानसभा में रीट धांधली (REET Paper Leak case) पर सोमवार को 2 घंटे की बहस के बावजूद फिर गतिरोध बन गया. भाजपा विधायकों (BJP MLAs) ने दो घंटे की बहस के बाद ससंदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल (Shanti Kumar Dhariwal) के जवाब के बाद वेल में आकरहंगामा शुरू कर दिया. धारीवाल ने सीबीआई जांच (CBI Probe In REET) की मांग ठुकराते हुए जब निंबाराम के बहाने आरएसएस (RSS) पर आरोप लगाए तो भाजपा विधायकों ने आपत्ति की. 

विधानसभा में रीट धांधली पर फिर बना गतिरोध, गुलाबचंद कटारिया ने खडें किए कई सवाल

Jaipur: विधानसभा में रीट धांधली (REET Paper Leak case) पर सोमवार को 2 घंटे की बहस के बावजूद फिर गतिरोध बन गया. भाजपा विधायकों (BJP MLAs) ने दो घंटे की बहस के बाद ससंदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल (Shanti Kumar Dhariwal) के जवाब के बाद वेल में आकरहंगामा शुरू कर दिया. धारीवाल ने सीबीआई जांच (CBI Probe In REET) की मांग ठुकराते हुए जब निंबाराम के बहाने आरएसएस (RSS) पर आरोप लगाए तो भाजपा विधायकों ने आपत्ति की. धारीवाल के जवाब के बाद भाजपा विधायक दल के उप नेता राजेंद्र राठौड़ (Rajendra Rathore) ने कहा कि ससंदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल गुमराह कर रहे हैं. बाद में नाराज भाजपा विधायकों ने सीबीआई जांच की मांग करते हुए वेल में आकर नारेबाजी शुरू कर दी.

यह भी पढ़ें- रीट पेपर लीक को लेकर प्रदर्शन जारी, CBI जांच को लेकर बीडी कल्ला ने दिया ये बयान

आज सदन में रीट धांधली के मुदृदे पर कई दिनों से चला आ रहा गतिरोध दूर हो गया. हंगामे के लिए जिम्मेदार चार भाजपा विधायकों का निलंबन रद्द हो गया है. सदन की कार्यवाही शुरू होते ही नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया (Gulab Chand Kataria) और उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने गतिरोध तोड़ने की बात कही. नेता प्रतिपक्ष ने पहले निलंबित चार विधायकों को सदन में बुलाने और उनका निलंबन रद्द करने की शर्त रखी. इसके बाद ससंदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल ने चारों विधायकों की निलंबन वापसी की घोषणा की. चारों विधायकों की निलंबन वापसी की घोषणा के बाद विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी (CP Joshi) ने प्रश्नकाल स्थगित करके सदन में रीट (REET Exam 2021) पर चर्चा शुरू हुई.

रीट (REET) पर बहस के दौरान संसदीय कार्य मंत्री धारीवाल ने कहा कि कार्यमंत्री भाजपा राज में आरएसएस और भाजपा के अनुशांगिक संगठनों के रिटायर्ड लोगों को डिस्ट्रिक्ट कॉर्डिनेटर लगाया जाता था. प्राइवेट कॉलेज में काम करने वाले डॉ. एसएन नाथवत को रीट परीक्षा (REET 2021) में जिला कॉर्डिनेटर बनाया था.

पाराशर जैसे व्यक्ति को हमने को-ऑर्डिनेटर लगा दिया, जिसकी वजह से हमें नीचे देखना पड़ रहा है. एक व्यक्ति की वजह से पूरे संगठन को बदनाम नहीं कर सकते. क्या-क्या काम नहीं किए हैं राजीव गांधी स्टडीसर्कल ने, कई सेमीनार और अन्य आयोजन किए हैं. एक व्यक्ति की वजह से आप पूरे संगठन को बदनाम करो तो आपका आरएसएस तो बदनाम हो चुका. निंबाराम को लेकर बीवीजी कंपनी (BVG Company) के एक पेमेंट के मामले में जो हुआ वह सबके सामने आया. संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल ने कहा कि आज के पीएम ने पहले सीबीआई (CBI) के बारे में कहा था कि कांग्रेस ने सीबीआई कांग्रेस ब्यूरो ऑफ इंवेस्टिगेशन बन चुकी है. सीबीआई को लेकर सुप्रीम कोर्ट जज ने कहा था कि वह तो तोता है.

यह भी पढ़ें- विकास जाखड़ का विधानसभा घेराव आज, REET और CM Gehlot को लेकर कही ये बड़ी बात

प्रतिपक्ष नेता गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि किस कोचिंग से कितने बच्चे पास हुए, उसका मिलान करना जरूरी है. आप अगर ईमानदारी से पिछली भर्तियों की जांच करोगे तो 25 से 30 फीसदी ऐसे मिलेंगे, जिन्होंने गलत तरीके अपनाकर या नकल करके नौकरी पाई है.

उन्होंने कहा कि राजीव गांधी स्टडी सर्किल के जरिए पूरा बंटाधार हुआ. वर्ष 2012 में टेट हुई, तब आज के आयुर्वेद राज्यमंत्री सुभाष गर्ग राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष थे. उस समय नरेंद्र तंवर जो गर्गका खास था, उसके घर छापा पड़ा तो 50 करोड़ की एफडी मिली थी. जीके माथुर भी पकड़े गए थे, ये सारेलोग गर्ग के खास थे. 

रीट पर चर्चा में हिस्सा लेते हुए भाजपा विधायक दल के उप नेता राजेंद्र राठौड़ ने कहा कि पहले के शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasra News) कहा करते थे कि रीट परीक्षा का नाम गिनीज बुक (Guinness World Records) में दर्ज होगा. गिनीज बुक में होगा, रीट में जितनी चांदी कूटी गई है, उसका नाम जरूर गिनीज बुक में दर्ज होगा. जिन परीक्षा केंद्रों को ब्लैक लिस्ट किया, वे सफेद कैसे हो गए. वर्ष 2011 में ब्लैक लिस्टेड कोलकाता की प्रिंटिंग प्रेस को क्यों पेपर छापने का काम दिया गया ?

यह भी पढ़ें- 2 कारोबारी समूह पर आयकर विभाग की छापेमारी, 41 करोड़ रुपये की काली कमाई पकड़ी

रीट धांधली (REET Paper Leak Update) पर सदन में जवाब देते हुए शिक्षा मंत्री डॉ. बीडी कल्ला (BD Kalla) ने कहा कि नकल गैंग पुरानी समस्या रही है. हम अब नकल रोकने और गैंग रोकने के लिए हम कड़ा कानून बना रहे हैं. हमने वीके व्यास की अध्यक्षता में कमेटी बना दी है, यह कमेटी 45 दिन में रिपोर्ट देगी. हम ऐसा कानून लाएंगे, जिसमें नकल करने वाले बचेंगे नहीं.

डॉ.कल्ला ने कहा कि भाजपा के शासनकाल में भी प्राइवेट लोगों को समन्वयक बनाए जाते थे. इस परीक्षा में 39 जिला समन्वयक वही थे जो भाजपा शासनकाल में वर्ष 2016 में थे. एक दो गलत लोगों की वजह से पूरे बोर्ड को बदनाम नहीं किया जा सकता. एसओजी किसी को बख्शेगी नहीं. सीएम गहलोत (CM Gehlot) इस मामले में सख्त हैं, किसी को नहीं छोड़ेंगे. जहां-जहां ट्रेजरी में जगह नहीं थी, वहां दूसरी जगह पेपर रखे गए. जिलास्तरीय समिति की मंजूरी के बाद ही पेपर रखे गए थे. 

Trending news