रीट पेपर लीक को लेकर प्रदर्शन जारी, CBI जांच को लेकर बीडी कल्ला ने दिया ये बयान
topStories1rajasthan1097672

रीट पेपर लीक को लेकर प्रदर्शन जारी, CBI जांच को लेकर बीडी कल्ला ने दिया ये बयान

रीट परीक्षा पेपर लीक प्रकरण (REET Paper Leak Case) को लेकर प्रदेश भर में धरने प्रदर्शनों का दौर जारी है. इसी कड़ी में विधानसभा के बजट सत्र (Vidhan Sabha Budget Session) में भी विपक्ष रीट पेपर लीक प्रकरण की जांच सीबीआई (CBI Probe In REET) से करवाने के लिए सरकार पर दबाव बना रहा है. 

रीट पेपर लीक को लेकर प्रदर्शन जारी, CBI जांच को लेकर बीडी कल्ला ने दिया ये बयान

Jaipur: रीट परीक्षा पेपर लीक प्रकरण (REET Paper Leak Case) को लेकर प्रदेश भर में धरने प्रदर्शनों का दौर जारी है. इसी कड़ी में विधानसभा के बजट सत्र (Vidhan Sabha Budget Session) में भी विपक्ष रीट पेपर लीक प्रकरण की जांच सीबीआई (CBI Probe In REET) से करवाने के लिए सरकार पर दबाव बना रहा है. 

यह भी पढ़ें- विकास जाखड़ का विधानसभा घेराव आज, REET और CM Gehlot को लेकर कही ये बड़ी बात

इसको लेकर प्रदेश के शिक्षा मंत्री बीडी कल्ला (BD Kalla On REET), जलदाय मंत्री महेश जोशी (Mahesh Joshi On BJP) ने भाजपा पर हमला बोलते हुए कहा कि बीजेपी पेपर लीक प्रकरण की सीबीआई जांच करवाने की मांग कर रहा है जो गलत है. भाजपा जब सरकार में थी उस समय पेपर लीक हुए थे उसकी जांच किसी भी एजेंसी से नहीं करवाई गई. 

मंत्री ने कहा एसओजी (SOG) सही दिशा में जांच कर रही है जिसके चलते अभी तक कई लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है, और सरकार के स्तर पर कई लोगों को बर्खास्त भी किया गया है. पिछले 3 सालों में 1 लाख लोगों को सरकारी नौकरी मिल चुकी है. आने वाले दिनों में फिर से 1 लाख लोगों को सरकारी नौकरी देने की प्रक्रिया चल रही है. भाजपा नहीं चाहती कि प्रदेश (Rajasthan News) के लोगों को सरकारी नौकरी मिले जिससे प्रदेश की बेरोजगारी कम हो और लोगों को नौकरी के अवसर मिले. 

यह भी पढ़ें- CM Gehlot से मसूदा विधायक राकेश पारीक ने की अपील, इन मुख्य मांगों को लेकर सौंपा प्रस्ताव

उन्होंने कहा भाजपा के विधायकों को विधानसभा (Rajasthan Vidhan Sabha) के एक्ट के बारे में कुछ मालूम ही नहीं है जब कोई भी मामला हाई कोर्ट (High Court) या दूसरी अदालत में चल रहा हो तो उसकी बात विधानसभा में नहीं की जा सकती लेकिन बीजेपी गलत तथ्य पेश कर हंगामा कर रही है. सरकार ने हाई कोर्ट के रिटायर्ड जज की अध्यक्षता में 3 सदस्यों की कमेटी बनाई है, जो 45 दिन में अपनी रिपोर्ट सरकार को प्रस्तुत करेगी. उस रिपोर्ट के आधार पर 1993 में बने पेपर लीक एक्ट में शुद्धीकरण कर विधानसभा के इसी सत्र में लागू करवाया जाएगा.
Report- Anoop sharma

Trending news