OckyPocky: इस ऑनलाइन किंडरगार्टन से लाखों नन्हे-मुन्ने सीखते हैं अंग्रेज़ी, हर महीने सीखते हैं 3 करोड़ से भी ज़्यादा शब्द
topStorieshindi

OckyPocky: इस ऑनलाइन किंडरगार्टन से लाखों नन्हे-मुन्ने सीखते हैं अंग्रेज़ी, हर महीने सीखते हैं 3 करोड़ से भी ज़्यादा शब्द

OckyPocky पर फिलहाल मराठी और हिंदी के माध्यम से अंग्रेजी पढ़ाई जा रही है. लेकिन आगे कई और भाषाओं को इस ऐप में जोड़ा जाएगा. OckyPocky के फाउंडर और सीईओ अमित अग्रवाल हैं.

 

OckyPocky: इस ऑनलाइन किंडरगार्टन से लाखों नन्हे-मुन्ने सीखते हैं अंग्रेज़ी, हर महीने सीखते हैं 3 करोड़ से भी ज़्यादा शब्द

English Learning App: डिजिटल इंडिया का नारा देते समय शायद देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) ने भी नहीं सोचा होगा कि एक दशक से भी कम समय में इस डिजिटल क्रांति का असर इतना बड़ा हो जाएगा कि देश के किसी भी कोने में बैठे परिवार का बच्चा मात्र एक मोबाइल एप के ज़रिए अंग्रेजी बोलना- पढ़ना सीख पाएगा. और एक ऐसा दिन भी आएगा जब देश के सबसे बड़े स्कूल में पढ़ने वाले नौनिहालों की संख्या से दोगुने बच्चे ऑनलाइन पढ़ सकेंगे.

अमित अग्रवाल ने कर दिखाया ये काम

ये सपना आज हकीक़त है और इसे सच कर दिखाया है उत्तर प्रदेश के एक गांव में पले-बढ़े OckyPocky के फाउंडर और सीईओ अमित अग्रवाल और टीम ने. IIM से मैनेजमेंट की पढाई करने वाले अमित को भी उम्मीद नहीं थी कि इतने कम वक़्त में लाखों बच्चे उनकी बनाई एप के ज़रिए अंग्रेजी बोलना सीख सकेंगे. लेकिन ये सच है कि आज उत्तर प्रदेश के गांव से लेकर महाराष्ट्र के छोटे शहर और दिल्ली-मुंबई जैसे महानगर तक के नन्हे-मुन्ने बच्चे इस मोबाइल एप के ज़रिए खेल-खेल में अंग्रेजी बोलना सीख रहे हैं.

अंग्रेज़ी को लेकर अपने अनुभवों से सीख लेकर बनाई एप

अमित अग्रवाल YouTube इंडिया के हेड रह चुके हैं. उन्होंने ही अपनी टीम के साथ मिलकर इस ऐप की खोज की है. ये ऐप कम उम्र (4 से 12 साल तक) के बच्चों के बर्ताव के साथ पूरी तरह से तालमेल बिठाते हुए उन्हें बहुत ही आसान और मनोरंजक तरीके से अंग्रेजी बोलना सीखने में मदद करता है. अमित की माने तो देश में आज लाखों बच्चे प्रतिदिन उनकी इस ऐप का इस्तेमाल कर आसानी से अंग्रेजी बोलना सीख रहे हैं. उनके मुताबिक अभी हाल ही में OckyPocky एप ने प्रतिदिन औसतन 1 लाख अथवा अधिक यूज़र का आँकड़ा छुआ है. ऐप की इस सफलता से अमित और उनकी पूरी टीम खासी उत्साहित है.

 

 

बच्चों को सिखाने का तरीका बेहद अनोखा और मज़ेदार

OckyPocky बच्चों को किस तरह इंग्लिश सिखाता है? इस सवाल पर अमित ने बताया कि OckyPocky के इंटरफेस को डिजाइन करते वक्त हमने बच्चों के बर्ताव को पूरी तरह से ध्यान में रखा. उदहारण के लिए OckyPocky ऐप में बंदर (Monkey) के बारे में ठीक वैसे ही बताया गया है जैसे हम या आप उसे सामने से देखते हैं, तमाम शब्दों के बारे में बताने के लिए बड़े ही नैचुरल तरीके से लकड़ी की थीम और प्राकृतिक रंगों का इस्तेमाल किया है. यानी बताने का तरीका इतना ज़्यादा इंटरेस्टिंग और इंटरैक्टिव होता है कि बच्चा इस ऐप को अपना दोस्त मान ले. 

एप का और भी बेहतर वर्जन बनाने पर चल रहा है काम 

OckyPocky पर फिलहाल मराठी और हिंदी के माध्यम से अंग्रेजी पढ़ाई जा रही है. लेकिन आगे कई और भाषाओं को इस ऐप में जोड़ा जाएगा. बता दें कि इस ऐप के जरिए हर दिन छोटे बच्चे 30 से 40 शब्द सीख रहे हैं. अमित कहते हैं कि आने वाले समय में उनकी टीम OckyPocky का एडवांस्ड वर्जन लाने की तैयारी कर रही है जो इतना मजेदार और इफेक्टिव होगा कि उससे बच्चे और भी जल्दी और प्रभावी तरीके से अंग्रेजी बोलना सीख सकेंगे.

अमरीकी निवेशकों ने भी जताया OckyPocky पर भरोसा

OckyPocky की इस सफलता से एप के इन्वेस्टर्स भी काफी उत्साहित हैं. अभी हाल ही में OckyPocky में अमेरिका की सिलिकॉन वैली स्थित इन्वेस्टर ग्रुप Goodwater Capital और नवल रविकांत के Quant Fund ने भी निवेश किया है. एक ऐसे समय में जब कई प्रतिष्ठित स्टार्टअप को फंडिंग के लिए काफ़ी मेहनत और मशक्क़त करनी पड़ रही है, उस समय इतने बड़े निवेशकों का OckyPocky पर भरोसा जताना यह दर्शाता है कि इस एप के लिए भारत के अंग्रेजी शिक्षा के क्षेत्र में अपार संभावनाएं हैं.

ये ख़बर आपने पढ़ी देश की नंबर 1 हिंदी वेबसाइट Zeenews.com/Hindi पर

Trending news