Uttarakhand Election:राहुल गांधी का पीएम मोदी पर हमला, कहा- मुझ पर नहीं चलता ED व CBI का दबाव
topStorieshindi

Uttarakhand Election:राहुल गांधी का पीएम मोदी पर हमला, कहा- मुझ पर नहीं चलता ED व CBI का दबाव

हरिद्वार जिले के मंगलौर में कांग्रेस प्रत्याशी के समर्थन में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री ने एक साक्षात्कार में कहा था कि राहुल सुनता नहीं है. उन्होंने कहा कि इस लाइन का मतलब आपको मैं बताता हूं. इसका मतलब है कि राहुल पर ED और CBI का दबाव नहीं चलता है.  

 

Uttarakhand Election:राहुल गांधी का पीएम मोदी पर हमला, कहा- मुझ पर नहीं चलता ED व CBI का दबाव

देहरादूनः उत्तराखंड में एक चरण में सभी 70 विधानसभा सीटों पर 14 फरवरी को मतदान होना है. इसके नतीजे 10 मार्च को आएंगे. ऐसे में वहां, चुनाव प्रचार जोरों पर है. राजनीतिक दल एक दूसरे पर जोरदार हमला कर रहे हैं. दिल्ली से भी बड़े-बड़े नेता चुनाव प्रचार को लेकर पहाड़ी राज्य में पहुंच रहे हैं. इसी कड़ी में कांग्रेस नेता राहुल गांधी भी चुनाव प्रचार के लिए हरिद्वार पहुंचे थे.

पीएम के इंटरव्यू का दिया जवाब

हरिद्वार जिले के मंगलौर में कांग्रेस प्रत्याशी काजी निजामुद्दीन के पक्ष में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री ने एक साक्षात्कार में कहा था कि राहुल सुनता नहीं है. उन्होंने कहा कि इस लाइन का मतलब आपको मैं बताता हूं. इसका मतलब है कि राहुल पर ED और CBI का दबाव नहीं चलता है. 

बीजेपी ने बनाए दो हिंदुस्तान

गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री सोचते हैं कि सबको उनसे डर लगता है, लेकिन उन्हें उनसे डर नहीं लगता. उल्टा उनके अहंकार को देखकर मुझे हंसी आती है. देश को अरबपतियों और गरीबों के दो हिस्सों में बांटकर 'दो हिंदुस्तान' बनाने के अपने आरोप को दोहराते हुए कांग्रेस नेता ने दावा किया कि प्रधानमंत्री ने नोटबंदी और गलत GST जैसे फैसलों को लागू कर छोटे व्यापारियों, दुकानदारों, किसानों और मजदूरों को बर्बाद कर दिया है.

बीजेपी को हुआ नोटबंदी का फायदा

उन्होंने लोगों से पूछा कि क्या नोटबंदी से देश में काला धन समाप्त हो गया? कांग्रेस नेता ने कहा कि यह कालाधन सफेद हो गया और भाजपा को मिल गया. मोदी सरकार की गलत नीतियों के कारण उत्तराखंड सहित पूरा देश बेरोजगारी की समस्या से जूझ रहा है. देश को रोजगार अरबपति नहीं, बल्कि छोटे व्यापारी, दुकानदार और किसान देते हैं, जिन्हें केंद्र सरकार ने बर्बाद कर दिया है.

महामारी में भी विफल रही सरकार

राहुल गांधी ने कोरोना महामारी से निपटने में विफल रहने का भी आरोप लगाया और कहा कि जहां दूसरे देशों ने अपने नागरिकों से इससे सावधान रहने को कहा. जबकि, मोदी ने लोगों से थाली बजाने और मोबाइल फोन की रोशनी जलाने को कहा. जब आपके माता-पिता और बच्चों को ऑक्सीजन और वेंटिलेटर की जरूरत थी, तो आपकी सरकार कहां थी? गांधी ने यह भी आरोप लगाया कि कोरोना महामारी के समय केंद्र सरकार ने मजदूरों को सड़कों पर बेसहारा छोड़ दिया. जबकि, कांग्रेस द्वारा उनके लिए ​की गई बसों की व्यवस्था को भी भाजपा की सरकारों ने लेने से मना कर दिया.

लोगों को बनाया बेरोजगार

कांग्रेस नेता ने कहा कि केंद्र सरकार ने हर साल दो करोड युवाओं को रोजगार देने का वादा किया था, लेकिन उनका भी रोजगार छीन लिया गया, जिनके पास रोजगार था. उन्होंने दावा किया कि UPA सरकार ने अपने 10 साल के कार्यकाल में 27 करोड लोगों को गरीबी से निकाला था. मोदी सरकार ने पिछले सात सालों में 23 करोड लोगों को दोबारा गरीबी में धकेल दिया.

चंद अरबपतियों को पहुंच रहा है फायदा

गांधी ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री गरीबों की जेब से धन निकालकर चंद अरबपतियों को फायदा पहुंचा रहे हैं. आज के हिंदुस्तान में 100 लोगों के पास उतना धन है, जितना देश की 40 प्रतिशत आबादी के पास है. उन्होंने अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट के बावजूद देश में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढोत्तरी का उदाहरण दिया और कहा कि जब आप पेट्रोप पंप पर जाते हो, आपकी जेब में से पैसा निकलता है और सीधा हिंदुस्तान के दो-तीन अरबपतियों में डायरेक्ट ट्रांसफर हो जाता है.

बीजेपी में लगी चोरों की लाइन

गांधी ने उत्तराखंड में पांच साल में तीन मुख्यमंत्री बदलने का मुद्दा भी उठाया और आरोप लगाया कि उनके 'भ्रष्ट और चोर' होने के कारण उन्हें हटाया गया. उन्होंने कहा कि भाजपा में चोरों की लाइन लगी हुई है और एक के बाद एक नया मुख्यमंत्री लाकर उसे चोरी का मौका दिया गया. मोदी को प्रधानमंत्री नहीं बल्कि 'राजा' बताते हुए कांग्रेस नेता ने आलोचना करते हुए कहा कि वह यह सोचते हैं कि पिछले 70 साल में किसी ने कोई काम नहीं किया और केवल उनके आने के बाद से ही देश जागा है. उन्होंने जनता से प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनाने का आग्रह करते हुए कहा कि यह उनकी अपनी सरकार होगी, जहां हर वर्ग का ध्यान रखा जाएगा. गांधी ने कहा कि कांग्रेस ने समाज के हर वर्ग से बातचीत कर अपना घोषणापत्र 'चारधाम, चारकाम' बनाया है, जिसके तहत रसोई गैस सिलें​डर की कीमत 500 रुपये से ज्यादा न होने देने, चार लाख युवाओं को रोजगार देने, हर साल पांच लाख गरीब परिवारों को सालाना 40 हजार रुपये देने और घर-घर स्वास्थ्य सेवाएं पहुंचाने का वादा किया गया है.

(इनपुट-भाषा)

लाइव टीवी

Trending news