Rajasthan में 10 फरवरी से खुलेंगे कक्षा 6 से 9वीं तक की क्लासेज, करना होगा इन नियमों का पालन
topStories1rajasthan1085733

Rajasthan में 10 फरवरी से खुलेंगे कक्षा 6 से 9वीं तक की क्लासेज, करना होगा इन नियमों का पालन

कोरोना की तीसरी लहर (Corona Third Wave) के चलते शहरी क्षेत्रों में स्कूलों को बंद करने का फैसला लिया गया, लेकिन 15 साल से 18 साल तक के बच्चों का वैक्सीनेशन (Covid Vaccination Update) करीब 65 फीसदी तक होने के चलते प्रदेश सरकार (Gehlot Government) की ओर से फिर से स्कूलों को खोलने का फैसला लिया गया.

Rajasthan में 10 फरवरी से खुलेंगे कक्षा 6 से 9वीं तक की क्लासेज, करना होगा इन नियमों का पालन

Jaipur: कोरोना की तीसरी लहर (Corona Third Wave) के चलते शहरी क्षेत्रों में स्कूलों को बंद करने का फैसला लिया गया, लेकिन 15 साल से 18 साल तक के बच्चों का वैक्सीनेशन (Covid Vaccination Update) करीब 65 फीसदी तक होने के चलते प्रदेश सरकार (Gehlot Government) की ओर से फिर से स्कूलों को खोलने का फैसला लिया गया. प्रथम चरण में 1 फरवरी से कक्षा 10वीं से 12वीं तक की स्कूलों की आज से शुरुआत हुई. स्कूल पहुंचे बच्चों में जहां खासा उत्साह नजर आ रहा था तो वहीं बच्चों को देखकर शिक्षकों के चेहरों पर भी खुशी नजर आ रही थी.

आज से कक्षा 10वीं से 12वीं तक की खुली स्कूलों के लिए शिक्षा विभाग की ओर से एसओपी भी जारी की गई है. स्कूल पहुंचने से पहले जहां बच्चों के अभिभावकों से सहमति पत्र लेना जरुरी होगा, तो वहीं इस दौरान ना तो प्रार्थना सभा का आयोजन होगा और ना ही बच्चे गुट बनाकर एक जगह एकत्रित होंगे, इसकी जिम्मेदारी भी शिक्षकों की तय की गई है. साथ ही जो बच्चे स्कूल नहीं आना चाहते हैं उनके लिए ऑनलाइन क्लासेज (Online Classes) का संचालन करने के निर्देश भी शिक्षा विभाग की ओर से दिए गए हैं. 

यह भी पढ़ें- Rajasthan Weather Alert: प्रदेश में होगा एक नया पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय, इन जिलों में होगी बारिश

10वीं से 12वीं तक की स्कूलों की शुरूआत जहां आज हो चुकी है तो वहीं कक्षा 6 से 9वीं तक की क्लासेज की शुरुआत 10 फरवरी से होगी. हालांकि 5वीं या उससे नीचे की स्कूलों को खोलने का फैसला अभी सरकार की ओर से नहीं लिया गया है, लेकिन संभावना जताई जा रही है कि सरकार से कक्षा 6 से नीचे की स्कूलों को खोलने का फैसला भी इसी महीने लिया जा सकता है. 

स्कूल पहुंचे बच्चों में खासा उत्साह नजर आ रहा था. बच्चों का कहना था की ऑनलाइन पढ़ाई उस तरह से नहीं होती है जैसी पढ़ाई स्कूल में शिक्षकों द्वारा ऑफलाइन करवाई जाती है, तो वहीं 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा के विद्यार्थियों का भी कहना था कि बोर्ड परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करने के लिए स्कूल आना बहुत जरुरी है. पहली डोज ली जा चुकी है तो वहीं अब पूरा ध्यान कक्षाओं में पढ़ाई पर लगाना है. 

Trending news